5 results found for ''the first election''
कमलेश तिवारी हत्याकांडः हत्यारों को हथियार देने वाला आरोपी गिरफ्तार
#: Uttar Pradesh Anti Terrorism Squad (ATS) and Gujarat ATS arrested one Yusuf Khan, an accused in the case from Kanpur on November 1.
Jharkhand Election : चुनाव लड़ने वाली पार्टियों की संख्या बढ़ी, प्रत्याशियों में आयी कमी
रांची : झारखंड में अब तक तीन विधानसभा चुनाव हुए हैं. हर चुनाव में भाग लेने वाली पार्टियों की संख्या बढ़ी है, लेकिन प्रत्याशियों की संख्या में निरंतर गिरावट दर्ज की गयी है. वर्ष 2005 में पहली बार झारखंड विधानसभा के लिए चुनाव हुआ था. उस चुनाव में 6 राष्ट्रीय दलों समेत 50 पार्टियां शामिल हुईं. निर्दलीयों की भी अच्छी-खासी संख्या थी. वर्ष 2009 में पार्टियों की संख्या बढ़कर 63 हो गयी और 2014 के चुनावों में यही संख्या 65 तक पहुंच गयी. 2005 में कुल 1390 उम्मीदवार मैदान में थे, जबकि 2009 में 1491 लोग चुनाव के मैदान में उतारे गये या उतरे. इस बार प्रत्याशियों की संख्या पिछले चुनाव की तुलना में कुछ ज्यादा थी. वहीं, वर्ष 2014 के विधानसभा चुनाव में प्रत्याशियों की संख्या घटकर 1217 रह गयी.
Jharkhand Election : चुनाव लड़ने वाली पार्टियों की संख्या बढ़ी, प्रत्याशियों में आयी कमी
रांची : झारखंड में अब तक तीन विधानसभा चुनाव हुए हैं. हर चुनाव में भाग लेने वाली पार्टियों की संख्या बढ़ी है, लेकिन प्रत्याशियों की संख्या में निरंतर गिरावट दर्ज की गयी है. वर्ष 2005 में पहली बार झारखंड विधानसभा के लिए चुनाव हुआ था. उस चुनाव में 6 राष्ट्रीय दलों समेत 50 पार्टियां शामिल हुईं. निर्दलीयों की भी अच्छी-खासी संख्या थी. वर्ष 2009 में पार्टियों की संख्या बढ़कर 63 हो गयी और 2014 के चुनावों में यही संख्या 65 तक पहुंच गयी. 2005 में कुल 1390 उम्मीदवार मैदान में थे, जबकि 2009 में 1491 लोग चुनाव के मैदान में उतारे गये या उतरे. इस बार प्रत्याशियों की संख्या पिछले चुनाव की तुलना में कुछ ज्यादा थी. वहीं, वर्ष 2014 के विधानसभा चुनाव में प्रत्याशियों की संख्या घटकर 1217 रह गयी.
Election Results Analysis: हरियाणा, महाराष्ट्र चुनाव के नतीजों से फिर उभरे विपक्षी क्षत्रप
नयी दिल्ली : भाजपा के प्रभाव वाले महाराष्ट्र और हरियाणा में क्षेत्रीय क्षत्रपों की जोरदार वापसी ने विपक्षी दलों के क्षेत्रीय नेताओं में नये सिरे से जान फूंक दी है और इसका असर झारखंड और दिल्ली में भी देखने को मिल सकता है जहां जल्द ही विधानसभा चुनाव होने वाले हैं.