15 results found for ''पुस्तक''
बिहार स्टेट टेक्स्ट बुक पब्लिसिंग कारपोरेशन लिमिटेड ने तीसरी कक्षा की पुस्तक में छापा उल्टा राष्ट्रीय ध्वज
भारत का राष्ट्रीय झंडा, देश के लोगों की आशाओं और आकांक्षाओं का प्रतिरूप है. यह राष्ट्रीय गौरव का प्रतीक भी है. वहीं, उल्टा झंडा फहराने पर कार्रवाई भी की जाती है. लेकिन, जिस शिक्षा विभाग को बच्चों को शिक्षित करने की जिम्मेदारी सरकार ने दी है, उसकी लापरवाही देख अभिभावक व शिक्षक अचंभित है. यह राष्ट्रध्वज का अपमान है. विभाग पब्लिकेशन पर कार्रवाई की बात कह पल्ला झाड़ रहा है.
राजस्थान में दामोदर सावरकर 'वीर' नहीं रहे
राजस्थान में कांग्रेस सरकार ने स्कूली पाठ्य पुस्तकों की विषय वस्तु में कुछ बदलाव किये.
मासांत तक जिले के सभी बच्चों के पास होंगी किताबें
मुंगेर : जिला स्कूल के सभागार में बुधवार को जिले के विद्यालयों में 1 से 8 तक के सभी बच्चों के लिये पाठ्य पुस्तक क्रय करने संबंधित विभागीय बैठक आयोजित की गयी. उसकी अध्यक्षता जिला शिक्षा कार्यक्रम पदाधिकारी निशांत किरण ने की. बैठक में मुंगेर नगर, मुफस्सिल, एवं सदर मुंगेर प्रखंड के प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी सहित सभी सीआरसीसी एवं प्रधानाध्यापक सहित पुस्तक विक्रेताओं ने भाग लिया. वहीं 15 जून तक जिले के अन्य प्रखंडों के प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी सहित सभी सीआरसीसी, प्रधानसेवी एवं प्रधानाध्यापक की बैठक की जायेगी.
कक्षा एक से आठ तक के छात्र करेंगे खरीदारी
प्राथमिक व मध्य विद्यालयों के वर्ग एक से आठ तक के छात्र-छात्राओं को निःशुल्क पाठ्य पुस्तक उपलब्ध कराने के लिए मंगलवार को प्राथमिक शिक्षा निदेशक अरविंद वर्मा ने वीडियो कांफ्रेंसिंग कर जिला शिक्षा कार्यालय के पदाधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की. वीडियो कांफ्रेंसिंग में जिला शिक्षा कार्यालय के डीपीओ स्थापना जनार्दन प्रसाद विश्वास व कई प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी शामिल हुए.
23 जून तक सरकारी विद्यालयों में मिलेगा पुस्तक
जमुई : बच्चों के खाते में किताब को लेकर राशि के हस्तांतरण किये जाने के बाद भी उनके द्वारा पुस्तक क्रय नहीं करने की शिकायत से निबटने को लेकर विभाग ने एक अनोखी पहल किया है. इसे लेकर आगामी 20 से 23 जून तक शिक्षा विभाग संकुल स्तर पर स्टाल लगायेगा जहां से बच्चों को पुस्तक क्रय कराया जायेगा.
पाठ्यपुस्तक राशि बच्चों के खाता में दें: डीइओ
लखीसराय : बिहार राज्य राज्य स्टेट टेक्सटबुक कॉरपोरेशन के आलाधिकारियों की ओर से वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से जिले में प्रथम से अष्टम वर्ग तक के सरकारी विद्यालयों में पढ़ने वाले सभी स्कूली छात्र-छात्राओं के बीच चालू शैक्षिक सत्र में पाठ्य पुस्तक खरीदने के लिए राज्य सरकार की ओर से आवंटित राशि का ससमय बैंकों के माध्यम से बच्चों के अकाउंट में हस्तांतरण करने के मामलों की समीक्षा की गयी.
सरकारी स्कूलों में बगैर पुस्तकों के पढ़ाई
कटिहार : प्रारंभिक विद्यालयों में चालू शैक्षणिक सत्र का तीसरा महीना चल रहा है. पर अबतक पहली से आठवीं कक्षा तक के अधिकांश छात्र-छात्राओं के पास पढ़ने के लिए पाठ्यपुस्तक नहीं है. इस बीच राज्य सरकार ने पाठ्यपुस्तक उपलब्धता की स्थिति के अनुश्रवण को लेकर बिहार शिक्षा परियोजना परिषद पटना के वरीय पदाधिकारी को यहां समीक्षा करने के लिए नामित किया है.
सत्र शुरू होने के साथ ही बच्चों के हाथों में होंगी िकताबें, खाते में जायेगा पैसा
पूर्णिया : देर से ही सही शिक्षा विभाग ने बच्चों को पाठ्य-पुस्तक खरीदने की राशि उपलब्ध करा दी है. अब बच्चे किताब लेकर स्कूल जा सकेंगे. जानकारी के मुताबिक बिहार शिक्षा परियोजना परिषद ने इस मद में राशि उपलब्ध करा दी है. पूर्णिया जिले में कुल 56 लाख 8 हजार 612 बच्चों के लिए 16 करोड़ 70 लाख 19 हजार 400 रुपये आवंटित किये गये हैं. यह राशि जिले के सभी प्रखंडों को उपलब्ध करा दी गयी है.
लापरवाही बरतने वाले शिक्षकों पर दर्ज करें प्राथमिकी : डीएम
अरवल : जिन शिक्षकों की लापरवाही के कारण स्कूल भवन का निर्माण जो काफी दिनों से लंबित है, उन्हें चिह्नित कर एफआइआर दर्ज करने का निर्देश दिया गया. शिक्षा विभाग की समीक्षात्मक बैठक जिला पदाधिकारी रवि शंकर चौधरी की अध्यक्षता में संपन्न की गयी. पाठ्य -पुस्तक वितरण के संबंध में बताया गया कि प्राप्त राशि 122665 रुपये विद्यालय शिक्षा समिति को अंतरित कर दिये गये हैं. इसे अविलंब बच्चों के खातों में स्थानांतरण करने का निर्देश दिया गया, ताकि बच्चे पुस्तक क्रय कर अध्ययन कर सकें.
आठ को राज्य कार्यक्रम पदाधिकारी छपरा में करेंगे बैठक
छपरा (सदर) : आगामी 8 जून को शिक्षा विभाग के राज्य कार्यक्रम पदाधिकारी छपरा में जिले के शिक्षा विभाग के डीइओ, डीपीओ, बीइओ, बीआरपी एवं सीआरसी के साथ पाठ्यपुस्तक तथा पाठ्यपुस्तक से संबंधित राशि का वितरण तथा छात्रों के खाते में स्थानांतरण की समीक्षा करेंगे. इसे लेकर डीपीओ समग्र शिक्षा अमरेंद्र कुमार गौड़ ने सभी सीआरसीसीसी को पत्र भेजकर सात जून तक विद्यालयवार डाटा भेजने का निर्देश दिया है. इसमें विद्यालय का नाम, वर्गवार कुल नामांकन, पाठ्यपुस्तक मद में प्राप्त राशि, वर्गवार पुस्तक मद में हस्तांतरित राशि, शेष राशि क्यों नहीं गयी, कितने बच्चों के पास नयी किताबें हैं आदि जानकारी देनी है. कितने बच्चों के पास पुरानी किताबें, कितने और पुस्तकों की वर्गवार आवश्यकता है. इसका विवरण मांगा है. इसके अलावा पुस्तक क्रय के लिए विद्यालय के द्वारा क्या किया जा रहा है. उन्होंने यह आदेश राज्य कार्यक्रम पदाधिकारी के द्वारा चार जून को पटना में बैठक के दौरान दिये गये निर्देश के आलोक में दिया है. साथ ही सभी बच्चों के खाते में 10 जून तक हर हाल में राशि नहीं भेजने वाले प्रधानाध्यापक एवं प्रभारी प्रधानाध्यापक के विरुद्ध कठोर कार्रवाई की बात कही है.
गुमला के ईश्वर वर्मा बेंगलुरु में सम्मानित
झारखंड के ईश्वर वर्मा को साहित्य संगम, बेंगलुरु द्वारा बेंगलुरु में आयोजित एक कार्यक्रम में सम्मानित किया गया. इस अवसर पर भारत के कलमकार नाम से संकलित उनकी एक पुस्तक का भी विमोचन किया गया. भारत के कलमकार की प्रतियां संपूर्ण भारत के श्रेष्ठ पुस्तकालयों, रेलवे स्टेशनों के बुक स्टालों एवं पुस्तकों की दुकानों पर उपलब्ध होंगी.
झारखंड के युवा रचनाकार ईश्वर वर्मा बेंगलुरु में सम्मानित, पुस्तक ‘भारत के कलमकार’ का लोकार्पण
रांची : झारखंड के युवा रचनाकार ईश्वर वर्मा को कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु में सम्मानित किया गया. इस अवसर पर उनकी पुस्तक ‘भारत के कलमकार’ का लोकार्पण भी हुआ. कार्यक्रम में बेंगलुरु की संस्था साहित्य संगम ने रविवार को उन्हें सम्मानित किया.
झारखंड के युवा रचनाकार ईश्वर वर्मा बेंगलुरु में सम्मानित, पुस्तक ‘भारत के कलमकार’ का लोकार्पण
रांची : झारखंड के युवा रचनाकार ईश्वर वर्मा को कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु में सम्मानित किया गया. इस अवसर पर उनकी पुस्तक ‘भारत के कलमकार’ का लोकार्पण भी हुआ. कार्यक्रम में बेंगलुरु की संस्था साहित्य संगम ने रविवार को उन्हें सम्मानित किया.
बंगाली समिति करेगी आंदोलन लगाया गया उपेक्षा का आरोप
रांची : झारखंड बंगाली समिति की केंद्रीय कमेटी की बैठक बुधवार को समिति के अध्यक्ष विद्रोह कुमार मित्रा की अध्यक्षता में हुई. मौके पर सदस्यों ने कहा कि द्वितीय राजभाषा की स्वीकृति मिलने के बाद भी आज बंगला भाषा झारखंड में उपेक्षित है. बैठक में सर्वसम्मति से आंदोलन का निर्णय लिया है. सदस्यों ने मांग की कि बंगला भाषा की पुस्तकें स्कूलों में पढ़ने वाले बंगाली विद्यार्थियों को नियमित रूप से उपलब्ध करायी जायें.
भारतीय लेखिका एनी जैदी को एक लाख डॉलर का वैश्विक पुस्तक पुरस्कार
भारतीय लेखिका एनी जैदी को बुधवार को एक लाख डॉलर के ‘नाइन डॉट्स प्राइज'' 2019 का विजेता घोषित किया गया. यह एक प्रतिष्ठित पुस्तक पुरस्कार है जो विश्व भर के समसामयिक मुद्दों को उठाने वाले नवोन्मेषी विचारों को सम्मानित करने के लिए दिया जाता है. मुंबई की रहने वाली जैदी एक स्वतंत्र लेखिका हैं.