40 results found for ''कितना''
बिहार के ज्यूडेक्शन में होंगे अनंत
पटना : मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट या ड्यूटी मजिस्ट्रेट दिल्ली से ट्रांजिट रिमांड मिलने के बाद अनंत सिंह को दिल्ली पुलिस की सुरक्षा में बाढ़ कोर्ट में पेश किया जायेगा. इसके बाद वह बिहार की पुलिस और उसके कोर्ट के ज्यूडेक्शन में आ जायेंगे. इस पूरी प्रक्रिया में समय कितना लगेगा यह कोर्ट की कार्यवाही पर निर्भर करेगा.
संदिग्ध अवस्था में हो जाती है मौत, कातिल कौन, पुलिस को नहीं है पता
मधेपुरा : बीते महीनों में कई ऐसे मामले सामने आये हैं, जिसमें कई लोगों की संदिग्ध अवस्था में मौत हो गयी. गुनहगारों को पकड़ना तो दूर की बात पुलिस प्रशासन घटना होने के बाद पर्याप्त साक्ष्य भी नहीं सामने ला पाती है. जाहिर है पुलिस प्रशासन का यह रवैया कानून के काम करने की तरीके और अनुसंधान पर सवाल खड़ी करती है. पुलिस की लापरवाही के कारण न जाने कितने मामले फाइलों में बंद हो गये है. पीड़ित परिवार इंसाफ मांगने के लिए विभाग के वरीय अधिकारियों तक गुहार लगाते रहते है. हाल के दिनों में घटित कई ऐसी घटना भी है जो पुलिसिया तंत्र के उदासीनता की कहानी बयां कर रही है.
अपराध से है बाहुबली विधायक अनंत सिंह का पुराना नाता, पटना के कई थानों में दर्ज हैं दर्जनों मुकदमे
पटना : राजनीतिक गलियारे में अपनी हनक रखने वाले और लोगों के बीच छोटे सरकार के नाम से मशहूर मोकामा के विधायक अनंत सिंह पर हत्या, अपहरण, फिरौती और डकैती के न जाने कितने मामले दर्ज हैं. घोड़ा, हाथी के साथ-साथ अजगर सांप पालने से लेकर मर्सिडीज और बग्घी तक की सवारी करने वाले अनंत सिंह अब जल्द ही सलाखों के अंदर होंगे. यह दावा किसी और का नहीं बल्कि पटना पुलिस का है. अनंत सिंह के खिलाफ किन थानों में किस तरह के मुकदमे दर्ज हैं, पेश है एक रिपोर्ट.
‘चाय बनाने से ममता मोदी नहीं बन सकतीं’
खड़गपुर दो नंबर ब्लॉक के केलेआड़ा अंचल के बसंतपुर इलाके में एक भाजपा कार्यालय का उद्घाटन करने पहुंचीं भाजपा नेता और पश्चिम मेदिनीपुर जिला की पूर्व पुलिस अधीक्षक भारती घोष ने राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर कटाक्ष किया. उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी कितनी भी चाय बना लें, लेकिन वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बराबरी नहीं कर सकती हैं और ना वह मोदी बन पायेंगी.
अमेज़न के जंगलों में इस साल आग लगने की रिकॉर्ड 75000 घटनाएं
आग की हज़ारों घटनाओं के कारण ब्राज़ील में अमेज़न के वर्षा वनों को भारी नुकसान पहुंच रहा है. कितनी गंभीर हैं ये आग की घटनाएं.
फ्रांस में भारतीयों के सामने बोले मोदी, हमने पांच साल के लिए सरकार का ‘गोल’ तय कर दिया है...
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अभी फ्रांस के दौरे पर हैं आज उन्होंने पेरिस में भारतीयों को संबोधित करते हुए कहा कि भारत से गरीबी खत्म हो रही है. सरकार ने 75 दिनों में कई ऐसे फैसले किये जो बड़े बदलाव लाने वाले हैं. यह सब इसलिए संभव हो पाया है क्योंकि देश में मजबूत सरकार है. जनता ने इस सरकार को अपना मत देकर उसे मजबूत बनाया है. मोदी ने कहा कि आप सब जानते हैं कि फुटबॉल के खेल में ‘गोल’ का कितना महत्व है, तो हमारी सरकार ने पांच साल के लिए ‘गोल’ तय कर लिया है और उसे पूरा करेंगे.
अयोध्‍या से श्रीलंका तक दर्शन कराएगी रामायण एक्सप्रेस ट्रेन, जानें कितना करना होगा खर्च
नयी दिल्ली : भगवान राम से जुड़े धार्मिक स्थलों की यात्रा कराने वाली ‘भारतीय रेल रामायण सर्किट यात्रा'' इस साल भी श्रद्धालुओं के लिए आयोजित की जाएगी. पिछले साल यह यात्रा सफल रही थी. यह ट्रेन भारत और श्रीलंका में भगवान राम के जीवन से जुड़े स्थलों पर लेकर जाती है. भारत की यात्रा ट्रेन के माध्यम से जबकि श्रीलंका की यात्रा चेन्नई से विमान के जरिए होगी.
रांची : थानों में कितने संसाधन हैं इसकी रिपोर्ट बनायेगा ऐप
पुलिस मुख्यालय ने सभी जिलों के एसपी से मांगी है रिपोर्ट रांची : राज्य के सभी जिलों के पुलिस थानों में उपलब्ध आधारभूत संरचना, बल, वाहन, हथियार, सुरक्षा उपकरण, कम्यूनिकेशन डिवाइस सहित अन्य उपकरणों की पूरी रिपोर्ट तैयार होगी. इसके लिए पुलिस मुख्यालय ने इंफ्रास्ट्रक्चर मैनेजमेंट सिस्टम एेप तैयार किया है. मुख्यालय स्तर से सभी जिलों के एसएसपी/एसपी को पत्र भेजा गया है. कहा गया है कि प्रत्येक जिला इकाई, थाना, पुलिस केंद्र, वाहिनी मुख्यालय में आधारभूत संरचना संबंधी उपकरणों की उपलब्धता की समीक्षा करेगी.
MLA अनंत का आतंक : सारी कार्रवाई लोगों ने देखी, लेकिन साक्षी बनने को कोई नहीं तैयार, कांस्टेबल बने छापे के गवाह
मोकामा विधायक अनंत सिंह का बाढ़ में कितना आतंक है, इसका अनुमान इसी से लगाया जा सकता है कि जब पुलिस टीम उनके पैतृक गांव नदावां में पहुंची और छापेमारी की कार्रवाई के दौरान दो स्वतंत्र साक्षी की जरूरत पड़ी तो पुलिस के आग्रह के बावजूद वहां मौजूद लोगों में से कोई भी साक्षी बनने को तैयार नहीं हुआ. अंत में पुलिस ने दो कांस्टेबल को स्वतंत्र साक्षी बनाया और छापेमारी की प्रक्रिया शुरू की. इस बात का खुलासा अनंत सिंह के खिलाफ दर्ज प्राथमिकी में आवेदक सह बाढ़ थाने के थानाध्यक्ष संजीत कुमार ने किया है.
पटना : भूल सुधारी, तो छात्र बना सेकेंड टॉपर
छात्र मानव गोपाल ने हाइकोर्ट में दायर की थी याचिका पटना : बिहार विद्यालय परीक्षा समिति कितनी लापरवाह है, इसका एक उदाहरण पटना हाइकोर्ट में एक छात्र की रिट याचिका की सुनवाई के बाद पता चला.
चीन की ताक़त में हॉन्गकॉन्ग का कितना योगदान
हॉन्गकॉन्ग में हो रहे विरोध-प्रदर्शनों को अगर चीन ज़बरन दबाना चाहे तो क्या होगा?
पूचं में घट रहा लिंगानुपात, लड़कियों की संख्या में कमी
बेटी बचाओ व बेटी पढ़ाओ का नारा दे सरकार भले ही बेटियों की सुरक्षित करने का दावा करती है और उनकी बेहतरी के लिए कई योजनाएं चलाती हैं,लेकिन उसका असर पूर्वी चंपारण जिले में कितना है, प्राप्त आंकड़ों को देख सहज अनुमान लगाया जा सकता है. लिंगानुपात लगातार घट रहा है और लड़कियों की संख्या में कमी दर्ज की जाने लगी है.
कश्मीर पर नेहरू को विलेन बनाना कितना सही
जम्मू-कश्मीर को लेकर सरदार पटेल किस वजह से नाराज़ थे, फिर भी कैसे मिला जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा.
बीबीसी क्लिक: भारत में बनी बिना ड्राइवर की चलने वाली गाड़ी
बीबीसी क्लिक में देखिए आपके लिए कितनी सुरक्षित हैं ड्राइवरलेस कार
कश्मीर मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र बैठक: भारत-पाक का कितना नफ़ा- नुक़सान?
पाकिस्तान के पत्र लिखने के बाद संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में कश्मीर मुद्दे पर बैठक होने वाली है.
बीजेपी से क़रीबी का रजनीकांत को कितना फायदा होगा?
कश्मीर मुद्दे पर मोदी और अमित शाह के फैसले की तारीफ़ कर रजनीकांत फिर एक बार चर्चा में हैं. क्या ये उनकी राजनीतिक महत्वकांक्षा का संकेत है.
Independence Day 2019 पर PM मोदी ने दिया इतना लंबा भाषण, जानें कब-कितना बोले...
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का बृहस्पतिवार को स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल किले की प्राचीर से दिया गया भाषण अब तक के सबसे लंबे भाषणों में से एक था. स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लगातार छठी बार दिये गए उनके भाषण की अवधि 95 मिनट थी.
अनुच्छेद 370: कश्मीर की बेहतरी के सरकारी दावों में कितना दम: नज़रिया
अनुच्छेद 370 के प्रावधान ख़त्म होने से जिस बेहतरी का दावा किया जा रहा है, वह कसौटी पर कितना खरा है.
कितना 'आज़ाद' पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर?
भारत प्रशासित कश्मीर को लेकर पाकिस्तान लगातार सवाल उठाता है लेकिन उसके नियंत्रण वाले कश्मीर में कैसी स्थिति है, पढ़िए.
Mission Mangal Film Review: Independence Day पर रिलीज Akshay Kumar की फिल्म को मिले कितने स्टार्स?
असल जिंदगी की प्रेरणादायक कहानियों को रुपहले पर्दे पर दर्शाने का चलन पिछले कुछ समय से जोरों पर है. भारत के मंगल ग्रह की कक्षा में सैटेलाइट लांच करने की कहानी को मिशन मंगल में दिखाया गया है. वो भी पहली कोशिश में ही भारतीय वैज्ञानिकों ने ये सफलता हासिल की थी. यह इस बात को और खास बना देता है. इसी स्वर्णिम गाथा को एंटरटेनमेंट की चाशनी में डुबोकर इस फिल्म में परोसा गया है, जो मनोरंजन करने के साथ-साथ गर्व का अनुभव भी कराती है. फिल्म महिला सशक्तिकरण पर भी जोर देती है. कैसे होम साइंस का इस्तेमाल साइंटिफिक कार्यों में भी महिलाएं कर चीजों को आसान बना देती हैं.