6 results found for ''no stoppage of death''
बाजवा के सेवा विस्तार लेटर पर सोशल मीडिया ट्रेंड, इमरान को एक प्रिंटर दिला दो भाई...
पाकिस्तान सरकार द्वारा वहां के सेनाध्यक्ष जनरल क़मर जावेद बाजवा को तीन साल का सेवा विस्तार दिया गया है. लेकिन पाकिस्तान सरकार के इस फैसले की जितनी निंदा उनके देश में हो रही है, उतनी ही निंदा सोशल मीडिया पर भी हो रही है. Govt of Pakistan @pid_gov के ट्‌विटर हैंडिल से जो ट्‌वीट किया गया है, उसमें पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा हस्ताक्षर किया गया एक पत्र संलग्न है. इस लेटरहेड में कई जगह पर इंक कई जगहों पर छूटा हुआ है यानी कि प्रिंटर के कार्टेज में इंक की कमी स्पष्ट दिख रही है. पाकिस्तान सरकार के इस लेटरहेड को लेकर भी सोशल मीडिया में खूब खिंचाई हो रही है.
No First Use : परमाणु हथियारों पर राजनाथ के बयान से तिलमिलाया पाकिस्तान
पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के परमाणु हथियारों को लेकर दिये गये बयान की निंदा करते हुए उसे गैर जिम्मेदाराना और दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया.
प्रियंका चोपड़ा-दीपिका पादुकोण देश की No.1 हीरोइन
2019 की नंबर वन हीरोइन कौन हैं? एक प्रसिद्ध टीवी चैनल के सर्वे में इसका इसका खुलासा हो गया है. इस बार दो एक्ट्रेस में कड़ी टक्कर देखने को मिली है. सर्वे के अनुसार इस बार बेस्ट एक्ट्रेस की लिस्ट में दीपिका पादुकोण और प्रियंका चोपड़ा टॉप वन पर हैं. मजेदार यह है कि दोनों हीरोइनों की फिल्में 2019 में नहीं आयी हैं. प्रियंका चोपड़ा तो तीन सालों से बॉलीवुड से गायब हैं. मगर फिर भी 2019 में जनता के बीच उनकी पॉपुलैरिटी वैसी ही बनी हुई है. वहीं दीपिका आखिरी बार 2018 में आयी फिल्म पद्मावत में नजर आयी थीं.
No Smoking: और कड़े होंगे सिगरेट पीने के नियम...
नयी दिल्ली : केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सिगरेट और अन्य तंबाकू उत्पाद अधिनियम (कोटपा) में संशोधन की प्रक्रिया फिर से शुरू कर दी है ताकि खुली सिगरेटों की बिक्री पर प्रतिबंध तथा नियमों के उल्लंघन के लिए भारी जुर्माना समेत कानून के प्रावधानों को सख्त किया जा सके.
देशीय भाषाओं के अंतरराष्ट्रीय वर्ष में खास है इस बार का विश्व आदिवासी दिवस, जानें...
हर साल 9 अगस्त का दिन ''विश्व के देशीय लोगों के अंतरराष्ट्रीय दिवस'' (International Day of the World’s Indigenous People) के रूप में मनाया जाता है. आम बोलचाल की भाषा में इसे ''विश्व आदिवासी दिवस'' के रूप में जाना जाता है.