7 results found for ''Bihar Hindi Sahitya Sammelan''
Flood in Bihar : राबड़ी का ट्वीट, कहा- बाढ़ पीड़ित चूहा खाने को मजबूर
पटना : बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने ट्वीट कर राज्य सरकार पर तंज कसा है. उन्होंने कहा कि सरकार के निक्कमेपन के चलते बाढ़ पीड़ित चूहा खाने को मजबूर हैं. उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार यह प्रवचन मत दीजियेगा कि बुखार, लू, गरमी और सूखाड़ की तरह भी बाढ़ प्रकृति का दोष है. बचाव व राहत कार्य भी अगर प्रकृति को ही करना है तो आप और आपके मंत्री क्या भजन- कीर्तन करने बैठे हैं.
Flood in Bihar : सुपौल, अररिया में राहत, पूर्णिया-कटिहार के नये इलाकों में पानी, डूबने से 10 की मौत
भागलपुर : बिहार में कोसी के जल स्तर में उतार-चढ़ाव जारी है. कोसी-सीमांचल के जिलों में बाढ़ का पानी ऊंचे इलाके से निचले इलाके की ओर बढ़ रहा है. मंगलवार की सुबह 06 बजे कोसी नदी का जल स्तर बराज पर 01 लाख 53 हजार 835 क्यूसेक बढ़ते क्रम में दर्ज किया गया, वहीं नेपाल स्थित जल अधिग्रहण क्षेत्र बराह में जल स्तर 01 लाख 37 हजार 375 क्यूसेक दर्ज किया गया. शाम 06 बजे कोसी का डिस्चार्ज बराज पर 01 लाख 72 हजार 280 क्यूसेक घटते क्रम व बराह में 01 लाख 25 हजार 300 क्यूसेक दर्ज किया गया.
Flood in Bihar : सुशील मोदी का ट्वीट, लालू प्रसाद के दोनों बेटों पर साधा निशाना
पटना : बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी ने ट्वीट कर कहा है कि नेपाल और पूरे बिहार में लगातार बारिश के बाद कई नदियों में 50 हजार क्यूसेक्स तक पानी बढ़ने से उत्पन्न स्थिति को देखते हुए राज्य सरकार ने तटबंधों पर कड़ी नजर रखने के निर्देश दिये. गृह मंत्रालय ने अापदा प्रबंधन टीम को सतर्क किया. बिहार में एनडीआरएफ की टीम अब तक 750 लोगों को बचा चुकी है.
Flood in Bihar : राबड़ी-तेजस्वी का ट्वीट, निशाने पर नीतीश सरकार
पटना : बिहार में गहराते बाढ़ के संकट के बीच इस मुद्दे को लेकर सूबे में सियासी पारा चढ़ने लगा है. एक ओर रविवार को जहां मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने बाढ़ के मद्देनजर राहत व बचाव को लेकर उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक की और बाढ़ के हालात को देखते हुए मुख्‍यमंत्री ने कई महत्वपूर्ण निर्देश दिये है. वहीं दूसरी मुख्य विपक्षी दल राजद ने बाढ़ के हालात को लेकर नीतीश सरकार पर जमकर निशाना साधा है.
Flood in Bihar : मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बाढ़ ग्रस्त इलाकों का किया हवाई सर्वे
पटना : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बाढ़ को लेकर आज उच्च स्तरीय बैठक की है. बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने इसके मद्देनजर अधिकारियों को जरूरी निर्देश भी दिये. वहीं बैठक के बाद सीएम नीतीश ने बिहार के बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वे भी किया. मुख्यमंत्री ने शिवहर, सीतामढ़ी, मोतिहारी, मघुबनी, दरभंगा, मुजफ्फरपुर का हवाई सर्वे किया. इस दौरान सीएम के साथ जल संसाधन मंत्री भी मौजूद थे.
शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार के मोर्चे पर झारखंड सरकार को करनी होगी मेहनत, आर्थिक सर्वेक्षण ने पेश की भयावह तस्वीर
रांची : विश्व के सबसे युवा देश के कई राज्यों में तेजी से आबादी (Population) बढ़ रही है. ऐसे राज्यों में झारखंड (Jharkhand) के साथ-साथ बिहार (Bihar), उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh), छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh), राजस्थान (Rajasthan) और मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) शामिल हैं. यहां टोटल फर्टिलिटी रेट (Total Fertility Rate या कुल प्रजनन दर) में अभी भी उतनी कमी नहीं आयी है, जितनी दक्षिण के राज्यों और पश्चिम बंगाल (West Bengal), हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh), पंजाब (Punjab), और महाराष्ट्र (Maharashtra) में. आर्थिक सर्वेक्षण (Economic Survey) में कहा गया है कि आगामी दो दशक में झारखंड (Jharkhand) की आबादी करीब 18 फीसदी की दर से बढ़ेगी. वर्ष 2041 में यहां की आबादी 4.46 करोड़ तक पहुंच जायेगी. इसी आधार पर सरकार को कई मोर्चे पर गंभीर चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा. देश के आर्थिक सर्वेक्षण (Economic Survey) में जो आंकड़े सामने आये हैं, वह झारखंड (Jharkhand) की भयावह तस्वीर पेश करते हैं.
शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार के मोर्चे पर झारखंड सरकार को करनी होगी मेहनत, आर्थिक सर्वेक्षण ने पेश की भयावह तस्वीर
रांची : विश्व के सबसे युवा देश के कई राज्यों में तेजी से आबादी (Population) बढ़ रही है. ऐसे राज्यों में झारखंड (Jharkhand) के साथ-साथ बिहार (Bihar), उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh), छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh), राजस्थान (Rajasthan) और मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) शामिल हैं. यहां टोटल फर्टिलिटी रेट (Total Fertility Rate या कुल प्रजनन दर) में अभी भी उतनी कमी नहीं आयी है, जितनी दक्षिण के राज्यों और पश्चिम बंगाल (West Bengal), हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh), पंजाब (Punjab), और महाराष्ट्र (Maharashtra) में. आर्थिक सर्वेक्षण (Economic Survey) में कहा गया है कि आगामी दो दशक में झारखंड (Jharkhand) की आबादी करीब 18 फीसदी की दर से बढ़ेगी. वर्ष 2041 में यहां की आबादी 4.46 करोड़ तक पहुंच जायेगी. इसी आधार पर सरकार को कई मोर्चे पर गंभीर चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा. देश के आर्थिक सर्वेक्षण (Economic Survey) में जो आंकड़े सामने आये हैं, वह झारखंड (Jharkhand) की भयावह तस्वीर पेश करते हैं.