954 results found for ''रांची''
छठ को लेकर बिहार जानेवाली ट्रेनें व बसें फुल, बसों की छत-फर्श पर व ट्रेनों में बाथरूम के पास बैठ कर गये लोग
रांची: नहाय खाय के साथ गुरुवार को चार दिवसीय छठ महापर्व शुरू हो गया. लोग हर हाल में खरना के दिन अपने-अपने घर पहुंचना चाह रहे हैं. इसको लेकर गुरुवार को रेलवे स्टेशन व बस स्टैंड में यात्रियों की भीड़ लगी रही. बसों व ट्रेनों में पहले से ही सीटें फुल हैं. ऐसे में लोग किसी तरह ट्रेनों में लटक कर व बसों की छत पर और फर्श पर बैठ कर रवाना हुए. खादगढ़ा बस स्टैंड व सरकारी बस स्टैंड में यात्रियों की काफी भीड़ दिखी. कई बसों में यात्रियों को तीन गुने दाम पर टिकट दिये गये.
रांची : छठ घाट तैयार, व्रतियों का इंतजार, बड़ा तालाब के आधे हिस्से में नहीं होगा छठ
रांची : महापर्व छठ को लेकर शहर के लगभग सभी तालाबों की सफाई कर ली गयी है. कई तालाबों आकर्षक लाइट से सजाया गया है. घाटों को श्रद्धालुओं के लिए तैयार करने के लिए नगर निगम पिछले कई दिनों से सफाई अभियान चला रहा था. गुरुवार को निगम के अधिकारियों ने छठ घाटों का जायजा लिया. घाटों की सफाई से निगम के अधिकारी संतुष्ट दिखे.
बेहतर प्रयास : टॉपर्स से सवालों का जवाब देना सीखेंगे दूसरे बच्चे, उत्तर पुस्तिकाओं से ‘गुड आंसर की’ बना रहा सीबीएसइ
रांची : सीबीएसइ स्कूल में 10वीं और 12वीं में पढ़नेवाले बच्चों की परीक्षा से जुड़ी मुश्किलें कम करने की कोशिश हो रही है. इसके लिए सीबीएसइ एक बार फिर ‘गुड आंसर-की’ जारी करने जा रहा है. इस किताब में बोर्ड परीक्षा (10वीं और 12वीं) के बीते पांच साल के बोर्ड, स्टेट और डिस्ट्रिक्ट टॉपरों के उत्तर को समाहित किया जायेगा. कोशिश की जा रही है कि पढ़ने में कमजोर और परीक्षा में जटिल प्रश्न देख कर उलझनेवाले विद्यार्थियों को सटीक उत्तर लिखने की शैली पता चल सके.
सरदार पटेल के जन्म दिवस पर राष्ट्रीय एकता दौड़ में शामिल हुए सीएम, कहा- दिलों में एक भारत, श्रेष्ठ भारत की भावना हो
रांची : मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि आजादी के बाद सरदार वल्लभ भाई पटेल ने 500 रियासतों को एक करने का काम किया. सिर्फ तीन रियासत उनके नियंत्रण में नहीं थे. इसमें एक कश्मीर भी था, जो तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू देख रहे थे. अगर यह तीन रियासत सरदार पटेल के नियंत्रण में होती तो कश्मीर में 70 साल तक समस्या नहीं रहती.
सरदार पटेल के जन्म दिवस पर राष्ट्रीय एकता दौड़ में शामिल हुए सीएम, कहा- दिलों में एक भारत, श्रेष्ठ भारत की भावना हो
रांची : मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि आजादी के बाद सरदार वल्लभ भाई पटेल ने 500 रियासतों को एक करने का काम किया. सिर्फ तीन रियासत उनके नियंत्रण में नहीं थे. इसमें एक कश्मीर भी था, जो तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू देख रहे थे. अगर यह तीन रियासत सरदार पटेल के नियंत्रण में होती तो कश्मीर में 70 साल तक समस्या नहीं रहती.
रांची : गरीबी व बेरोजगारी खत्म करना हमारा लक्ष्य : सीएम रघुवर दास
रांची : बुढ़मू प्रखंड के चकमे में 31 अक्तूबर को मुख्यमंत्री रघुवर दास ने तीन प्लांट का शिलान्यास किया. इसमें एक प्लांट मॉरीशस की कंपनी लगुना क्लोथिंग है. 70 करोड़ की लागत से यहां रेडिमेड गारमेंट का प्लांट यह कंपनी लगाने जा रही है. प्रत्यक्ष रूप से 2250 को रोजगार मिलेगा. कंपनी को 7.7 एकड़ का प्लॉट आवंटित किया गया है.
रांची : गरीबी व बेरोजगारी खत्म करना हमारा लक्ष्य : सीएम रघुवर दास
रांची : बुढ़मू प्रखंड के चकमे में 31 अक्तूबर को मुख्यमंत्री रघुवर दास ने तीन प्लांट का शिलान्यास किया. इसमें एक प्लांट मॉरीशस की कंपनी लगुना क्लोथिंग है. 70 करोड़ की लागत से यहां रेडिमेड गारमेंट का प्लांट यह कंपनी लगाने जा रही है. प्रत्यक्ष रूप से 2250 को रोजगार मिलेगा. कंपनी को 7.7 एकड़ का प्लॉट आवंटित किया गया है.
झारखंड विधानसभा चुनाव 2019 : छठमय हुई राजनीति, राजनेता जुटे सेवा में
रांची : छठ के ठीक बाद झारखंड में विधानसभा चुनाव का आगाज हो जायेगा. चुनाव आयोग किसी भी दिन चुनाव की घोषणा कर सकता है. फिलहाल चुनावी माहौल में नेता छठ के आयोजनों में जुट गये हैं. मंत्री क्षेत्र में छठव्रतियों की सेवा में जुटे हैं.
झारखंड विधानसभा चुनाव 2019 : छठमय हुई राजनीति, राजनेता जुटे सेवा में
रांची : छठ के ठीक बाद झारखंड में विधानसभा चुनाव का आगाज हो जायेगा. चुनाव आयोग किसी भी दिन चुनाव की घोषणा कर सकता है. फिलहाल चुनावी माहौल में नेता छठ के आयोजनों में जुट गये हैं. मंत्री क्षेत्र में छठव्रतियों की सेवा में जुटे हैं.
भारत निर्वाचन आयोग ने अफसरों को दिये कई निर्देश, बल्क एसएमएस और बल्क कॉलिंग का प्री सर्टिफिकेशन किया अनिवार्य
रांची : भारत निर्वाचन आयोग ने कहा है कि बल्क एसएमएस और बल्क कॉलिंग चुनाव के दौरान प्रचार-प्रसार का एक महत्वपूर्ण माध्यम बन चुका है. झारखंड में आगामी विधानसभा चुनाव के दौरान बल्क एसएमएस और बल्क कॉलिंग का प्री सर्टिफिकेशन अनिवार्य होगा. बल्क एसएमएस व बल्क कॉलिंग प्रसारित करनेवाले सर्विस प्रोवाइडर द्वारा इन पर होने वाले व्यय की जानकारी देना अनिवार्य होगा.
भारत निर्वाचन आयोग ने अफसरों को दिये कई निर्देश, बल्क एसएमएस और बल्क कॉलिंग का प्री सर्टिफिकेशन किया अनिवार्य
रांची : भारत निर्वाचन आयोग ने कहा है कि बल्क एसएमएस और बल्क कॉलिंग चुनाव के दौरान प्रचार-प्रसार का एक महत्वपूर्ण माध्यम बन चुका है. झारखंड में आगामी विधानसभा चुनाव के दौरान बल्क एसएमएस और बल्क कॉलिंग का प्री सर्टिफिकेशन अनिवार्य होगा. बल्क एसएमएस व बल्क कॉलिंग प्रसारित करनेवाले सर्विस प्रोवाइडर द्वारा इन पर होने वाले व्यय की जानकारी देना अनिवार्य होगा.
फ्लैशबैक : विक्रमादित्य के वंशज थे ईचागढ़ के विधायक, 90 के बाद चुनाव नहीं लड़ा राज परिवार
रांची : कोल्हान में ईचागढ़ राजघराने का राजनीतिक इतिहास काफी पुराना है. पातकुम स्टेट के नाम से पहचान रखनेवाले ईचागढ़ राजपरिवार के पूर्वज राजा विक्रमादित्य बताये जाते हैं. वही सिंघासन बत्तीसी पर बैठ कर न्याय करने वाले राजा विक्रमादित्य. राजा विक्रमादित्य के वंशज अविभाजित बिहार में चांडिल पूर्वी सीट से विधायक थे. बाद में ईचागढ़ विधानसभा बनने के बाद भी वह विधायक चुने गये थे.
फ्लैशबैक : विक्रमादित्य के वंशज थे ईचागढ़ के विधायक, 90 के बाद चुनाव नहीं लड़ा राज परिवार
रांची : कोल्हान में ईचागढ़ राजघराने का राजनीतिक इतिहास काफी पुराना है. पातकुम स्टेट के नाम से पहचान रखनेवाले ईचागढ़ राजपरिवार के पूर्वज राजा विक्रमादित्य बताये जाते हैं. वही सिंघासन बत्तीसी पर बैठ कर न्याय करने वाले राजा विक्रमादित्य. राजा विक्रमादित्य के वंशज अविभाजित बिहार में चांडिल पूर्वी सीट से विधायक थे. बाद में ईचागढ़ विधानसभा बनने के बाद भी वह विधायक चुने गये थे.
विस चुनाव 2014 में इन सीटों पर हुआ था तीखा संघर्ष, पांच सीटों पर हजार से कम था जीत का अंतर
रांची : पिछले विधानसभा चुनाव (2014) में पांच सीटों पर तीखा संघर्ष हुआ था. इसमें हार-जीत का अंतर 1000 वोट से कम था. इसमें से तीन सीटें एनडीए के खाते में गयी थीं. वहीं कांग्रेस व झामुमो ने दो सीटें जीती थीं. भाजपा ने राजमहल, बोरियो और आजसू ने टुंडी सीट पर जीत दर्ज की थी. वहीं तोरपा से झामुमो के पौलुस सुरीन और बड़कागांव से कांग्रेस की प्रत्याशी निर्मला देवी की जीत हुई थी.
विस चुनाव 2014 में इन सीटों पर हुआ था तीखा संघर्ष, पांच सीटों पर हजार से कम था जीत का अंतर
रांची : पिछले विधानसभा चुनाव (2014) में पांच सीटों पर तीखा संघर्ष हुआ था. इसमें हार-जीत का अंतर 1000 वोट से कम था. इसमें से तीन सीटें एनडीए के खाते में गयी थीं. वहीं कांग्रेस व झामुमो ने दो सीटें जीती थीं. भाजपा ने राजमहल, बोरियो और आजसू ने टुंडी सीट पर जीत दर्ज की थी. वहीं तोरपा से झामुमो के पौलुस सुरीन और बड़कागांव से कांग्रेस की प्रत्याशी निर्मला देवी की जीत हुई थी.
वायु प्रदूषण से झारखंड में घटी उम्र, औसतन साढ़े चार साल जीवन काल हुआ कम, समझें छठ का मर्म तभी बचेंगे हम
रांची : देश के मेट्रो शहरों सहित उत्तरी भारत के विभिन्न राज्यों की तरह झारखंड की हवा भी प्रदूषित हो रही है. इस हद तक कि इसका प्रभाव लोगों की जीवन प्रत्याशा (जीवन जीने की उम्र) पर भी पड़ रहा है.
भाकपा माओवादी केंद्रीय कमेटी के 50वें गठन दिवस पर नक्सली चलायेंगे अभियान, पहुंचा सकते हैं नुकसान, अलर्ट जारी
रांची : भाकपा माओवादी केंद्रीय कमेटी के नक्सलियों ने 50वें गठन दिवस पर कंसालिडेशन (एकत्रीकरण) अभियान चलाने का निर्णय लिया है. खुफिया विभाग ने इसकी सूचना मिलने के बाद राज्य के सभी जिलों के एसपी को अलर्ट किया है. खुफिया जानकारी के अनुसार अभियान आठ नवंबर तक जारी रहेगा. इस दौरान नक्सली संगठन को मजबूत बनाने का प्रयास करेंगे.
यूपीए की रणनीति : झामुमो-कांग्रेस में गठजोड़, झाविमो हो रहा है आउट, जानें सीट बंटवारे का संभावित समीकरण
रांची : यूपीए में गठबंधन की धुंध धीर-धीरे छंट रही है़ यूपीए में कांग्रेस-झामुमो के साथ राजद और वाम दलों के गठबंधन की जमीन तैयार हो रही है़ वर्तमान राजनीतिक परिस्थिति में झाविमो इस गठबंधन से दूर होता दिख रहा है़ झाविमो अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी की कांग्रेस और झामुमो से दूरी बढ़ी है़ झाविमो हेमंत सोरेन के नेतृत्व में चुनाव नहीं लड़ने की दलील दे रहा है़ कांग्रेस का केंद्रीय नेतृत्व लोकसभा चुनाव में तय हुए फॉर्मूले में ही आगे बढ़ते हुए हेमंत सोरेन के नेतृत्व में चुनाव लड़ने के लिए तैयार है़
यूपीए की रणनीति : झामुमो-कांग्रेस में गठजोड़, झाविमो हो रहा है आउट, जानें सीट बंटवारे का संभावित समीकरण
रांची : यूपीए में गठबंधन की धुंध धीर-धीरे छंट रही है़ यूपीए में कांग्रेस-झामुमो के साथ राजद और वाम दलों के गठबंधन की जमीन तैयार हो रही है़ वर्तमान राजनीतिक परिस्थिति में झाविमो इस गठबंधन से दूर होता दिख रहा है़ झाविमो अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी की कांग्रेस और झामुमो से दूरी बढ़ी है़ झाविमो हेमंत सोरेन के नेतृत्व में चुनाव नहीं लड़ने की दलील दे रहा है़ कांग्रेस का केंद्रीय नेतृत्व लोकसभा चुनाव में तय हुए फॉर्मूले में ही आगे बढ़ते हुए हेमंत सोरेन के नेतृत्व में चुनाव लड़ने के लिए तैयार है़
रसोई में तड़का लगाना आज से महंगा, रांची में गैर सब्सिडी गैस सिलेंडर 76 रुपये महंगा
रांची : रांची में 14़ 2 किलो के नन सब्सिडी और 19 किलो के व्यावसायिक गैस सिलिंडर की कीमतों में वृद्धि हुई है़ 14़ 2 किलो नन सब्सिडी गैस के दाम में 76 रुपये वृद्धि हुई है़ ग्राहकों को 658़ 50 की जगह अब 734़ 50 रुपये देने होंगे़ वहीं 19 किलो के व्यावसायिक गैस के दाम में 118़ 50 रुपये की बढ़ोतरी हुई है़ अब इसके लिए ग्राहकाें को 1186़ 50 की जगह 1305 रुपये देने होंगे़