126 results found for ''lok sabha election 2019''
National Film Awards 2019: 'हेलारो' सर्वश्रेष्ठ फिल्म, आयुष्मान-विकी कौशल बेस्ट एक्टर
बॉलीवुड अभिनेता आयुष्मान खुराना और विकी कौशल ने शुक्रवार को क्रमश: फिल्म ''अंधाधुन'' और ''उरी'' के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का राष्ट्रीय पुरस्कार साझा किया, वहीं गुजराती फिल्म ''हेलारो'' को सर्वश्रेष्ठ फिल्म घोषित किया गया. गुजरात के कच्छ क्षेत्र पर बनी ''हेलारो'' का निर्देशन अभिषेक शाह ने किया था और यह महिला सशक्तिकरण की पृष्ठभूमि पर बनी है.
फॉरेन करेंसी असेट्स में कमी आने से विदेशी मुद्रा भंडार में 69.7 करोड़ डॉलर की गिरावट दर्ज
मुंबई : देश का विदेशी मुद्रा भंडार दो अगस्त को समाप्त सप्ताह में 69.72 करोड़ डॉलर घटकर 428.952 अरब डॉलर रह गया. भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा शुक्रवार को जारी आंकड़ों के अनुसार, विदेशी मुद्रा परिसंपत्ति में कमी के चलते यह गिरावट दर्ज की गयी है. इससे पहले के सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार 72.71 करोड़ डॉलर घटकर 429.649 अरब डॉलर रह गया था. विदेशी मुद्रा भंडार 19 जुलाई, 2019 को समाप्त सप्ताह में 430.376 अरब डॉलर की सर्वकालिक ऊंचाई पर पहुंच गया था.
खुशखबरी! पत्रकारों को मिल सकती है 15 हजार रुपये पेंशन, 15 अगस्त को रघुवर दास कर सकते हैं एलान
रांची : झारखंड के पत्रकारों को पेंशन की सौगात मिलने जा रही है. स्वतंत्रता दिवस (15 अगस्त, 2019) के अवसर पर मुख्यमंत्री रघुवर दास इसका एलान कर सकते हैं. पेंशन की राशि प्रति माह 15 हजार रुपये हो सकती है. 27 अगस्त, 2019 को कैबिनेट में यह प्रस्ताव आ सकता है. इसके बाद झारखंड के सेवानिवृत्त पत्रकारों को इसका लाभ मिलने लगेगा.
पटना : डीएम को सबसे बड़ी इकोफ्रेंडली रंगोली के लिए मिला प्रमाणपत्र
पटना : लोक सभा आम चुनाव 2019 के दौरान पटना के गांधी मैदान में बनायी गयी सबसे बड़ी इकोफ्रेंडली रंगोली के लिए इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्डस ने पटना डीएम कुमार रवि को प्रमाण पत्र दिया है. उनको यह प्रमाण पत्र गुरुवार को बिहार के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय में मिला.
पटना : लोकसभा के 65 प्रत्याशियों ने दी आपराधिक मामलों की जानकारी
पटना : लोकसभा चुनाव 2019 में राज्य की 40 लोकसभा सीटों से चुनाव लड़ने वाले 65 प्रत्याशियों ने अपने ऊपर चल रहे आपराधिक मामलों को विज्ञापन के माध्यम से लोगों को जानकारी दी है. भारत निर्वाचन आयोग के निर्देश पर अब इन प्रत्याशियों के नामों की सूची को सार्वजनिक रूप से प्रकाशित कर दिया गया है. प्रत्याशियों में विजयी और पराजित दोनों हैं.
विश्व आदिवासी दिवस 2019: मिलिए इन चेहरों से जिन्‍होंने पाया खास मुकाम, कहा- हमारी संस्‍कृति हमारी पहचान
आज विश्व आदिवासी दिवस है. इस दौरान आदिवासियों की मौजूदा हालात, समस्‍याएं और उनकी उपलब्धियों पर चर्चा हो रही है. प्रकृति के सबसे करीब रहनेवाले आदिवासी समुदाय ने कई क्षेत्रों में अग्रणी भूमिका निभाई है. संसाधनों के आभाव में भी इस समुदाय के लोगों ने अपनी एक खास पहचान बनाई है. गीत-संगीत-नृत्‍य से हमेशा ही आदिवासी समुदाय का एक गहरा लगाव होता है. उनके गीतो-नृत्‍यों में प्रकृति से लगाव का पुट दिखता है. लेकिन मौजूदा समय में आदिवासी समुदाय अपनी भाषा-संस्‍कृति से विमुख हो रही है.
विश्व आदिवासी दिवस 2019: मिलिए इन चेहरों से जिन्‍होंने पाया खास मुकाम, कहा- हमारी संस्‍कृति हमारी पहचान
आज विश्व आदिवासी दिवस है. इस दौरान आदिवासियों की मौजूदा हालात, समस्‍याएं और उनकी उपलब्धियों पर चर्चा हो रही है. प्रकृति के सबसे करीब रहनेवाले आदिवासी समुदाय ने कई क्षेत्रों में अग्रणी भूमिका निभाई है. संसाधनों के आभाव में भी इस समुदाय के लोगों ने अपनी एक खास पहचान बनाई है. गीत-संगीत-नृत्‍य से हमेशा ही आदिवासी समुदाय का एक गहरा लगाव होता है. उनके गीतो-नृत्‍यों में प्रकृति से लगाव का पुट दिखता है. लेकिन मौजूदा समय में आदिवासी समुदाय अपनी भाषा-संस्‍कृति से विमुख हो रही है.
विश्व आदिवासी दिवस 2019 : झारखंड में सर्वाधिक आदिवासी रांची में
रांची : जनगणना-2011 के नये आंकड़े के अनुसार रांची जिले में सबसे अधिक आदिवासी रहते हैं. राज्य भर की कुल जनजातीय आबादी करीब 86.45 लाख है.
विश्व आदिवासी दिवस 2019 : झारखंड में सर्वाधिक आदिवासी रांची में
रांची : जनगणना-2011 के नये आंकड़े के अनुसार रांची जिले में सबसे अधिक आदिवासी रहते हैं. राज्य भर की कुल जनजातीय आबादी करीब 86.45 लाख है.
विश्व आदिवासी दिवस 2019 : संकल्प लेने का दिन बढ़ेंगे कदम-दर-कदम
विश्व आदिवासी दिवस न केवल मानव समाज के एक हिस्से की सभ्यता एवं संस्कृति की विशिष्टता का द्योतक है, बल्कि उसे संरक्षित करने और सम्मान देने के आग्रह का भी सूचक है. आदिवासी समुदायों की भाषा, जीवन-शैली, पर्यावरण से निकटता और कलाओं को संरक्षित और संवर्धित करने के प्रण के साथ आज यह भी संकल्प लिया जाए कि अपनी आशाओं और आकांक्षाओं को पूरा करने में उनके साथ कदम-से-कदम मिला कर चला जाए. इन पहलुओं को रेखांकित करते हुए आज की यह विशेष प्रस्तुति...
विश्व आदिवासी दिवस 2019 : आदिवासी प्रतिरोध में निहित आकांक्षाओं को समझने की दरकार
संयुक्त राष्ट्र द्वारा घोषित विश्व आदिवासी दिवस सभी आदिवासी समुदायों की सांस्कृतिक आकांक्षाओं को अभिव्यक्त करने का एक विशेष अवसर है.
विश्व आदिवासी दिवस 2019 : पश्चिम भारत में आदिवासी एकता
आदिवासी संभवतः हिंदी की सार्वजनिक दुनिया का सबसे उपेक्षित तबका है. यह विडंबनापूर्ण स्थिति है कि देश में आदिवासी दिवस मनानेवालों की संख्या बढ़ रही है, कई राज्यों ने 9 अगस्त को राजकीय या ऐच्छिक अवकाश भी घोषित कर दिया, लेकिन दूसरी तरफ आदिवासियों पर हो रहे हमले थम नहीं रहे. हमें समझना होगा कि आदिवासियों को बचाने का सवाल आदिवासीपन को बचाने से है.
विश्व आदिवासी दिवस 2019 : इंडिजिनस दर्शन का महत्व
प्रसिद्ध जर्मन दार्शनिक हेगेल के अनुसार, हम मनुष्यों की चीजों को द्विभाजन में देखने की प्रवृत्ति ही विभिन्न प्रकार के विरोधाभास को जन्म देती है.
विश्व आदिवासी दिवस 2019 : आदिवासियों की घटतीं मातृ भाषाएं
आदिवासियों को अपनी भाषा का संरक्षण और विकास के लिए स्वयं आगे आना होगा. आदिवासी जब तक अपने परिवार, गांव, अपने लोगों के बीच अपनी भाषा में बात नहीं करेंगे, तब तक भाषा का संरक्षण एवं विकास असंभव है. मलयाली, मराठी, बंगाली भाषाओं के तर्ज पर आदिवासी भाषाओं की पढ़ाई एक माध्यम के रूप में स्कूलों में शुरू होनी चाहिए. आदिवासी समाज की लगभग 90 प्रतिशत आबादी गांवो में रहती है, जहां बच्चे हिंदी नहीं जानते.
स्वैच्छिक है दरों में कटौती
मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) प्रस्ताव में 7 अगस्त, 2019 को 4:2 के मत से नीतिगत रेपो दर में 35 आधार अंकों तक कमी करने का निर्णय लिया गया. यह खास इसलिए भी है कि इससे पहले आमतौर पर 25 आधार अंकों के आसपास बदलाव किये जाते थे. एमपीसी के अध्यक्ष के तौर पर आरबीआइ गवर्नर ने पहले ही संकेत दिया था कि नीतिगत रेपो दर में 25 आधार अंकों से ज्यादा की कटौती हो सकती है. एमपीसी के एक सदस्य, प्रोफेसर रविंद्र ढोलकिया ने तो पिछले एमपीसी प्रस्ताव में 40 आधार अंकों की कमी का विचार दिया था.
एसएस प्लस टू उच्च विद्यालय में अंग्रेजी की पढ़ाई बंद
एसएस प्लस टू उच्च विद्यालय सिमडेगा में अंग्रेजी की पढ़ाई पूरी तरह से बंद हो गयी है. इससे अंग्रेजी विषय के तीन सौ छात्र-छात्राओं का भविष्य अधर में लटक गया है. जानकारी के मुताबिक अंग्रेजी विषय की शिक्षिका का स्थानांतरण फरवरी 2019 में कर दिया गया है. उनके स्थान पर किसी भी शिक्षक की प्रतिनियुक्ति अब तक नहीं की गयी है.
रांचीवासियों को निर्बाध बिजली देने की जुगत में जेबीवीएनएल, पूरी रांची में भूमिगत हो जायेंगे हाई टेंशन तार
रांची : राजधानी में निर्बाध बिजली आपूर्ति के लिए झारखंड बिजली वितरण निगम लिमिटेड (जेबीवीएनएल) पूरे शहर में अंडरग्राउंड केबल बिछा रही है. अगस्त 2019 से यह काम शुरू हो चुका है और मार्च 2020 तक इसे खत्म करने का लक्ष्य रखा गया है. केइआइ इंडस्ट्रीज ने आइआइएम रांची कैंपस से काम शुरू कर दिया है. इस पूरी योजना पर 364.28 करोड़ रुपये खर्च होंगे.
विश्व आदिवासी दिवस 2019 : भाषा बचेगी, तभी संस्कृति बचेगी
आज विश्व आदिवासी दिवस है. इस वर्ष संयुक्त राष्ट्र ने ‘भाषा’ को आदिवासी दिवस का थीम बनाया है. पूरे विश्व में 370 मिलियन आदिवासी समुदाय के लोग हैं जो पूरे विश्व की जनसंख्या का पांच प्रतिशत है. गौर करने वाली बात यह है कि यह आबादी सात हजार भाषाएं बोलती हैं और पांच हजार तरह की संस्कृतियों का प्रतिनिधित्व करती हैं. अगर हम बात झारखंड की करें तो यह एक आदिवासी बहुल राज्य है, जहां की कुल आबादी के लगभग 27 प्रतिशत का प्रतिनिधित्व आदिवासी करते हैं.
विश्व आदिवासी दिवस 2019 : संताल में 'बिटलाहा' रह गया केवल सामाजिक रीति-रिवाज का हिस्‍सा
झारखंड जनजाति बहुल राज्‍य है. यहां 32 प्रकार की जनजातियां निवास करती हैं, जिसमें 9 प्रकार की आदिम जनजातियां हैं. जनजातियों की पहचान उनकी भाषा और संस्‍कृति से है. हालांकि शहरीकरण और औद्योगीकरण के दौर में भाषा और संस्‍कृति में तेजी से बदलाव देखा जा रहा है.
मलिक, हफीज को नहीं मिला पीसीबी का केंद्रीय अनुबंध
पूर्व कप्तान शोएब मलिक और मोहम्मद हफीज को पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड द्वारा गुरुवार को 2019-20 के लिये खिलाड़ियों को दिये केंद्रीय अनुबंध की सूची से बाहर रखा गया है.