4 results found for ''सीड मदर''
मदर डेयरी के प्यूरी की आपूर्ति बढ़ाने के बावजूद अब भी आसमान पर है टमाटर
नयी दिल्ली : देश की राजधानी दिल्ली में टमाटर की कीमतें अब भी आसमान पर बनी हुई हैं. यह खुदरा बाजार में 60 से 80 रुपये प्रति किलोग्राम तक बिक रहे हैं. हालांकि, सरकार ने मदर डेयरी से सफल स्टोर पर टमाटर प्यूरी की आपूर्ति बढ़ाने के लिए कहा है, लेकिन इसका बाजार पर कोई असर नहीं दिख रहा. महाराष्ट्र और कर्नाटक जैसे टमाटर उत्पादक राज्यों में भारी बारिश के चलते दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र में टमाटर की आपूर्ति प्रभावित हुई है. इससे इसकी कीमतें ऊंचे स्तर पर हैं.
रांची : तीसी की विकसित दो किस्में सेंट्रल सीड चेन में
रांची : बीएयू द्वारा विकसित तीसी फसल की दो किस्म दिव्या एवं प्रियम को सेंट्रल सीड चेन में शामिल किया गया है. बीएयू को वर्ष 2019-20 में दिव्या किस्म का 01.6 क्विंटल तथा प्रियम किस्म का 01.5 क्विंटल प्रजनक बीज उत्पादन करने का इंडेंट और लक्ष्य भी दिया गया है. इस बीज का विकास विवि अंतर्गत अनुवांशिकी एवं पौधा प्रजनन विभाग द्वारा किया गया है. बीएयू के तीसी शोध परियोजना प्रभारी डॉ सोहन राम ने बताया कि दस वर्षों से अधिक शोध के बाद झारखंड राज्य के लिए अधिक उपज देनेवाली उपयुक्त दो किस्मों को विकसित किया गया.
पटना में हवा की क्वालिटी होती जा रही खराब
पटना : विश्व स्वास्थ्य संगठन के निर्देशों का पालन करने पर पटना के लोगों की औसत आयु 7.7 साल व बिहार में 6.9 साल बढ़ जायेगी. ये बातें एपिक शिकागो के एयर क्वालिटी लाइफ इंडेक्स में कही गयी है. एपिक शिकागो और सेंटर फॉर एन्वॉयरोंमेंट एंड एनर्जी डेवलपमेंट (सीड) ने शनिवार को ‘वायु गुणवत्ता जीवन सूचकांक के संबंध में एक कार्यशाला का आयोजन किया. साथ ही सरकार से शहरों में वायु प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए अनिवार्य कदम उठाने की अपील की.
बेकार प्लास्टिक का रावण का पुतला बनायेगी की मदर डेयरी और गांधी जयंती पर करायेगी रिसाइक्लिंग
नयी दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की एक ही बार इस्तेमाल होने वाले प्लास्टिक को छोड़ने की अपील पर अमल करते हुए मदर डेयरी ने एक अनोखी पहल की शुरुआत की है. वह इसके तहत एक हजार किलोग्राम प्लास्टिक कचरे का रावण का पुतला तैयार करेगी, लेकिन इसका दहन करने के बजाय गांधी जयंती पर रिसाइक्लिंग करायेगी. कंपनी के प्रबंध निदेशक संग्राम चौधरी ने शुक्रवार को कहा कि इस महीने की शुरुआत में उसके बूथों के माध्यम से प्लास्टिक की थैलियां जमा करने की मुहिम शुरू की गयी.