3 results found for ''population control''
World population day : धीरे-धीरे वर्ष-दर-वर्ष जवान होता जायेगा हमारा बिहार, बढ़ेगी वृद्धों की संख्या, ...पढ़ें पूरी खबर
पटना : आज विश्व जनसंख्या दिवस है. आज हम बात कर रहे हैं, बिहार की जनसंख्या की. बिहार की जनसंख्या में उत्तरोत्तर वृद्धि तो होगी, साथ ही धीरे-धीरे वर्ष-दर-वर्ष हमारा बिहार युवा होता जायेगा. यानी, बिहार में वर्ष 2011 की जनगणना के अनुपात में वर्ष 2021 से 2041 तक युवाओं की संख्या में भारी बढ़ोतरी दर्ज किये जाने की संभावना है. इस दौरान बिहार में वृद्धों की संख्या भी बिहार में बढ़ेगी. यही नहीं, इकोनॉमिक सर्वे की रिपोर्ट के मुताबिक, बिहार की जनसंख्या राष्ट्रीय जनसंख्या वृद्धि दर से अधिक होने की संभावना है.
शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार के मोर्चे पर झारखंड सरकार को करनी होगी मेहनत, आर्थिक सर्वेक्षण ने पेश की भयावह तस्वीर
रांची : विश्व के सबसे युवा देश के कई राज्यों में तेजी से आबादी (Population) बढ़ रही है. ऐसे राज्यों में झारखंड (Jharkhand) के साथ-साथ बिहार (Bihar), उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh), छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh), राजस्थान (Rajasthan) और मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) शामिल हैं. यहां टोटल फर्टिलिटी रेट (Total Fertility Rate या कुल प्रजनन दर) में अभी भी उतनी कमी नहीं आयी है, जितनी दक्षिण के राज्यों और पश्चिम बंगाल (West Bengal), हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh), पंजाब (Punjab), और महाराष्ट्र (Maharashtra) में. आर्थिक सर्वेक्षण (Economic Survey) में कहा गया है कि आगामी दो दशक में झारखंड (Jharkhand) की आबादी करीब 18 फीसदी की दर से बढ़ेगी. वर्ष 2041 में यहां की आबादी 4.46 करोड़ तक पहुंच जायेगी. इसी आधार पर सरकार को कई मोर्चे पर गंभीर चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा. देश के आर्थिक सर्वेक्षण (Economic Survey) में जो आंकड़े सामने आये हैं, वह झारखंड (Jharkhand) की भयावह तस्वीर पेश करते हैं.
शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार के मोर्चे पर झारखंड सरकार को करनी होगी मेहनत, आर्थिक सर्वेक्षण ने पेश की भयावह तस्वीर
रांची : विश्व के सबसे युवा देश के कई राज्यों में तेजी से आबादी (Population) बढ़ रही है. ऐसे राज्यों में झारखंड (Jharkhand) के साथ-साथ बिहार (Bihar), उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh), छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh), राजस्थान (Rajasthan) और मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) शामिल हैं. यहां टोटल फर्टिलिटी रेट (Total Fertility Rate या कुल प्रजनन दर) में अभी भी उतनी कमी नहीं आयी है, जितनी दक्षिण के राज्यों और पश्चिम बंगाल (West Bengal), हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh), पंजाब (Punjab), और महाराष्ट्र (Maharashtra) में. आर्थिक सर्वेक्षण (Economic Survey) में कहा गया है कि आगामी दो दशक में झारखंड (Jharkhand) की आबादी करीब 18 फीसदी की दर से बढ़ेगी. वर्ष 2041 में यहां की आबादी 4.46 करोड़ तक पहुंच जायेगी. इसी आधार पर सरकार को कई मोर्चे पर गंभीर चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा. देश के आर्थिक सर्वेक्षण (Economic Survey) में जो आंकड़े सामने आये हैं, वह झारखंड (Jharkhand) की भयावह तस्वीर पेश करते हैं.