855 results found for ''रांची''
IN PICS : 4 अक्टूबर तक झारखंड में होती रहेगी बारिश, वर्षा ने ले ली 5 जानें
रांची : कई दिनों के बाद कुछ देर के सूखे के बाद राजधानी रांची समेत झारखंड के कई जिलों में बारिश शुरू हो गयी है. इस बीच मौसम विभाग ने कहा है कि 4 अक्टूबर तक बारिश से लोगों को निजात मिलने वाली नहीं है. हालांकि, राहत की बात यह है कि 30 सितंबर (सोमवार) को प्रदेश में कहीं भी भारी बारिश नहीं होगी. बहरहाल, रांची में बारिश से कई जगहों पर जलजमाव हो गया, जिससे यातायात व्यवस्था चरमरा गयी.
आ गया मौसम विभाग का रिकॉर्ड, झारखंड में बारिश की कमी हो गयी पूरी
रांची : झारखंड में जाते-जाते मॉनसून इतना बरसा कि कई जगहों पर तबाही तो मचायी ही, बारिश की कमी को भी पूरा कर दिया. 1 जून से 30 सितंबर तक प्रदेश में 1054.7 मिमी के मुकाबले 863.9 मिमी वर्षा हुई. यह सामान्य और वास्तविक वर्षापात के बीच 18 फीसदी का अंतर दिखाता है. यानी झारखंड में 30 सितंबर तक 18 फीसदी कम बारिश हुई. मॉनसून के दौरान बारिश में 20 फीसदी तक की कमी को सामान्य वर्षा माना जाता है. हालांकि, अब भी 10 जिले ऐसे हैं, जहां सामान्य से बहुत कम बारिश हुई है. यह कमी 26 फीसदी से 52 फीसदी तक है.
रांची के रिम्स में जन्म के साथ ही शुरू हो जायेगा जन्मजात आनुवांशिक रोगों का इलाज
रांची : झारखंड की राजधानी रांची में अब जन्मजात आनुवांशिक रोगों (Genetic Diseases) का इलाज जन्म के साथ ही शुरू हो जायेगा. इसके लिए एक विशेष केंद्र बनने जा रहा है. यह सुविधा देश के मात्र दो अस्पतालों में शुरू होने वाला है, जिसमें एक केंद्र रांची (Ranchi) के रिम्स (RIMS) में खुलेगा. अक्टूबर महीने में इस केंद्र के पूरी तरह से फंक्शनल हो जाने की उम्मीद है. एस्पिरेशनल डिस्ट्रिक्ट्स - डीबीटी उम्मीद - ‘यूनिक मेथड्स ऑफ मैनेजमेंट ऑफ इनहेरिटेड डिस्ऑर्डर्स’ प्रोग्राम (Unique Methods of Management of Inherited Disorders Programme) के तहत एंटीनेटल स्क्रीनिंग एंड न्यूबोर्न स्क्रीनिंग (Antenatal Screening and Newborn Screening) की शुरुआत हो जायेगी. इस कार्यक्रम के तहत बच्चे के जन्म के पहले और जन्म के बाद तमाम आनुवांशिक रोगों की जांच की जायेगी. किसी भी बीमारी का लक्षण पाये जाने पर उसका इलाज भी तत्काल शुरू कर दिया जायेगा.
रांची के रिम्स में जन्म के साथ ही शुरू हो जायेगा जन्मजात आनुवांशिक रोगों का इलाज
रांची : झारखंड की राजधानी रांची में अब जन्मजात आनुवांशिक रोगों (Genetic Diseases) का इलाज जन्म के साथ ही शुरू हो जायेगा. इसके लिए एक विशेष केंद्र बनने जा रहा है. यह सुविधा देश के मात्र दो अस्पतालों में शुरू होने वाला है, जिसमें एक केंद्र रांची (Ranchi) के रिम्स (RIMS) में खुलेगा. अक्टूबर महीने में इस केंद्र के पूरी तरह से फंक्शनल हो जाने की उम्मीद है. एस्पिरेशनल डिस्ट्रिक्ट्स - डीबीटी उम्मीद - ‘यूनिक मेथड्स ऑफ मैनेजमेंट ऑफ इनहेरिटेड डिस्ऑर्डर्स’ प्रोग्राम (Unique Methods of Management of Inherited Disorders Programme) के तहत एंटीनेटल स्क्रीनिंग एंड न्यूबोर्न स्क्रीनिंग (Antenatal Screening and Newborn Screening) की शुरुआत हो जायेगी. इस कार्यक्रम के तहत बच्चे के जन्म के पहले और जन्म के बाद तमाम आनुवांशिक रोगों की जांच की जायेगी. किसी भी बीमारी का लक्षण पाये जाने पर उसका इलाज भी तत्काल शुरू कर दिया जायेगा.
रांची में बोले राष्ट्रपति : झारखंड में हैं बेस्ट टैलेंट, धौनी और दीपिका पर सबको है नाज
रांची : राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सोमवार को टीम इंडिया के सबसे सफलतम कप्तानों में शुमार महेंद्र सिंह धौनी और तीरंदाज दीपिका कुमारी की तारीफ की. रांची विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह को संबोधित करते हुए श्री कोविंद ने कहा कि धौनी और दीपिका कुमारी पर उन्हें नाज है. उन्होंने रांची विश्वविद्यालय की बेटियों की भी तारीफ की.
रांची : नहीं हुई वार्ता, हड़ताल जारी
रांची : राजस्वकर्मियों की हड़ताल 25वें दिन भी जारी रही. रविवार को भी राजस्व उप निरीक्षकों ने हड़ताल की स्थिति की समीक्षा की. साथ ही सारे जिलाध्यक्षों से बात कर उन्हें हड़ताल को और तेज करने को कहा गया. वहीं हड़ताल के दौरान निर्धारित कार्यक्रमों के आयोजन का भी आग्रह किया गया. झारखंड राज्य राजस्व उप निरीक्षक संघ महामंत्री दुर्गेश मुंडा ने कहा कि जब तक मांगें पूरी नहीं हो जाती हैं, हड़ताल जारी रहेगी.
रांची : ठगी के आरोपियों की तलाश में छापेमारी
रांची : राजधानी में एेप के जरिये डीटीएच और मोबाइल रिचार्ज कूपन बेचने के नाम पर अधिक मुनाफा देने का झांसा देकर करीब एक करोड़ रुपये की ठगी करनेवाले आरोपियों की तलाश में पुलिस ने छापेमारी की, लेकिन सुराग नहीं मिला.
आज के युवा झारखंड आंदोलन की वैचारिकता से अनभिज्ञ हैं : दयामनी
रांची : जमींदारी और वर्चस्ववादी विचारधारा को संरक्षण देनेवाली राजनीतिक मानसिकता के खिलाफ आदिवासियों ने झारखंड की मांग के साथ एक ऐतिहासिक संघर्ष शुरू किया था, लेकिन आज यह राज्य लूट खंड बना नजर आता है़
रांची : ग्लूकोमा दृष्टिहीनता का दूसरा बड़ा कारण
रांची : ग्लूकोमा दृष्टिहीनता का दूसरा बड़ा कारण बन गया है. 90 फीसदी मरीजों का समय पर इलाज नहीं होता है, क्याेंकि वह विशेषज्ञ डॉक्टरों के पास अपनी आंख का इलाज कराने नहीं जाते हैं. समय पर इलाज नहीं होने से रोशनी गायब होने लगती है. यह बात ग्वालियर से आये डॉ पुरेेंद्र भसीन ने कही. वह रविवार को झारखंड ओफ्थल्मोलॉजिकल सोसाइटी व रांची ओप्थाल्मिक फोरम के संयुक्त तत्वावधान में कांके रोड स्थित हॉलिडे होम में मोतियाबिंद व ग्लूकोमा पर आयोजित कार्यशाला मेें बोल रहे थे.
रांची : बच्चों की मानसिकता पर ध्यान दें
अग्रवाल सभा के 43वें वार्षिकोत्सव पर सम्मान समारोह का आयोजन रांची : अग्रवाल सभा रांची द्वारा रविवार को 43वां वार्षिकोत्सव सह श्री अग्रसेन जयंती महोत्सव व सम्मान समारोह मनाया गया. इस अवसर पर महाराजा अग्रसेन जी की पूजा-अर्चना की गयी और हवन किया गया.
रांची : संवैधानिक प्रावधानों को लेकर किया जायेगा जागरूक
मंथन - राष्ट्रीय ईसाई महासंघ की बैठक में समाज की स्थिति को लेकर हुआ विमर्श, लिये गये कई निर्णय रांची : राष्ट्रीय ईसाई महासंघ की कार्यकारिणी समिति की बैठक रविवार को गोस्सनर कंपाउंड स्थित एचआरडीसी सभागार में हुई़ इसमें महासंघ के संविधान में संशोधन, राष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य में ईसाई समुदाय की स्थिति, ईसाई समुदाय, संस्थानों व धर्मगुरुओं पर अत्याचार व हिंसा की घटनाएं, प्रशासनिक कार्रवाई व देश के संविधान में अल्पसंख्यक धार्मिक समुदायों के लिए धार्मिक सुरक्षा व स्वतंत्रता के प्रावधान पर चर्चा की गयी़
रांची : डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर : 90% से ज्यादा जमीन दिलायी गयी
रांची : झारखंड में डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर के लिए 90 फीसदी से ज्यादा जमीन मिल गयी है. कोडरमा, हजारीबाग, गिरिडीह व धनबाद में जमीन दी गयी है. इसकी सूचना संबंधित पदाधिकारियों ने मुख्य सचिव को दे दी है. मुख्य सचिव ने तत्काल कार्यवाही करने को कहा है.
रांची :संस्कृति की नींव में दरार पड़ी, तो आदिवासी-सदान दोनों को घाटा
मूलवासी सदानों की जनभागीदारी पर जोर रांची : झारखंड के सदानों का इतिहास बहुत पुराना रहा है. आदिवासी और सदान इस राज्य के प्रमुख घटक हैं, जिस पर इस संस्कृति की नींव खड़ी है. अगर इनमें से एक को भी हिलाने की कोशिश की गयी, तो झारखंड की सामाजिक, सांस्कृतिक,आर्थिक और राजनीतिक व्यवस्था ही चरमरा जायेगी. दुर्भाग्य से सदानों को हाशिये पर डालकर इस नींव को हिलाने की कोशिश की जा रही है.
रांची : कुरगी, नगड़ी और देउरी में लटका है पिस्का मोड़-पलमा फोर लेन का काम
रांची : पिस्का मोड़-पलमा तक 23.1 किमी फोर लेन सड़क अब तक पूरी नहीं हुई है. इस मार्ग पर पड़नेवाले कुरगी, नगड़ी व देउरी में अब भी काम नहीं हुआ है. कुरगी मौजा में तो एक भी काम नहीं हुआ है. नगड़ी के शहरी इलाके में ही काम लटका हुआ है. वहीं, सेमरा में टोल प्लाजा का निर्माण कराना है. इसके लिए जमीन तो उपलब्ध करा दी गयी है, लेकिन उस पर पजेशन नहीं दिया गया है. इस माह पजेशन दे देने की बात कही गयी थी.
रांची : सांसदों का बनेगा रिपोर्ट कार्ड चुनाव में लगाना होगा जोर
विस चुनाव में पार्टी को लीड दिलाने का मिला टास्क रांची : विधानसभा चुनाव में भाजपा सांसदों का भी रिपोर्ट कार्ड बनेगा़ विधानसभा चुनाव के मद्देनजर संगठन ने सांसदों को भी टास्क दिया है़ राज्य की 14 में से 12 लोकसभा सीटों पर भाजपा का कब्जा है़
रांची : 60 विधायकों की पुल योजनाओं को मिली स्वीकृति
रांची : राज्य के 60 विधायकों की पुल योजनाअों को स्वीकृति मिल गयी है. ग्रामीण विकास विशेष प्रमंडल ने योजनाअों को स्वीकृति देते हुए इसके निर्माण के लिए आगे की प्रक्रिया करने का निर्देश दिया है. वर्ष 2019-20 के लिए मुख्यमंत्री ग्राम सेतु योजना के तहत इन योजनाअों को स्वीकृति दी गयी है.
रांची : सीएम से मिले शशि भूषण, भाजपा जायेंगे
रांची : पांकी विधानसभा से प्रत्याशी रहे डॉ शशि भूषण मेहता ने रविवार को मुख्यमंत्री रघुवर दास से मुलाकात की़ डॉ श्री मेहता तीन अक्तूबर को भाजपा में शामिल होंगे. उन्होंने मुख्यमंत्री के साथ चुनाव को लेकर चर्चा की़ उल्लेखनीय है कि डॉ मेहता पिछले विधानसभा चुनाव में डेढ़ हजार वोट से चुनाव हार गये थे. डॉ मेहता ने कहा कि मुख्यमंत्री रघुवर दास के नेतृत्व में झारखंड प्रगति के पथ पर अग्रसर है. उनके कार्यों से प्रभावित होकर उन्होंने भाजपा की सदस्यता ग्रहण करने का निर्णय लिया है़
रांची : बड़े नेता अलग पड़े, अध्यक्ष संभाल रहे हैं चुनावी मोर्चा
अब तक नहीं हुई कांग्रेस कैंपेन कमेटी की बैठक, आज आयेंगे प्रभारी रांची : विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीतिक दलों में सरगर्मी तेज हो गयी है. प्रमुख राजनीतिक दलों की ओर से अलग-अलग अभियान चलाये जा रहे हैं. वहीं, दूसरी तरफ कांग्रेस में अंतर्कलह का असर साफ देखने को मिल रहा है. कांग्रेस के बड़े नेता चुनाव अभियान से दूर हैं. पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सुखदेव भगत ने खुल कर अपनी नाराजगी भी जाहिर की है. अब तक डैमेज कंट्रोल के लिए केंद्रीय नेतृत्व की ओर से पहल नहीं की गयी है.
रांची : पहले शराब बेची अब प्याज बेच रही सरकार : कांग्रेस
रांची : प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष राजेश ठाकुर ने कहा है कि 65 पार का नारा देनेवाली भाजपा दल बदलुओं के सहारे विधानसभा चुनाव में उतरना चाहती है.
रांची : पीवीटीजी अस्पताल रामगढ़ की संबद्धता फिर हुई बहाल
रांची : स्वास्थ्य विभाग के तहत झारखंड राज्य आरोग्य समिति ने राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग की अनुशंसा पर अमल करते हुए पीवीटीजी अस्पताल, रामगढ़ को अायुष्मान भारत योजना के तहत फिर से सूचीबद्ध कर दिया है. प्रभात खबर में रविवार को इससे संबंधित खबर छपने के बाद रविवार को ही समिति के चिकित्सा प्रभारी डॉ रितेश रंजन ने अस्पताल प्रबंधन को मेल भेज कर इसकी सूचना दी है.