39 results found for ''संघर्ष''
विधायक का सफरनामा : सात पार्टियों का अनुभव रहा है बन्ना गुप्ता को
रांची : जमशेदपुर पश्चिम सीट से कांग्रेस के टिकट पर 2009 का विधानसभा चुनाव लड़ चुके बन्ना गुप्ता ने भी कई राजनीतिक दल देखे हैं. अपनी राजनीति पारी इन्होंने 1985 में जनता दल से शुरू की थी. फिर युवा संघर्ष समिति के बाद 1992 में वह समाजवादी जनता पार्टी में चले गये. इसके बाद इन्होंने झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) का दामन थाम लिया.
विधायक का सफरनामा : सात पार्टियों का अनुभव रहा है बन्ना गुप्ता को
रांची : जमशेदपुर पश्चिम सीट से कांग्रेस के टिकट पर 2009 का विधानसभा चुनाव लड़ चुके बन्ना गुप्ता ने भी कई राजनीतिक दल देखे हैं. अपनी राजनीति पारी इन्होंने 1985 में जनता दल से शुरू की थी. फिर युवा संघर्ष समिति के बाद 1992 में वह समाजवादी जनता पार्टी में चले गये. इसके बाद इन्होंने झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) का दामन थाम लिया.
सौरभ गांगुली को पंत पर भरोसा, कहा- ऋषभ को समय देने की जरूरत, वह अच्छा प्रदर्शन करेगा
विकेट के पीछे और बल्ले से संघर्ष कर रहे ऋषभ पंत का बीसीसीआई अध्यक्ष सौरभ गांगुली ने समर्थन करते हुए कहा कि यह विकेटकीपर बल्लेबाज शानदार खिलाड़ी है और समय के साथ उनके खेल में निखार आयेगा. पंत बांग्लादेश के खिलाफ मौजूदा श्रृंखला में खराब फार्म से गुजर रहे हैं.
जम्मू-कश्मीर: पाकिस्तान ने फिर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन, भारतीय सेना का जवान शहीद
एक तरफ करतारपुर कॉरीडोर के जरिए भारत-पाकिस्तान के बीच तनाव कम होने की उम्मीद पाली जा रही है तो वहीं दूसरी तरफ पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है. ताजा खबरों के मुताबिक जम्मू के मेंढर सेक्टर में पाकिस्तानी सेना द्वारा की गई गोलीबारी में भारतीय सेना का एक जवान शहीद हो गया. जम्मू के डिफेंस पीआरओ ने घटना की जानकारी दी.
#HBDKamalHaasan: निजी जिंदगी को लेकर चर्चा में रहे कमल हासन, जानें ये खास बातें
जानेमाने अभिनेता कमल हासन ने फिल्‍मी करियर के अलावा राजनैतिक बयानों को लेकर सुर्खियों में बने रहते हैं. वह साउथ इंडस्ट्री के साथ-साथ हिंदी सिनेमा का भी लोकप्रिय चेहरा है. उन्‍होंने अपने विभिन्‍न किरदारों को ऐसे पर्दे पर उकेरा कि दर्शकों उनकी अदाकारी के कायल हो गये. कमल हासन का जन्‍म 7 नवंबर 1954 में तमिलनाडु के परमकुडी में हुआ था. कमल हासन को अपनी इस सफलता की कहानी को साकार करने में कई संघर्ष से होकर गुजरना पड़ा. उन्‍हें फिल्‍म निर्देशकों ने यहां तक कह दिया था कि उनमें अभिनय क्षमता नहीं है. लेकिन उन्‍होंने हार नहीं मानी और खुद को एक सफल कलाकार के रुप में स्‍थापित किया.
रांची : पारा शिक्षक फोन से नहीं बनायेंगे हाजिरी
रांची : सरकारी शिक्षकों के बाद अब पारा शिक्षकों ने भी चुनाव के दौरान मोबाइल से ऑनलाइन उपस्थिति के निर्देश का विरोध किया है. एकीकृत पारा शिक्षक संघर्ष मोर्चा के हृषिकेश पाठक ने कहा कि सभी पारा शिक्षकों के पास स्मार्ट फोन नहीं है. ऐसे में पारा शिक्षक मोबाइल से उपस्थिति नहीं बनाने में असमर्थ हैं. उल्लेखनीय है कि झारखंड शिक्षा परियोजना ने चुनाव के दौरान टैब की जगह मोबाइल से उपस्थिति बनाने का निर्देश दिया है.
...और जिंदगी की जंग हार गया मास्टर शरद
धनबाद : जिस डेढ़ साल के बच्चे को उसके मां-बाप ने ठुकरा दिया था, कोई एक साल तक संघर्ष करने के बाद वह जिंदगी की जंग हार गया. पीएमसीएच के शिशु वार्ड में बुधवार को उसने अंतिम सांस ली. बच्चा गंभीर बीमारियों से ग्रस्त था. तीन महीने से उसकी स्थिति ज्यादा खराब थी. गत दो अक्तूबर को उसे रांची रिम्स में भर्ती कराया गया था.
EPS 95 स्कीम के तहत 7500 रुपये न्यूनतम पेंशन की मांग पर रास्ता रोको अभियान चलायेगी NAC
नयी दिल्ली : ईपीएफओ के दायरे में आने वाले कर्मचारियों और पेंशनभोगियों का न्यूनतम पेंशन 7,500 रुपये मासिक किये जाने की मांग को लेकर राष्ट्रीय संघर्ष समिति (एनएसी) ने पूरे देश में आंदोलन करने का निर्णय किया है. एनएसी ने बुधवार को कहा कि संगठन में शामिल पेंशनभोगी दिल्ली में अगले महीने रास्ता रोको अभियान चलायेंगे.
शिवसेना को उम्मीद, गडकरी दो घंटे के अंदर महाराष्ट्र का गतिरोध कर सकते हैं दूर
महाराष्ट्र में सरकार गठन पर जारी गतिरोध के बीच कृषि कार्यकर्ता एवं हाल ही में शिवसेना में शामिल हुए किशोर तिवारी ने कहा है कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत को केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी को भाजपा और शिवसेना के बीच चल रहे सत्ता संघर्ष को सुलझाने की जिम्मेदारी सौंपनी चाहिए.
बिना संघर्ष के कोई मुकाम हासिल नहीं होता : पूजा शर्मा
फुसरो बाजार स्थित शर्मा कॉलोनी निवासी टीवी अभिनेत्री पूजा शर्मा रविवार की शाम अपने शर्मा निवास पर पहुंची. समाजसेवी स्व कामेश्वर शर्मा की पुत्री पूजा हर वर्ष की तरह इस बार भी छठ के मौके पर अपनी मां ज्ञांति शर्मा के पास आयी थी. अभिनेत्री पूजा शर्मा अब किसी परिचय की मोहताज नहीं हैं और टीवी
झारखंड विधानसभा चुनाव: शिक्षा मंत्री डॉ नीरा को विपक्ष से ज्यादा अपनों से खतरा, जानें कोडरमा विधानसभा क्षेत्र का लेखा-जोखा
कोडरमा : पूरी दुनिया में अभ्रक नगरी के रूप में प्रसिद्व कोडरमा का राजनीतिक इतिहास समय के साथ बदलता रहा है. यहां पहली बार 1952 में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के अवध बिहारी दीक्षित विजेता होकर विधायक बने थे तो, 1957 में छोटानागपुर संताल परगना जनता पार्टी के जीपी त्रिपाठी ने जीत हासिल की थी. शुरुआती दो विधानसभा चुनावों के बाद इस सीट पर कभी संघर्ष सोशलिस्ट पार्टी के विश्वनाथ मोदी तो कभी कांग्रेस के राजेंद्र नाथ दां जीते.
झारखंड विधानसभा चुनाव: शिक्षा मंत्री डॉ नीरा को विपक्ष से ज्यादा अपनों से खतरा, जानें कोडरमा विधानसभा क्षेत्र का लेखा-जोखा
कोडरमा : पूरी दुनिया में अभ्रक नगरी के रूप में प्रसिद्व कोडरमा का राजनीतिक इतिहास समय के साथ बदलता रहा है. यहां पहली बार 1952 में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के अवध बिहारी दीक्षित विजेता होकर विधायक बने थे तो, 1957 में छोटानागपुर संताल परगना जनता पार्टी के जीपी त्रिपाठी ने जीत हासिल की थी. शुरुआती दो विधानसभा चुनावों के बाद इस सीट पर कभी संघर्ष सोशलिस्ट पार्टी के विश्वनाथ मोदी तो कभी कांग्रेस के राजेंद्र नाथ दां जीते.
भाजपा के भीष्म पितामह थे कैलाशपति मिश्र : रघुवर दास
रांची : मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा है कि स्व कैलाशपति मिश्र भाजपा को भीष्म पितामह थे़ स्वर्गीय मिश्र त्याग, तपस्या और संघर्ष की प्रतिमूर्ति थे़ अपनी संगठनात्मक क्षमता के बल पर स्वर्गीय मिश्र ने भाजपा को गांव-गांव तक पहुंचाया़ मुख्यमंत्री श्री दास रविवार को भाजपा नेता व पूर्व राज्यपाल कैलाशपति मिश्र की पुण्य तिथि पर श्रद्धांजलि देने पार्टी मुख्यालय पहुंचे थे़ उन्होंने कहा कि स्वर्गीय मिश्र के त्याग व तपस्या के बल पर ही झारखंड में भाजपा बट वृक्ष के समान फैला हुआ है़ भारतीय जन संघ के साथ-साथ भाजपा में उनका योगदान अविस्मरणीय है
भाजपा के भीष्म पितामह थे कैलाशपति मिश्र : रघुवर दास
रांची : मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा है कि स्व कैलाशपति मिश्र भाजपा को भीष्म पितामह थे़ स्वर्गीय मिश्र त्याग, तपस्या और संघर्ष की प्रतिमूर्ति थे़ अपनी संगठनात्मक क्षमता के बल पर स्वर्गीय मिश्र ने भाजपा को गांव-गांव तक पहुंचाया़ मुख्यमंत्री श्री दास रविवार को भाजपा नेता व पूर्व राज्यपाल कैलाशपति मिश्र की पुण्य तिथि पर श्रद्धांजलि देने पार्टी मुख्यालय पहुंचे थे़ उन्होंने कहा कि स्वर्गीय मिश्र के त्याग व तपस्या के बल पर ही झारखंड में भाजपा बट वृक्ष के समान फैला हुआ है़ भारतीय जन संघ के साथ-साथ भाजपा में उनका योगदान अविस्मरणीय है
विस चुनाव 2014 में इन सीटों पर हुआ था तीखा संघर्ष, पांच सीटों पर हजार से कम था जीत का अंतर
रांची : पिछले विधानसभा चुनाव (2014) में पांच सीटों पर तीखा संघर्ष हुआ था. इसमें हार-जीत का अंतर 1000 वोट से कम था. इसमें से तीन सीटें एनडीए के खाते में गयी थीं. वहीं कांग्रेस व झामुमो ने दो सीटें जीती थीं. भाजपा ने राजमहल, बोरियो और आजसू ने टुंडी सीट पर जीत दर्ज की थी. वहीं तोरपा से झामुमो के पौलुस सुरीन और बड़कागांव से कांग्रेस की प्रत्याशी निर्मला देवी की जीत हुई थी.
विस चुनाव 2014 में इन सीटों पर हुआ था तीखा संघर्ष, पांच सीटों पर हजार से कम था जीत का अंतर
रांची : पिछले विधानसभा चुनाव (2014) में पांच सीटों पर तीखा संघर्ष हुआ था. इसमें हार-जीत का अंतर 1000 वोट से कम था. इसमें से तीन सीटें एनडीए के खाते में गयी थीं. वहीं कांग्रेस व झामुमो ने दो सीटें जीती थीं. भाजपा ने राजमहल, बोरियो और आजसू ने टुंडी सीट पर जीत दर्ज की थी. वहीं तोरपा से झामुमो के पौलुस सुरीन और बड़कागांव से कांग्रेस की प्रत्याशी निर्मला देवी की जीत हुई थी.
आतंक के साये में साईंथिया का स्कूल ! शिक्षक पहुंचे, विद्यार्थी रहे नदारद
बीरभूम राज्य का ऐसा जिला बन गया है, जहां बम और बारूद आये दिन की बात है. यहां आपराधिक घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रही. अपराधी का मनोबल बढ़ा हुआ है. दो दिन पूर्व भी जिले के साईथिया थाना के कल्याणपुर गांव में शासक दल तृणमूल कांग्रेस के दो गुटों में झड़प तथा संघर्ष की घटना के दौरान बमबाजी और गोलीबारी हुई थी, जिसमें एक युवक की मौत हो गयी.
आचार्य नरेंद्र देव जयंती : भारतीय समाजवाद के पितामह
भारतीय समाजवाद के दुर्दिन में उसके वारिसों के लिए उसके पितामह की दिखायी गयी राह पर चलना तो दूर की बात, उन्हें याद करना भी असुविधाजनक हो जायेगा, इसकी अभी कुछ साल पहले तक कल्पना भी नहीं की जाती थी. जी हां, उन्हीं आचार्य नरेंद्र देव को, जिन्होंने स्वतंत्रता संघर्ष के दिनों में कांग्रेस में रहकर समाजवाद की अलमबरदारी की और स्वतंत्रता के बाद का जीवन कांग्रेस का समाजवादी विकल्प खड़ा करने में होम कर दिया, आज की तारीख में न कांग्रेस के महानायक जवाहरलाल नेहरू के वारिस ‘अपना’ समझते हैं, न ही समाजवाद के महानायक डाॅक्टर राममनोहर लोहिया के वारिस. उनकी जयंतियों व पुण्यतिथियों तक पर किसी को उनकी ज्यादा याद नहीं आती.
बगदादी का मारा जाना बड़ी कामयाबी: मोदी
पटना : डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने ट्वीट कर कहा है कि इस्लामी स्टेट के खूंखार आतंकवादी सरगना अल-बगदादी का मारा जाना आतंकवाद के विरुद्ध संघर्ष में एक बड़ी कामयाबी है. अमेरिकी नेतृत्व वाले इस सैन्य अभियान को रूस के अलावा तुर्की, सीरिया और इराक जैसे मुस्लिम देशों का सहयोग मिलना साबित करता है कि बगदादी का संगठन मानवता के विरुद्ध अपराधी था.
नयी नियमावली का किया गया विरोध
एकीकृत पारा शिक्षक संघर्ष मोर्चा जिला इकाई की बैठक आदर्श मवि कोडरमा में हुई. अध्यक्षता सुभाष कुमार सिंह व संचालन सुरेश यादव व सलीम अंसारी ने किया. इसमें मुख्य रूप से राज्य कार्यकारिणी सदस्य वीरेंद्र कुमार राय उपस्थित थे. बैठक में सरकार द्वारा प्रस्तावित नयी निय