11 results found for ''इसरो''
#Chandrayaan2 चंद्रमा की कक्षा में हुआ दाखिल, ISRO प्रमुख बोले- बहुत बड़ी सफलता
श्रीहरिकोटाः प्रक्षेपण के 29 दिन बाद चंद्रयान-2 आज यानी मंगलवार को सुबह चंद्रमा की कक्षा में स्‍थापित हो गया. आज 11 बजे इसरो के प्रमुख के सिवन प्रेस कॉन्‍फ्रेंस करेंगे. चंद्रयान-2 का विक्रम लैंडर सात सितंबर को चंद्रमा पर लैंड करेगा. इससे पहले भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन के लिए उपलब्‍ध‍ि एक मील का पत्‍थर साबित होगी.
Chandrayaan 2 को मंगलवार को चांद की कक्षा में प्रवेश कराएगा ISRO
भारत के चंद्र मिशन 2 के लिए मंगलवार को एक अत्यंत महत्वपूर्ण घड़ी आएगी, जब इसरो चंद्रयान-2 के तरल रॉकेट इंजन को दाग कर उसे चांद की कक्षा में पहुंचाने के अभियान को अंजाम देगा.
इसरो ने मेक इन इंडिया को दिया बढ़ावा, निजी कंपनियों को पांच पीएसएलवी बनाने का न्योता
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ‘मेक इन इंडिया’ पहल के साथ ही अब भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने भारतीय कंपनियों को पांच पोलर सैटेलाइट लॉन्च वेहिकल्स (पीएसएलवी) बनाने का न्योता दिया है
'रॉकेट मैन' सिवन को विज्ञान कार्यों में उत्कृष्ता के लिए 'कलाम पुरस्कार'
तमिलनाडु सरकार ने विज्ञान तथा प्रौद्योगिकी को बढ़ावा देने में उत्कृष्ट योगदान के लिए भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान (इसरो) के चेयरमेन के. सिवन को बृहस्पतिवार ''डॉ एपीजे अब्दुल कलाम पुरस्कार'' से नवाजा.
लगातार कीर्तिमान बनाने के लिए इसरो बधाई का पात्र
चंद्रयान दो का सफल प्रक्षेपण इसरो की विश्वसनीयता पर मुहर लगाने के साथ ही यह भी दरसाता है कि उसके लिए अंतरिक्ष की चुनौतियां अब और आसान हो गयी हैं.
इसरो ने ‘चंद्रयान 2’ से ली गयी धरती की तस्वीरों का पहला सेट जारी किया
नयी दिल्ली : अंतरिक्ष एजेंसी, भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान (इसरो) ने रविवार को ‘चंद्रयान 2’ से ली गयी पृथ्वी की तस्वीरों का पहला सेट जारी किया. चंद्रयान 2 पर लगे एल-14 कैमरे से ली गयी ये तस्वीरें पृथ्वी को विभिन्न रूपों में दिखाती हैं. इसरो ने इन तस्वीरों के साथ एक ट्वीट में कहा, ‘चंद्रयान2 एल14 कैमरों से तीन अगस्त, 2019.’
इसरो ने ‘चंद्रयान 2' से ली गयी धरती की तस्वीरों का पहला सेट किया जारी, आप भी देखें
नयी दिल्ली : भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान (इसरो) ने रविवार को ‘चंद्रयान 2'' से ली गयी पृथ्वी की तस्वीरों का पहला सैट जारी किया. यह तस्वीरें चंद्रयान 2 पर लगे एल 14 कैमरे से ली गयी हैं.
भारत के सपनों को पंख लगाते हुए चंद्रमा की ओर बढ़ रहा है ‘चंद्रयान-2'
बेंगलुरू : चंद्रमा पर पहुंचने का भारत का सपना आहिस्ता-आहिस्ता साकार होते दिख रहा है. देश के दूसरे चंद्र मिशन ‘चंद्रयान-2'' ने 14 अगस्त को पृथ्वी की कक्षा छोड़ दी और यह चंद्रमा की ओर बढ़ रहा है. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के वैज्ञानिकों ने इसे चंद्रपथ पर डालने के लिए एक महत्वपूर्ण अभियान प्रक्रिया को अंजाम दिया. अंतरिक्ष एजेंसी ने बताया है कि उसने भारतीय समयानुसार बुधवार तड़के दो बजकर 21 मिनट पर अभियान प्रक्रिया ‘ट्रांस लूनर इंसर्शन'' (टीएलआई) को अंजाम दिया. इसके बाद चंद्रयान-2 सफलतापूर्वक ‘लूनर ट्रांसफर ट्राजेक्टरी'' में प्रवेश कर गया. चंद्रयान-2 के 20 अगस्त को चंद्रमा की कक्षा में पहुंचने और सात सितंबर को इसके चंद्र सतह पर उतरने की उम्मीद है. इसरो ने ट्वीट किया, ‘‘आज (14 अगस्त 2019) ट्रांस लूनर इंसर्शन (टीएलआई) प्रक्रिया के बाद चंद्रयान-2 धरती की कक्षा से निकलेगा और चंद्रमा की ओर अपने कदम बढ़ाएगा.'''' अंतरिक्ष एजेंसी ने कहा, ‘‘पृथ्वी के आसपास चंद्रयान की अंतिम बार कक्षा बढ़ाने के दौरान करीब 1203 सेकंड के लिए लिक्विड इंजन का उपयोग किया गया. इसके साथ ही चंद्रयान-2 लूनर ट्रांसफर ट्राजेक्टरी में प्रवेश कर गया.'''' इसरो अब तक ‘चंद्रयान-2'' को पृथ्वी की कक्षा में ऊपर उठाने के पांच प्रक्रिया चरणों को अंजाम दे चुका है. पांचवें प्रक्रिया चरण को छह अगस्त को अंजाम दिया गया था. इसरो ने कहा, ‘‘22 जुलाई को इसके प्रक्षेपण से लेकर अब तक चंद्रयान-2 की सभी प्रणालियां सामान्य रूप से काम कर रही हैं.'''' उसने बताया कि ‘चंद्रयान-2'' 20 अगस्त को चंद्रमा पर पहुंचेगा और इसे चंद्रमा की कक्षा में प्रवेश कराने के लिए फिर से लिक्विड इंजन का उपयोग किया जाएगा. देश के कम लागत वाले अंतरिक्ष कार्यक्रम को पंख लगाते हुए इसरो के सबसे शक्तिशाली तीन चरण वाले रॉकेट जीएसएलवी-एमके तृतीय-एम1 ने आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा अंतरिक्ष केंद्र से 22 जुलाई को चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण किया था. इसरो के अनुसार 13 दिन बाद लैंडर ‘विक्रम'' अलग हो जाएगा और कुछ दिनों बाद सात सितंबर को चांद के दक्षिणी ध्रुव पर सॉफ्ट लैंडिंग करेगा. चांद के इस हिस्से पर अभी तक कोई देश नहीं पहुंचा है. इस अभियान की सफलता के बाद रूस, अमेरिका और चीन के बाद भारत चांद पर सॉफ्ट लैंडिंग करने वाला चौथा देश बन जाएगा.
धरती की कक्षा छोड़ने के बाद बुधवार से 'चंद्रपथ' पर आगे बढ़ेगा 'चंद्रयान 2'
बेंगलुरू : ''चंद्रयान 2'' बुधवार को धरती की कक्षा छोड़ देगा और फिर यह चांद पर पहुंचने के लिए ''चंद्रपथ'' पर अपनी यात्रा शुरू कर देगा. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के वैज्ञानिक इसे चंद्रपथ पर डालने के लिए कल सुबह एक महत्वपूर्ण अभियान प्रक्रिया को अंजाम देंगे.
चंद्रमा की सतह पर सात सितंबर को उतरेगा चंद्रयान-2 : इसरो
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अध्यक्ष के सिवन ने सोमवार को कहा कि भारत के दूसरे चंद्र अभियान चंद्रयान-2 के 20 अगस्त को चंद्रमा की कक्षा में पहुंचने की संभावना है और सात सितंबर को यह चंद्रमा की सतह पर उतरेगा.
चंद्रमा की कक्षा में 20 अगस्त को पहुंचेगा चंद्रयान-2 : ISRO
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अध्यक्ष के सिवन ने सोमवार को कहा कि भारत के दूसरे चंद्र अभियान चंद्रयान-2 के 20 अगस्त को चंद्रमा की कक्षा में पहुंचने की संभावना है और सात सितंबर को यह चंद्रमा की सतह पर उतरेगा. उन्होंने यहां संवाददाताओं से कहा कि अंतरिक्ष यान दो दिनों बाद पृथ्वी की कक्षा से बाहर निकलना शुरू करेगा.