14 results found for ''विक्रेताओं''
दवा विक्रेताओं की हड़ताल वापस
किशनगंज : बिहार केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट एसोसिएशन के आह्वान पर बुधवार से दवा विक्रेताओं की 3 दिवसीय हड़ताल शुरू हुई, लेकिन पहले दिन जिले की तमाम थोक एवं खुदरा दुकानें बंद रहने के सरकार द्वारा संघ के साथ बातचीत एवं ठोस आश्वासन के बाद गुरुवार से दुकानें खोल दिये जाने की घोषणा की गयी.
दवा व्यवसायियों की हड़ताल समाप्त, मरीजों को मिली राहत
छपरा : बिहार सरकार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय से हुई वार्ता के बाद दवा विक्रेताओं की हड़ताल समाप्त हो गयी. विदित हो कि अपनी विभिन्न मांगों को लेकर राज्य संघ के आह्वान पर सारण जिला औषधि विक्रेता संघ ने तीन दिवसीय बंद का आह्वान किया था. जिसके अंतर्गत 22,23 व 24 जनवरी को जिले की सभी थोक व खुदरा दुकानों को बंद रखने का निर्णय लिया गया था. पहले दिन हुई बंद का व्यापक असर दिखा.
मांगों के समर्थन में दवा दुकानदार रहे हड़ताल पर, दर-दर भटकते रहे मरीज
अररिया : बुधवार से तीन दिनों तक के लिए सभी दवा दुकानें बंद कर दी गयी हैं. दवा दुकानदारों की हड़ताल से मरीजों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा. बताया जाता है कि सात सूत्री मांगों को लेकर दवा व्यवसायी संघ ने बुधवार से लेकर शुक्रवार तक हड़ताल पर रहते हुए दवा की दुकानें बंद रखने का ऐलान किया है. इस बंदी में जिले की थोक विक्रेताओं से लेकर खुदरा दवा दुकानें बंद रखने की घोषणा की है.
दवा दुकानों की बंदी प्रारंभ,दवा को ले भटकते दिखे रोगी व उनके परिजन
लखीसराय : बिहार चेंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज एवं लखीसराय केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट एसोसिएशन के आह्वान पर औषधि नियंत्रण प्रशासक के द्वारा खुदरा व्यवसायियों को फार्मासिस्ट की उपलब्धता सुनिश्चित कराने के नाम पर एवं अन्य व्यवसायियों को छोटे-छोटे खुद रहा दवा विक्रेताओं के साथ सरकार की ओर से लगातार की जा रही उत्पीड़न एवं प्रताड़ना वाली वार्ताओं से नाराज दवा दुकानदार संगठन के लोगों की ओर से तकनीकी कारणों से किये जा रहे उत्पीड़न एवं शोषण के विरोध में तीन दिवसीय दुकान बंद रखने का कार्यक्रम बुधवार से प्रारंभ हो गया.
परेशानी: बहुत ढूंढ़ा पर नहीं मिली दवा, तो निराश हो बैरंग घर लौट गये रोगियों के परिजन
पूर्णिया : बुधवार से शुरू हुई दवा विक्रेताओं की हड़ताल का खामियाजा कई रोगियों को भुगतना पड़ा. डाक्टर का पुर्जा लेकर मरीजों के परिजन घंटों भटकते रहे पर उन्हें दवा उपलब्ध नहीं हो सकी. हालांकि इमरजेंसी दवा के लिए शहर में अलग-अलग तीन दुकानें खुली रहीं पर इसके बावजूद कई लोगों को डाक्टर के पुर्जे के हिसाब से दवा नहीं मिल सकी. जरुरत की दवा नहीं मिलने के कारण लोगों को काफी परेशानी उठानी पड़ी.
दवा विक्रेताओं के बंद का दिख रहा असर
छपरा : बिहार केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट एसोसिएशन के आह्वान पर जिले के दवा विक्रेताओं ने तीन दिनों तक थोक व खुदरा दवा दुकानों को बंद रहने का निर्णय लिया है. पहले दिन बंद का व्यापक असर देखने को मिला. शहर के श्री नंदन पथ स्थित मेडिसिन बाजार में सभी थोक दवा की दुकानें बंद रहीं.
बंद रहीं दवा दुकानें, भटकते रहे मरीज
बिहार केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट्स एसोसिएशन के आह्वान पर दवा विक्रेताओं द्वारा आयोजित तीन दिवसीय हड़ताल के प्रथम दिन बुधवार को मरीजों व उनके परिजन को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा. मरीज व उनके परिजन को आवश्यक दवाइयों को लेकर भटकना पड़ा. हालांकि आपात स्थिति को देखते हुए शहर में सदर अस्पताल के सामने शबनम मेडिकल हॉल, नंदीपत हॉस्पीटल कैंपस स्थित नंदीपत मेडिकल हॉल एवं डुमरा रोड नवजीवन
बंद के दौरान नर्सिंग होम के अंदर की दुकानों से खरीदें दवा
बिहारशरीफ : बुधवार से तीन दिनों तक दवा दुकानें बंद रहेंगी. दवा दुकानदारों की हड़ताल से लोगों की परेशानी बढ़ सकती है. सात सूत्री मांगों को लेकर दवा व्यवसायी संघ 22 से लेकर 24 जनवरी तक हड़ताल पर रहते हुए दवा की दुकानें बंद रखने का एलान किया है. इस बंदी में जिले की थोक विक्रेताओं से लेकर खुदरा दवा दुकानें बंद रखने की घोषणा की है.
अस्पतालों के आसपास की दुकानें रहेंगी खुली
छपरा : सारण जिला औषधि विक्रेता संघ ने बुधवार से तीन दिवसीय हड़ताल का आह्वान किया है. जिला संघ के अध्यक्ष अभिषेक कुमार ने बताया कि दवा विक्रेताओं पर हो रहे उत्पीड़न व उन्हें तकनीकों के आधार पर गलत साबित कर बार-बार प्रताड़ित किये जाने के विरोध में राज्य संघ के निर्देश पर बंद का आह्वान किया गया है.
दूध विक्रेताओं ने कीमत बढ़ाने की मांग उठायी
दूध विक्रेताओं ने कीमत बढ़ाने की मांग को लेकर मिठाईदुकानदारों को 24 जनवरी तक का अल्टीमेटम दिया है. इनलोगों ने दूध की कीमत में बढ़ोत्तरी की मांग उठायी है. दूध विक्रेताओं ने कहा कि गाय व भैंस के चारे व खाद्य सामग्री की कीमत में इजाफा हुआ है. यदि ऐसे में दूघ की कीमत नहीं बढ़ायी गयी तो उन्हें काफी घाटा उठाना पड़ेगा.
झटका : नोटबंदी के दौरान जौहरियों की ओर से जमा की गयी बेहिसाब नकदी की जांच शुरू
नयी दिल्ली : विभिन्न स्रोतों से प्राप्त जानकारी और आंकड़ों के विश्लेषण के बाद वित्त मंत्रालय ने नोटबंदी के दौरान आभूषण विक्रेताओं द्वारा बैंकों में जमा की गयी भारी नकदी की जांच-पड़ताल शुरू कर दी है. दरअसल, इन कारोबारियों ने जितनी नकदी जमा की है, वह उनके आय के ज्ञात स्रोतों से मेल नहीं खाती.
शराब का विकल्प बनीं बादाम, मासी व फोर्ड, दिल्ली व झारखंड से आ रहीं ये नशीली दवाएं
पटना : शराब के विकल्प के तौर पर युवा इन दिनों नशीली दवाओं का खूब इस्तेमाल कर रहे हैं. पटना इन दवाइयों की तस्करी का मुख्य केंद्र बन गया है. इस कारोबार में शहर के कई लोग शामिल हैं, जिन्होंने माल सप्लाइ के लिए भाड़े पर युवकों को लगा रखा है. यही वजह है कि बड़े कारोबारी बच जाते हैं और पकड़ में सिर्फ दवाओं का सैंपल व माल सप्लाइ करने वाले लोग ही आते हैं. प्रभात खबर की टीम ने शहर के गोविंद मित्रा दवा मंडी, छापेमारी करने वाले सदस्यों, विक्रेताओं व थाने से बातचीत की तो कई बातें सामने आयीं.
बाजार समिति में दो दिन ट्रक परिचालन पर रोक
बाजार समिति झंझारपुर परिसर में सप्ताह में दो दिन ट्रक परिचालन पर रोक लगा दी गई है. यह कारवाई सुरक्षा के दृष्टिकोण से पुलिस प्रशासन व अनुमंडल प्रशासन द्वारा की गई है. इससे पीडीएस विक्रेताओं को अनाज की आपूर्ति में परेशानी हो रही है. गौरतलब है कि ऐसा ही एक पत्र भारतीय खाद्य निगम द्वारा एसडीओ को उपलब्ध कराया गया है.
व्यापारियों की मुश्किल दूर करेगा जेम-पोर्टल
पटना : डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने कहा कि अगले वित्तीय वर्ष से जेम या जीइएम पोर्टल से ही सभी सरकारी सामान की खरीद होगी. वह मुख्य सचिवालय स्थित अधिवेशन भवन में गुरुवार को जेम पोर्टल पर आयोजित संवाद कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे. इस दौरान उन्होंने जेम पोर्टल पर खरीद-बिक्री में आने वाली सभी समस्याओं को विक्रेताओं से सुना और उनका समाधान किया. उपमुख्यमंत्री ने कहा कि कौन-कौन विभाग जेम से खरीद नहीं कर रहे हैं.