12 results found for ''संगीत''
अमजद अली ख़ान ने जब प्रिंसेज़ डायना को ठंड से बचाया
उस्ताद अमज़द अली ख़ान की संगीत साधना उन्हें इस मुकाम पर ले आई है जहां वो दुनिया भर में प्यार और शोहरत बटोर चुके हैं.
मां कुलेश्वरी महोत्सव में सूफी गायन से जमेगी महफिल
दुर्गावती : क्षेत्र के अति प्राचीन शक्तिपीठ मां कुलेश्वरी धाम में 21 व 22 अप्रैल को देवी जागरण कार्यक्रम आयोजित किया गया है. इसमें ख्याति प्राप्त कलाकारों का अद्भुत संगम होगा. इस दरम्यान आये कलाकार अपने गीत-नृत्य व संगीत से महोत्सव में समां बांधेंगे.
सारेगामा ने कोर्ट से कहा: एल्बम के सीडी कवर पर मन्ना डे की फोटो और नाम का इस्तेमाल नहीं करेंगे
नयी दिल्ली : देश की सबसे पुरानी संगीत कंपनियों में से एक सारेगामा इंडिया लि. ने सोमवार को उच्चतम न्यायालय से कहा कि वह प्रख्यात गीतकार दिवंगत मन्ना डे की तस्वीर और नाम का इस्तेमाल अपने ‘होयतो तोमरी जान्नो'' एल्बम के सीडी कवर पर इस्तेमाल नहीं करेगी. पद्म भूषण और दादासाहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित मन्ना डे के नाम से विख्यात प्रबोध चंद्र डे ने ‘ऐ मेरी जोहरा जबीं'', ‘लागा चुनरी में दाग'' और ‘तू प्यार का सागर है'' जैसे अनेक यादगार गीत गाये थे.
खुशियों का उत्सव है पोइला बैशाख
वैसे तो मैं राजस्थान से हूं और राजस्थान की मिट्टी में पला-बढ़ा हूं, लेकिन बंगाल की धरती से मेरा बहुत ही खास संबंध रहा है. प्राय: ही शास्त्रीय संगीत कार्यक्रम में भाग लेने के लिए बंगाल आना-जाना लगा रहता है. बंगाल का संगीत और सुर के साथ खास रिश्ता है और यदि पोइला बैशाख हो, तो बंगाल के लोगों के लिए यह उत्सव कुछ खास ही हो जाता है.
पटना : आर्थिक बोझ साबित हो रहे वोकेशनल कोर्स, बंद करेगा सीबीएसइ!
पटना : सीबीएसइ वोकेशनल कोर्स बंद कर सकता है. आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक इन कोर्स की उपयोगिता का बोर्ड मूल्यांकन करने जा रहा है. सूत्रों के अनुसार कई कोर्स ऐसे हैं जहां सीबीएसइ स्कूलों में एक या दो ही विद्यार्थी होते हैं. उदाहरण के लिए कर्नाटक संगीत, मोहिनीअट्टम डांस, लाइब्रेरी एंड इंफ्रास्ट्रक्चर साइंस और हेल्थ सेंटर मैनेजमेंट ऐसे सब्जेक्ट हैं, जिनके परीक्षार्थियों की संख्या दहाई में भी नहीं पहुंची. पटना में हाल ही में हुए एग्जाम में संगीत के लिए बमुश्किल से चार से पांच छात्र ही परीक्षा के लिए पहुंचे.
मानसिक शांति के लिए संगीत जरूरी है : लव
हुसैनाबाद प्रखंड के दंगवार गांव में रामनवमी पूजा समिति के तत्वावधान में चैता दोगोला सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया. इसकी अध्यक्षता पूजा समिति के अध्यक्ष वकील सिंह ने की. संचालन नरेंद्र ठाकुर ने किया. कार्यक्रम का उद्घाटन सामाजिक कार्यकर्ता लव मेहता ,वकील सिंह, पीयूष सुमन आदि ने संयुक्त रूप से फीता काट कर किया.
फरहान अख्‍तर ने इस वजह से लिया था एक्टिंग से ब्रेक
मुंबई : फिल्म निर्माता-अभिनेता और गायक फरहान अख्तर ने संगीत के क्षेत्र पर ध्यान केन्द्रित करने के लिए दो साल पहले सब चीजों से ब्रेक लेने का फैसला किया था. अभिनेता ने कहा कि 2017 में फिल्म ‘‘लखनऊ सेंट्रल'''' के बाद उन्होंने अपनी पहली एलबम ‘इकोज'' पर ध्यान केन्द्रित करने का निर्णय लिया था.
पटना : सीबीएसइ ने तय की यह व्यवस्था, स्कूलों को करना होगा पालन
कला शिक्षा का अतिरिक्त क्लास अनिवार्य पटना : सीबीएसइ ने संबद्ध स्कूलों को वर्ष 2019 से 2020 के शैक्षणिक सत्र से कला शिक्षा को कक्षा 1 से 12 तक अनिवार्य विषय के रूप में पढ़ाने का निर्णय लिया है. हर स्कूल में इससे जुड़ी सुविधाएं मुहैया होंगी. हर स्कूल कला शिक्षा के लिए अनिवार्य रूप से प्रति सप्ताह कक्षा में न्यूनतम दो पीरियड आरक्षित करेगा. इसके तहत संगीत, नृत्य और रंगमंच आदि के जरिये सिखाने की कवायद शुरू की है.
सरहुल पर्व पूरे साल की खुशियों की शुरुआत है
सरहुल का पर्व पूरे गढ़वा जिले में हर्ष व उल्लास के साथ मनाया गया़ सरहुल के अवसर पर आदिवासी समाज के लोग पारंपरिक तरीके से नृत्य एवं संगीत के साथ सारी समस्याओं को भूलते हुए दिनभर उल्लास में डूबे नजर आये. आदिवासियों के इस पर्व में जिले के अधिकारी व विभिन्न राजनीतिक दल के नेता भी शामिल हुए.
रांची : संस्कार भारती का कवि सम्मेलन
रांची : भारतीय नव वर्ष चैत्र शुक्ल प्रतिपदा के अवसर पर संस्कार भारती महानगर रांची इकाई की ओर से कवि सम्मेलन व सुगम संगीत का आयोजन किया गया. कवि सम्मेलन में सुरिंदर कौर नीलम ने सरस्वती वंदना प्रस्तुत की. तन्मय शर्मा ने ‘प्राण मेरे विकल क्यों हैं...’, शालिनी नायक ने ‘रश्तिा जब बाहर टूटेगा...’, माया वर्मा ने ‘बोल कुहु कुछ तो बोल...’ की प्रस्तुति दी.
बंगाल में ओडिशी संगीत को शास्त्रीय संगीत का दर्जा देने की उठी मांग
बंगाल में ओडिशी शास्त्रीय संगीत का शास्त्रीय संगीत का दर्जा की मांग के बीच राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी ने ओडिशी शास्त्रीय संगीत की प्रशंसा करते हुए कहा कि ओडिशी संस्कृति व संगीत बहुत ही मधुर है तथा ओडिशा की भाषा भी बहुत ही सुंदर है. राज्यपाल श्री त्रिपाठी ओडिशी शास्त्रीय संगीत की संस्था ‘उत्कला’ और आइसीसीआर के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित कार्यक्रम के दौरान ये बातें कहीं.
वॉयस ऑफ गढ़वा का पहला राउंड कार्यक्रम आज
जिला प्रशासन द्वारा आयोजित स्वीप कार्यक्रम के तहत वॉयस ऑफ गढ़वा का प्रथम राउंड छह अप्रैल दिन शनिवार को दिन में 11 बजे से बाइपास रोड सावित्री वाटिका में आयोजित किया जायेगा. मतदाता जागरूकता अभियान के तहत किये जा रहे इस संगीत प्रतियोगिता को वृहद रूप से सफल बनाने में जिला प्रशासन, सारे प्रतिभागियों के लिए हर संभव व्यवस्था कर रही है.