69 results found for ''ध्यान''
सुनिए झारखंड के नायकों को - खेल और खिलाड़ियों के विकास पर ध्यान दे सरकार
झा रखंड बने 19 साल हो चुके हैं और हम 20वें वर्ष में कदम रख चुके हैं. इस राज्य में खेल का विकास अभी तक सही ढंग का नहीं हो सका है. पिछले कुछ सालों में हमारे राज्य के खेल में गिरावट की महसूस की जा रही है. इसका मुख्य कारण है अच्छे खिलाड़ियों का पलायन. आनेवाली कोई भी सरकार हो, वह सबसे पहले पलायन को रोके.
सुनिए झारखंड के नायकों को - खेल और खिलाड़ियों के विकास पर ध्यान दे सरकार
झा रखंड बने 19 साल हो चुके हैं और हम 20वें वर्ष में कदम रख चुके हैं. इस राज्य में खेल का विकास अभी तक सही ढंग का नहीं हो सका है. पिछले कुछ सालों में हमारे राज्य के खेल में गिरावट की महसूस की जा रही है. इसका मुख्य कारण है अच्छे खिलाड़ियों का पलायन. आनेवाली कोई भी सरकार हो, वह सबसे पहले पलायन को रोके.
कांग्रेस का आरोप- मंत्रियों से योजनाबद्ध तरीके से दिलवाए जा रहे हैं उल्टे-सीधे बयान
रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगड़ी के एक बयान को लेकर कांग्रेस ने शनिवार को आरोप लगाया कि नरेंद्र मोदी सरकार के मंत्रियों से योजनाबद्ध तरीके से बयान दिलवाए जा रहे हैं ताकि असल मुद्दों से ध्यान भटकाया जा सके.
उरीमारी परियोजना में शौचालय की व्यवस्था हो
सीसीएल बरका-सयाल एरिया के सेफ्टी कमेटी सदस्यों ने शुक्रवार को उरीमारी परियोजना का निरीक्षण किया. निरीक्षण में उरीमारी ओपेन कास्ट, उरीमारी क्रशर, पोटंगा वर्कशॉप, बेस वर्कशॉप, व्यू टावर, सब स्टेशन, सौदा बी साइडिंग में सेफ्टी उपायों को देखा. कई बातों की तरफ प्रबंधन का ध्यान दिलाया.
रांची : फादर्स के लिए कानून की जानकारी जरूरी
डायसिसन प्रीस्ट्स आॅफ इंडिया, झारखंड-अंडमान का तीसरा सम्मेलन रांची : आर्चबिशप फेलिक्स टोप्पो ने कहा कि फादर्स इस बात को हमेशा स्मरण रखें कि वे पवित्र आत्मा से अभिषिक्त हैं और उन्हें इसकी गरिमा का ध्यान रखना है़
रांची : पांच वर्षों तक ना मंच रहा, न पंच: डॉ देवशरण
रांची : आजसू प्रवक्ता डॉ देवशरण भगत ने कहा कि पार्टी स्थानीय मुद्दों के साथ रही़ आजसू राज्य गठन के एजेंडे और सपनों को अहम मानती है़ पांच वर्षों तक यहां ना मंच था, ना पंच था़ हमने सीएनटी-एसपीटी हो या फिर स्थानीयता के सवाल पर लगातार सरकार का ध्यान खींचते रहे़ आजसू पार्टी एक आंदाेनकारी छवि की पार्टी रही है़ हमने सड़कों पर भी आम-अवाम की लड़ाई लड़ी़
लता मंगेशकर के परिवार ने कहा - दीदी स्‍वस्‍थ हैं, अफवाहों पर ध्‍यान न दें
सुर साम्राज्ञी लता मंगेशकर को सांस लेने में तकलीफ की शिकायत के बाद सोमवार को ब्रीच कैंडी अस्पताल की गहन चिकित्सा इकाई (आईसीयू) में भर्ती कराया गया था. गुरुवार को अस्‍पताल के सूत्रों ने जानकारी दी थी कि लता मंगेशकर के स्वास्थ्य में अब सुधार के संकेत दिख रहे हैं लेकिन उन्हें पूरी तरह से ठीक होने में वक्त लगेगा. हालांकि सोशल मीडिया पर लगातार उनके निधन की अफवाह फैलाई जाने लगी. इसके बाद उनके परिवार ने बयान जारी कर कहा कि लता दीदी स्‍वस्‍थ हैं.
Jharkhand Foundation Day: साल दर साल ऐसे बदली राज्य की सूरत, जानें...
15 नवंबर 2019 को झारखंड 19वां स्थापना दिवस मना रहा है. 19 साल पहले अस्तित्व में आने से लेकर अब तक राज्य की स्थिति में काफी परिवर्तन हुआ है. राज्य की सरकारों ने जनता के हितों को ध्यान में रखते हुए कई अहम फैसले लिये, जो जमीन पर उतरकर साकार हुए. आइए जानें-
ब्रासीलिया में पीएम मोदी ने कहा, ब्रिक्स देशों के बीच व्यापार और निवेश पर ध्यान देने की जरूरत
ब्रासीलिया : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को ब्राजील की राजधानी ब्रासीलिया में आयोजित ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में कहा कि हमें ब्रिक्स देशों के बीच व्यापार और निवेश पर ध्यान देने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि फिलहाल, वैश्विक व्यापार में फिलहाल अंतर-ब्रिक्स देशों की हिस्सेदारी केवल 15 फीसदी ही है. पीएम मोदी ने कहा कि हमने अभी हाल ही में फिट इंडिया अभियान की शुरुआत की है. मैं चाहता हूं कि फिटनेस और स्वास्थ्य के क्षेत्र में ब्रिक्स देशों के बीच आपसी तालमेल और लेन-देन में वृद्धि हो.
मानसिक परेशानी के कारण खिलाड़ियों के ब्रेक लेने पर चैपल बोले - बन गया है 'महामारी'
पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान इयान चैपल ने गुरुवार को कहा कि मानसिक समस्याओं के कारण सक्रिय खिलाड़ियों का ब्रेक लेना उनके देश में लगभग ‘महामारी'' बनता जा रहा है और उन्होंने क्रिकेट बोर्ड से तुंरत इस पर ध्यान देने का अनुरोध किया.
अपने बच्चों की शिक्षा के लिए निवेश कैसे करें?
माता-पिता होने के नाते आपके लिए बच्चों की उच्च स्तरीय शिक्षा आपकी पहली प्राथमिकता है क्योंकि यह उनके कैरियर का आधार है. हालांकि शिक्षा का खर्च तेजी से बढ़ रहा है इसलिए यह जरूरी है कि आपके पास पर्याप्त जमा पूंजी हो. आइए बाल दिवस के अवसर पर बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए जरूरी निवेश पर ध्यान दें ताकि आप बिना किसी कमी उनकी बेहतर शिक्षा को लेकर निश्चिंत हो जाएं.
पटना :रैली महाफ्लॉप, तेजस्वी ने भी काटी कन्नी : राजीव रंजन
पटना : भाजपा प्रवक्ता राजीव रंजन ने कहा है कि महागठबंधन की तरफ से आयोजित रैली पूरी तरह से महाफ्लॉप थी. इतने दिनों की उठा-पटक के बाद आज जैसे-तैसे आयोजित हुआ महागठबंधन का आक्रोश मार्च, लेकिन यह भी जनता का ध्यान खींचने में पूरी तरह नाकाम साबित हुआ.
छह माह से मौत का कुआं बन गया है सूइया-बोडवा मुख्य मार्ग का पुल
निरंजन, बांका : चांदन प्रखंड क्षेत्र के सूईया-बोडवा मुख्य मार्ग में आका गांव के समीप एक पुल छह माह से मौत का कुंआ बना हुआ है. जिस पर अबतक किसी विभागीय अधिकारी का ध्यान नहीं गया है. उक्त मार्ग से गुरजने वाले अबतक दर्जनों राहगीर दुर्घटना का शिकार बन चुके हैं. हालात यही रही तो आने वाले दिनों में और भी राहगीर दुर्घटना के शिकार होंगे. उक्त मार्ग से चार पहिया वाहन नहीं गुजरता है, जबकि इस मार्ग से तीन दर्जन से अधिक गांवों का आवाजाही होता है.
सीएम के आगमन को लेकर प्रशासन चुस्त, सौंदर्यीकरण व सुरक्षा पर ध्यान
टेढ़ागाछ : टेढ़ागाछ प्रखंड स्थित डाकपोखर पंचायत के बेणुगढ़ का ऐतिहासिक टीला में मुख्यमंत्री के आगमन को लेकर तैयारी जोर-शोर से चल रही है. उत्क्रमित माध्यमिक विद्यालय बेणुगढ़ के मैदान में हेलीपेड बनाया जा रहा है.
एमडीएम में घालमेल, दो बजे के बाद बनती हाजिरी
पोठिया : विद्यालय में छात्रों के नामांकन और उपस्थिति पर मध्याह्न भोजन का महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है. अधिकतर बच्चे खाली पेट विद्यालय पहुंचते है. जो बच्चे स्कूल आने से पहले खा कर आते है उन्हें भी दोपहर तक भूख लग जाती है. और वह अपना ध्यान पढ़ाई पर केंद्रित नही कर पाते है.
शहर कचरे की ढेर पर, नगर निगम के बाबू मस्त, तीन दिन में डंप हुआ 750 टन कचरा
शहर को स्वच्छ व सुंदर बनाने पर निगम का ध्यान नहीं है. शहर की सफाई व्यवस्था बेपटरी है, लेकिन निगम के पदाधिकारी मस्त हैं. सरकार और जिला प्रशासन ने नगर निगम को जगदीशपुर प्रखंड के कनकैथी के पास कूड़ा डंपिग के लिए जगह दिया है, लेकिन यहां कूड़ा नहीं गिर रहा है. कूड़ा डंपिंग स्थल की न चहारदीवारी दे रहा है न सड़क बनवा रहा है. ग्रामीणों के विरोध से तीन दिनों से वहां कूड़ा गिरना बंद है.
रांची : राजधानी में पिछले 24 घंटे में 199 बार काटी गयी बिजली
राज्य गठन के दो दशक पूरे होने को है, लेकिन उद्योगों को निर्बाध बिजली देने की अब तक कोई योजना नहीं बन सकी है. आम लोगों के घरों में बिजली कटने के साथ ही उद्योगों की बत्ती भी किसी क्षण गुल हो रही है. बिजली की इस व्यवस्था से उद्योग जगत सहित आम लोग परेशान हैं, लेकिन कोई भी राजनीतिक दल इस मुद्दे पर ध्यान नहीं दे रहा है. जनता के इन्हीं सवालों पर प्रभात खबर ने जमीनी हकीकत की पड़ताल की. पेश है रिपोर्ट...
चान्हो : ग्रामीणों का सब स्टेशन के समक्ष धरना
करंट से मृत युवक के परिजन को मुआवजा व नौकरी देने की मांग चान्हो : प्रखंड के पिपराटोली गांव में रविवार को करंट से मृत रवि तिग्गा के परिवार को 10 लाख मुआवजा व एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने की मांग को लेकर ग्रामीणों ने सोमवार को चान्हो स्थित विद्युत सब स्टेशन में धरना दिया. पूर्वाह्न करीब 11 बजे से सब स्टेशन के मुख्य गेट के समक्ष धरना पर बैठे पिपराटोली व दादगो गांव के ग्रामीणों का कहना था कि रवि तिग्गा की मौत बिजली विभाग की लापरवाही के कारण हुई है. गांव के निकट जमीन से महज चार-पांच फीट ऊपर झूल रहे 11 हजार वोल्ट के तार को दुरुस्त करने के लिए विभाग को कई बार सूचना दी गयी थी, लेकिन इस पर ध्यान नहीं दिया गया.
उत्तर 24 परगना में दो लाख हेक्टेयर में फसल को क्षति
कोलकाता : बुलबुल के कारण संदेशखाली, बशीरहाट और बारासात समेत उत्तर 24 परगना जिले में करीब दो लाख हेक्टेयर क्षेत्र में फैली जमीन पर फसलों का नुकसान हुआ है. इधर ग्रामीण अंचल में बुलबुल के प्रभाव से हुए नुकसान को ध्यान में रखते हुए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी बुधवार को उत्तर 24 परगना के संदेशखाली में एक प्रशासनिक बैठक करेंगी. सूत्रों के मुताबिक इस बैठक में जिले के सारे प्रशासनिक अधिकारियों के साथ ही विधायक और मंत्री भी शामिल रहेंगे.
शहरी संस्कृति की प्रेम कहानियों को बयान करती 'बंद दरवाजों का शहर'
रांची : एक लेखक समाज का नब्ज तभी पकड़ता है, जब वह समाज के मनोविज्ञान को भांपता और एहसास करता है. उसके एहसास का जरिया कलम बनती है. लेखिका रश्मिश् रविजा ने अपने पहले कथा संग्रह ''बंद दरवाजों का शहर'' समाज के इसी मनोदशा को समझने की कोशिश की है. इसमें कुल 12 कहानियां हैं. नगरीय जीवनशैली के इर्द-गिर्द बुने गये कथानक में स्त्रीवादी नजरिये के साथ पुरुष दृष्टिकोण को ध्यान रखा गया हैं. रश्मि की कलम से निकले शब्द स्त्री जीवन के दर्द, विषाद, प्रेम का सफल मनोवैज्ञानिक चित्रण करते हैं.