2 results found for ''vijay rath''
Rath Yatra : यहां भगवान को मौसीबाड़ी पहुंचने में लग जाते हैं दो दिन...
सरायकेला : प्रभु जगन्नाथ को कलयुग में जगत के पालनहार श्रीहरि विष्णु का अवतार माना जाता है. प्रभु जगन्नाथ साल में एक बार रथ पर सवार होकर भक्तों को दर्शन देते हुए अपने जन्मस्थान गुंडिचा जाते हैं. इसे रथ यात्रा, गुंडिचा यात्रा या घोष यात्रा कहा जाता है. गुरुवार को इस वर्ष प्रभु जगन्नाथ बड़े भाई बलभद्र व बहन सुभद्रा के साथ रथ पर सवार होकर मौसीबाड़ी गुंडिचा मंदिर के लिए चल पड़े हैं. 12 जुलाई को भाई-बहन के साथ श्रीमंदिर लौटेंगे.
Rath Yatra : यहां भगवान को मौसीबाड़ी पहुंचने में लग जाते हैं दो दिन...
सरायकेला : प्रभु जगन्नाथ को कलयुग में जगत के पालनहार श्रीहरि विष्णु का अवतार माना जाता है. प्रभु जगन्नाथ साल में एक बार रथ पर सवार होकर भक्तों को दर्शन देते हुए अपने जन्मस्थान गुंडिचा जाते हैं. इसे रथ यात्रा, गुंडिचा यात्रा या घोष यात्रा कहा जाता है. गुरुवार को इस वर्ष प्रभु जगन्नाथ बड़े भाई बलभद्र व बहन सुभद्रा के साथ रथ पर सवार होकर मौसीबाड़ी गुंडिचा मंदिर के लिए चल पड़े हैं. 12 जुलाई को भाई-बहन के साथ श्रीमंदिर लौटेंगे.