42 results found for ''हिंदू देवता''
अयोध्‍या फैसला : NSA अजीत डोभाल ने की हिंदू-मुस्लिम धर्मगुरुओं के साथ बैठक
उच्चतम न्यायालय की ओर से अयोध्या में राम मंदिर बनाने का रास्ता साफ करने संबंधी फैसले के बाद देश में शांति बनाए रखने एवं किसी भी भड़काऊ एवं शरारती गतिविधि को रोकने के लिए सुरक्षा बलों को अलर्ट पर रखा गया है.
AYODHYAVERDICT: भारतीय मूल के अमेरिकियों ने कहा- ये हिंदू-मुस्लिम दोनों की जीत
वॉशिंगटन : भारतीय अमेरिकी समुदाय ने अयोध्या मामले पर उच्चतम न्यायालय के फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि विवादित भूमि के दशकों पुराने मामले पर आए फैसले में हिंदू-मुस्लिम दोनों की जीत है. गौरतलब है कि उच्चतम न्यायालय ने अयोध्या में विवादित स्थल राम जन्मभूमि पर मंदिर के निर्माण का मार्ग शनिवार को प्रशस्त करते हुए केन्द्र सरकार को निर्देश दिया कि ‘सुन्नी वक्फ बोर्ड'' को मस्जिद के निर्माण के लिये पांच एकड़ भूमि आबंटित की जाये.
चार साल में बन जायेगा भव्य राम मंदिर, जानें प्रस्तावित राम मंदिर का कैसा है आकार
नई दिल्‍ली : सुप्रीम कोर्ट के फैसले के साथ ही राम मंदिर के निर्माण की तैयारियों पर चर्चा शुरू हो गयी है. विहिप का दावा है कि वह छह महीने में राम मंदिर का ढांचा खड़ा कर देगा. वहीं, विश्व हिंदू परिषद के कार्याध्यक्ष आलोक कुमार की मानें तो अभी यह कहना मुश्किल होगा कि मंदिर का निर्माण कितने दिन में पूरा हो जायेगा.
#AyodhyaVerdict: मुस्लिम लेखकों ने भी माना था कि वहां था मंदिर
नई दिल्‍ली : अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुना कर 400 साल से चले आ रहे विवाद को खत्म कर दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने एएसआइ की रिपोर्ट को आधार मानते हुए विवादित भूमि पर राम मंदिर के निर्माण की इजाजत दे दी. 40 दिनों तक चली सुनवाई के दौरान कोर्ट में उन तमाम पुस्तकों का उल्लेख किया गया, जिसमें राम मंदिर होने का जिक्र है. इन लेखकों में हिंदू, मुस्लिम और अंग्रेज, तीनों शामिल हैं.
अयोध्या मामले के 12 मुख्य पात्र
दिगंबर अखाड़े के महंत और श्रीराम जन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष रहे. विश्व हिंदू परिषद के आंदोलन में बड़ी भूमिका निभायी. विवादित स्थल का ताला नहीं खुलने पर आत्मदाह की धमकी दी. 31 जुलाई 2003 को निधन.
अयोध्या फैसले के बाद में मुसलमानों और हिंदुओं ने एक-दूसरे को मिठाई खिलायी
अयोध्‍या विवाद में उच्चतम न्यायालय के निर्णय को प्रमुख पक्षकारों के साथ-साथ पूरे उत्तर प्रदेश ने बेहद सहज भाव से स्वीकार किया और फैसले के बाद हालात बिल्कुल सामान्य रहे.
अयोध्या मामले में हिंदू पक्ष को जीत दिलाने वाले के. परासरन
सुप्रीम कोर्ट ने रामलला विराजमान को 2.77 एकड़ ज़मीन देने का फ़ैसला किया है जिनकी ओर से के. परासरन ने पैरवी की थी.
IN PICS : अयोध्या पर फैसले के बाद झारखंड में सभी धर्मावलंबियों ने दिखायी एकजुटता, पुलिस ने किया फ्लैग मार्च
रांची : करीब 135 साल पुराने अयोध्या विवाद पर फैसले का झारखंड की राजधानी रांची समेत सभी जगहों पर लोगों ने दिल खोलकर स्वागत किया. हिंदू-मुस्लिम एकता की मिसाल पेश करते हुए लोगों ने तस्वीरें खिंचवायी. दूसरी तरफ, पुलिस और प्रशासन पूरी तरह मुस्तैद रहा. रांची समेत राज्य के कोने-कोने में फ्लैग मार्च कर लोगों को संदेश दिया कि सब कुछ ठीक-ठाक है. किसी को डरने की जरूरत नहीं है.
IN PICS : अयोध्या पर फैसले के बाद झारखंड में सभी धर्मावलंबियों ने दिखायी एकजुटता, पुलिस ने किया फ्लैग मार्च
रांची : करीब 135 साल पुराने अयोध्या विवाद पर फैसले का झारखंड की राजधानी रांची समेत सभी जगहों पर लोगों ने दिल खोलकर स्वागत किया. हिंदू-मुस्लिम एकता की मिसाल पेश करते हुए लोगों ने तस्वीरें खिंचवायी. दूसरी तरफ, पुलिस और प्रशासन पूरी तरह मुस्तैद रहा. रांची समेत राज्य के कोने-कोने में फ्लैग मार्च कर लोगों को संदेश दिया कि सब कुछ ठीक-ठाक है. किसी को डरने की जरूरत नहीं है.
अयोध्या मामला: असदुद्दीन ओवैसी ने ट्विटर पर क्यों डाला ये बुक कवर?
राम जन्मभूमि, अयोध्या, सुप्रीम कोर्ट, बाबरी मस्जिद, राम, विश्व हिंदू परिषद सर्च में आगे.
#AyodhyaHearing : फैसले से पहले बोले बाबा रामदेव, हिंदू के लिए ना मुसलमान के लिए, जीयें हिंदुस्तान के लिए...
अयोध्या विवाद के फैसले से पहले आज योग गुरू बाबा रामदेव ने आम लोगों से सद्‌भावना की अपील करते हुए कहा कि हिंदू के लिए ना मुसलमान के लिए, जीयें हिंदुस्तान के लिए. उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला चाहे जो भी आये, वह सबके लिए स्वीकार्य होना चाहिए. बाबा रामदेव ने कहा कि हमारी संस्कृति ही सर्वधर्म सद्‌भाव की रही है.
अयोध्या : पहली बार 200 साल पहले अंग्रेजी हुकूमत में उठा था यह मामला
राम मंदिर का मुद्दा पहली बार अंग्रेजी हुकूमत के वक्त आज से करीब 200 साल पहले उठा था. ब्रिटिश हुकूमत के वक्त साल 1813 में हिंदू संगठनों ने पहली बार यह दावा किया था कि यहां राम मंदिर था. उस वक्त भी दोनों पक्षों के बीच हिंसात्मक घटनाएं हुई थीं. ब्रिटिश सरकार ने साल 1859 में विवादित जगह पर तार की एक बाड़ बनवा दी. इसके बाद साल 1885 में पहली बार महंत रघुबर दास ने ब्रिटिश शासन के दौरान ही अदालत में याचिका देकर मंदिर बनाने की अनुमति मांगी थी.
झारखंड विधानसभा चुनाव 2019 : चुनाव में अब हिंदू-मुस्लिम कार्ड नहीं चलेगा : शिबू सोरेन
बोकारो : झामुमो अध्यक्ष शिबू सोरेन ने कहा है कि झारखंड में महागठबंधन की जीत होगी. लोग रघुवर दास की नीतियों से परेशान हैं. मौजूदा सरकार आम लोगों की जरूरत व आकांक्षा पूरी करने में असफल रही है. महागठबंधन की ओर आशा भरी निगाह से देखी जा रही है.
झारखंड विधानसभा चुनाव 2019 : चुनाव में अब हिंदू-मुस्लिम कार्ड नहीं चलेगा : शिबू सोरेन
बोकारो : झामुमो अध्यक्ष शिबू सोरेन ने कहा है कि झारखंड में महागठबंधन की जीत होगी. लोग रघुवर दास की नीतियों से परेशान हैं. मौजूदा सरकार आम लोगों की जरूरत व आकांक्षा पूरी करने में असफल रही है. महागठबंधन की ओर आशा भरी निगाह से देखी जा रही है.
हिंदू, जैन और बौद्ध, तीनों का तीर्थस्थल है अयोध्या
अयोध्या स्थापना मनु के पुत्र सूर्यवंशी राजा इक्ष्वाकु ने ईपू 2200 के आसपास की थी. दशरथ इस वंश के 63वें शासक थे. 24 जैन तीर्थंकरों में से 22 इक्ष्वाकु वंश के ही थे और प्रथम तीर्थंकर आदिनाथ (ऋषभदेव जी) तथा चार अन्य तीर्थंकरों का जन्मस्थान अयोध्या ही है.
अयोध्या केसः हिंदू पक्षों को 'रामलला विराजमान' की अहमियत समझने में 104 साल लग गए
अयोध्या विवाद में सुप्रीम कोर्ट का फ़ैसला आने में ज़्यादा दिन नहीं बचे हैं तो अब अटकलें तेज़ हो गई हैं कि क्या होगा?
हिंदू और मुस्लिम धर्मगुरुओं की अपील : अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान करें देशवासी
अयोध्या राम जन्मभूमि विवाद मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला अगले हफ्ते आने की संभावनाओं के बीच हिंदू तथा मुस्लिम धर्मगुरुओं ने समाज के सभी वर्गों से इस फैसले का सम्मान करने और शांति बनाए रखने की अपील की है. ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के वरिष्ठ सदस्य मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली ने शुक्रवार को कहा कि कोर्ट का फैसला जल्द आने वाला है और जैसा कि हम शुरू से ही संविधान के दायरे में रहते आए हैं, अत: हम सभी को ऐसा कोई भी मुशायरा या प्रदर्शन नहीं करना चाहिए जिससे किसी के मजहबी जज्बात को ठेस पहुंचे.
मिथिला का प्रसिद्ध पर्व देवोत्थान एकादशी आज, होगा तुलसी विवाह भी
सुपौल : मिथिला का प्रसिद्ध पर्वों में से एक देवोत्थान एकादशी पर्व हिन्दुओं का प्रमुख त्योहार शुक्रवार को मनाया जायेगा. इस दिन लोगों द्वारा व्रत रख कर संध्या काल में पिठार व सिंदूर से अर्पण देकर कुलदेवता सहित विभिन्न देवी-देवताओं की पूजा-अर्चना के साथ की जायेगी. अगले दिन ब्राह्मण भोजन करा कर व्रत समाप्त होगी.
रांची :एक लाख हितचिंतक सदस्य बनायेगा विहिप
श्रीजन्मभूमि पर आने वाले फैसले से उत्साहित व हतोत्साहित होने की जरूरत नहीं : केशव राजू रांची : विश्व हिंदू परिषद की ओर से 10 नवंबर से दो दिसंबर तक वार्षिक हितचिंतक सदस्यता अभियान चलाया जायेगा. यह अभियान राज्य के सभी जिलों में चलाया जायेगा. परिषद ने इसके तहत एक लाख सदस्य बनाने का लक्ष्य रखा है.
रेल नगरी जमालपुर और आसपास के क्षेत्रों में भी धुंध
जमालपुर : रेल नगरी जमालपुर और आसपास के क्षेत्रों में पिछले कई दिनों से धुंध छाया हुआ है. यह धुंध ठंड के कारण नहीं बल्कि वायु प्रदूषण के रूप में परिलक्षित हो रहा है. क्योंकि पिछले कई दिनों से सूर्य देवता के दर्शन नहीं हो पाने के बावजूद लोगों को ठंड का एहसास नहीं हो पा रहा है और कार्तिक महीना के मात्र 6 दिन बाकी रहने के बावजूद सर्दी दस्तक नहीं दे पाई है.