1 results found for ''सांप्रदायिकता''
हमारा राष्ट्र और समाज
प्रसिद्ध पुस्तक ''साइंस एंड दि राज: दि स्टडी ऑफ ब्रिटिश इंडिया'' के लेखक इतिहासज्ञ दीपक कुमार ने ''द त्रिशंकु नेशन: मेमाॅरी, सेल्फ एंड सोसाइटी इन कंटेंपरेरी इंडिया'' लिखा है. निजी और ऐतिहासिक स्मृतियों को व्यापक सामाजिक और सभ्यतागत संदर्भों में विश्लेषित करते हुए दीपक ने स्वातंत्र्योत्तर भारत का एक दिलचस्प खाका तैयार किया है जिसमेें जाति, धर्म, सांप्रदायिकता, प्रशासन, भ्रष्टाचार, शिक्षा, विज्ञान, संस्कृति आदि का गहरा विश्लेषण है. हिंदी में इसका अनुवाद ''त्रिशंकु राष्ट्र: स्मृति, स्व और समाज'' नाम से गणपत तेली ने किया है, जो राजकमल प्रकाशन से छपी है.