• दो दिन होगा सूर्य ग्रहण, अगले साल 56 दिन निकलेगी बरात

    दरभंगा : 17 अगस्त से शुरू हो रहे नये पंचांग वर्ष में इस बार 56 दिन विवाह का लगन हैं. वहीं उपनयन के लिए 13 दिन शुभ मुहूर्त है. 28 दिन डोली उठेगी यानी द्विरागमन के लिए 28 दिन शुभु मुहूर्त बन रहा है. पिछले साल से अगर तुलना करें तो विवाह का लगन लगभग समान ही है. उपनयन के लिए तीन अधिक मुहूर्त बन रहा है. पिछले साल विवाह के लिए 57 दिन लगन था. इसके तहत मधुबनी के सौराठ में अगले साल पांच जून से सभा शुरू होगी, जिसका समापन 11 जून को होगा.

  • कोलकाता : दक्षिणेश्वर आद्यापीठ में नवरात्रि पर हुई 2000 कुंवारियों की पूजा

    कोलकाता : दक्षिणेश्वर रामकृष्ण संघ आद्यापीठ की ओर से हर साल की तरह इस साल भी नवरात्रि के अवसर पर कुमारी पूजा का आयोजन किया गया. रविवार को कोलकाता के दक्षिणेश्वर आद्यापीठ के नाट्य मंदिर ऑडिटोरियम में कुमारी पूजा के अवसर पर करीब दो हजार कुवारी कन्याओं का पूजन किया गया.

  • ‘ओ जट्टा आई बैसाखी’

    बैसाखी प्राचीन राष्ट्रीय त्योहार है, जो देश की एकता, अखंडता का प्रतीक है तथा देश के विभिन्न भागों में अलग-अलग तरह से मनाया जाता है. यह त्योहार बैसाख की संक्रांति को मनाया जाता है, जो इस बार 14 अप्रैल को है.

  • 1929 में पांच लोगों ने निकाली थी रांची की पहली रामनवमी शोभायात्रा, हजारीबाग के महावीर मंदिर से मिली प्रेरणा

    अभिषेक रॉय, रांची : झारखंड में रामनवमी शोभायात्रा की परंपरा काफी गौरवपूर्ण रही है. रांची में इसकी शुरुआत महावीर चौक से हुई. पहली शोभायात्रा पांच लोगों ने मिलकर निकाली थी. सबसे पहले वर्ष 1929 में डॉ रामकृष्ण लाल और उनके भाई कृष्ण लाल ने पहल की.

  • रामनवमी तब और अब

    प्रो सुभाषचंद्र मिश्रा : देखा जाये तो किसी भी पर्व व त्योहार के दो पहलू होते हैं. एक जानना और दूसरा समझना. इस दृष्टिकोण से यदि बात रामनवमी की जाये, तो पहले की तुलना में इस पर्व को मनाने में भव्यता आयी है. उमंग भी देखा जाता है. लेकिन सादगी और श्रद्धा के साथ पर्व मनाये जाने का जो उत्साह था, वह भव्यता व उमंग में कम पड़ रहा है.

  • और विराट हो गया जुलूस

    विजय केसरी, हजारीबाग : भगवान राम के जन्मोत्सव पर महावीरी झंडा हजारीबाग में पहली बार 1918 में निकाला गया. गुरु सहाय ठाकुर, यादव बाबू वकील, जगदेव गोप, हीरा लाल महाजन, कन्हैया गोप, हरिहर प्रसाद, टीभर गोप के नेतृत्व में गोधूलि वेला में बड़ा अखाड़ा में झंडा जमा हुआ.

  • गुमला के आंजन में जन्मे थे श्रीराम भक्त वीर हनुमान

    दुर्जय पासवान, गुमला : श्रीराम भक्त हनुमान का जन्म झारखंड के उग्रवाद प्रभावित गुमला जिले से 20 किमी दूर आंजनधाम में हुआ था. भगवान हनुमान की जन्म स्थली के अलावा गुमला जिले के पालकोट प्रखंड में बालि व सुग्रीव का भी राज्य था.

  • उदीयमान सूर्य के अर्घ के साथ चैती छठ महापर्व संपन्‍न

    चैती छठ महापर्व के तीसरे दिन गुरुवार को छठव्रतियों ने अस्ताचलगामी भगवान सूर्य देव को अर्घ दिया. शुक्रवार को उदीयमान भगवान सूर्य को अर्घ देकर छठ महापर्व सपंन्‍न हुआ.

  • वासंतिक नवरात्र सातवां दिन : जानें कैसे प्रसन्‍न करें मां कालरात्रि देवी को

    जिनका रूप विकराल है, जिनकी आकृति और विग्रह कृष्ण कमल सदृश है तथा जो भयानक अट्टहास करनेवाली हैं, वे कालरात्रि देवी दुर्गा मंगल प्रदान करें.

  • आज डूबते हुए सूर्य को देंगे अर्घ, शुक्रवार को समाप्त होने तक चलेगा 36 घंटे का छठ महापर्व

    पटना : पहले दिन नहाय व दूसरे दिन खरना के बाद गुरुवार को चैठी छठ का पहला सांध्य अर्घ दिया जायेगा. फिर शुक्रवार को उगते सूर्य को अर्घ देकर पूजा की समाप्ति की होगी. लोग गंगा घाटों, तालाबों व घर में भी पर्व का आयोजन करेंगे.

  • वासंतिक नवरात्र छठा दिन : ऐसे करें मां कात्यायनी की पूजा

    जिनका हाथ उज्ज्वल चंद्रहास (तलवार) से सुशोभित होता है तथा सिंहप्रवर जिनका वाहन है, वे दानव संहारिणी दुर्गा देवी कात्यायनी मंगल प्रदान करें.

  • वासंतिक नवरात्र पांचवां दिन, ऐसे करें दुर्गादेवी स्कंदमाता को प्रसन्‍न

    जो नित्य सिंहासन पर विराजमान रहती हैं तथा जिनके दोनों हाथ कमलों से सुशोभित होते हैं, वे यशस्विनी दुर्गादेवी स्कंदमाता सदा कल्याणदायिनी हों

  • चैती छठ : सौभाग्य योग में खरना आज, शाम से 36 घंटे का उपवास शुरू, कल रवियोग में सायंकालीन अर्घ

    पटना : चैती छठ पर ग्रह-गोचरों का दुर्लभ संयोग बन रहा है, जिसमें आदित्य योग, गजकेसरी योग, लक्ष्मी-नारायण योग, रवियोग और सर्वार्थ सिद्धि योग शामिल हैं.

  • वासंतिक नवरात्र चौथा दिन : ऐसे करें मां कूष्माण्डा दुर्गा की पूजा

    या देवी सर्वभुतेषु शक्तिरूपेण संस्थिता- शास्त्रों में शक्ति शब्द के प्रसंगानुसार अलग-अलग अर्थ किये गये हैं. तांत्रिक लोग इसी को पराशक्ति कहते हैं और इसी को विज्ञानानंदघन ब्रह्म मानते हैं.

  • चैती छठ का नहाय-खाय आज, चार दिवसीय महापर्व की तैयारियों में जुटे व्रती, जानें किस दिन क्या

    चार दिवसीय चैती छठ का नहाय-खाय मंगलवार से शुरू हो रहा है. मंगलवार को प्रात: सूर्योदय के बाद व्रती विभिन्न नदी-तालाबों, डैमों, जलाशयों व घरों में स्नान-ध्यान के बाद भगवान की पूजा-अर्चना करेंगी.

  • वासंतिक नवरात्र तीसरा दिन : ऐसे करें मां चंद्रघंटा की उपासना

    जो पक्षी प्रवर गरूड़ पर आरूढ़ होती हैं, उग्र कोप और रौद्रता से युक्त रहती हैं तथा चंद्रघण्टा नाम से विख्यात हैं ,वे दुर्गा देवी मेरे लिए कृपा का विस्तार करें.

  • कलश स्थापना से नवरात्र शुरू, ब्रह्मचारिणी की उपासना आज

    पटना सिटी : ...या देवी सर्वभूतेषु शक्ति रूपेण संस्थिता, नमस्तस्यै, नमस्तस्यै, नमस्तस्यै, नमो नम: की गूंज के बीच ब्रह्म मुहूर्त में शक्तिपीठ बड़ी पटनदेवी व छोटी पटनदेवी कलश स्थापन आरंभ हुआ. मंदिर के बंद कपाट के बाहर खड़े भक्तों की कतार और अंदर में शक्तिपीठ बड़ी पटनदेवी के महंत विजय शंकर गिरी द्वारा भगवती के स्नान शृंगार का अनुष्ठान. कपाट खुलने के इंतजार में भक्तों की बढ़ती भीड़ कुछ इसी तरह शनिवार को शक्तिपीठ में कलश स्थापन व भगवती शृंगार का अनुष्ठान संपन्न हो गया.

  • चैत्र नवरात्र : 5 सर्वार्थ सिद्धि, 2 रवि योग और एक रवि पुष्य योग का बन रहा शुभ संयोग

    आठ शुभ संयोगों से सुशोभित चैत नवरात शनिवार से शुरू होगी. इस साल इसमें 5 सर्वार्थ सिद्धि, 2 रवि योग और एक रवि पुष्य योग का शुभ संयोग बन रहा है. इन संयोगों में माता की आराधना करने से विशेष फल की प्राप्ति होगी. इस बार मां दुर्गा का आगमन घोड़े की सवारी से होगा जो राज्य भय एवं युद्ध को देने वाली है. रविवार को विसर्जन होने से भैंसे पर बैठकर माता जाएंगी, जिससे अधिक बारिश होगी.

  • देवताओं का एक दिन है एक संवत

    ‘सदगुरु स्वामी आनन्द जी’ संवत सिर्फ़ भारतीय कैलेंडर मात्र नहीं है, बल्कि इसे देवताओं का एक दिन भी कहते हैं. छः मानव श्वास से एक विनाड़ी बनती है. 10 विनाड़ी यानी साठ श्वासों से एक नाड़ी और साठ नाड़ियां एक दिवस (दिन-रात का युगल) निर्मित करती हैं. तीस दिवसों का एक माह होता है. एक चंद्र मास, उतनी चंद्र तिथियों से निर्मित होता है.

  • इस नवरात्र पूरे विधि-विधान से करें मां दुर्गा की आराधना, पूरी होगी सारी मनोकामना

    रांची : नवरात्र में पूरे विधि विधान से मां दुर्गा की आराधना करने से आपकी सारी मनोकामनाएं पूरी होंगी. जब दो ऋतुओं का मिलन होता है, तब चैत्र नवरात्रि मनाते हैं. इस संधि काल में ब्रह्मांड से असीम शक्तियां ऊर्जा के रूप में उत्पन्न होती हैं और हम तक पहुंचती हैं. रांची के पंडित रामदेव पांडेय बताते हैं कि हम दो नवरात्र के विषय में ही जानते हैं : चैत्र नवरात्र एवं आश्विन नवरात्र. चैत्र नवरात्र गर्मियों के मौसम की शुरुआत करता है और प्रकृति मां एक प्रमुख जलवायु परिवर्तन से गुजरती हैं.

  • 21 मार्च को होली, जानें कब है होलिका दहन का मुहूर्त, आने वाले पर्व त्योहार के बारे में भी जान लें

    रांची : इस साल रंगों का त्योहार होली 21 मार्च को है. 20 मार्च (बुधवार) को पूर्णिमा तिथि प्रदोष व्यापिनी है. प्रदोष काल शाम 6:04 बजे से रात्रि 8:58 बजे तक है. भद्रा प्रात: 10:45 बजे से रात्रि 9:00 बजे तक पृथ्वी लोक के लिए अशुभ एवं अनिष्टकारी है. भद्रा की समाप्ति के बाद रात 9 बजे से 11:04 बजे तक शुभ व अमृत का चौघड़िया है. यह देश एवं राज्य के साथ-साथ लोगों के लिए भी श्रेष्ठ है.

  • होलाष्टक शुरू, होलिका दहन 20, होली 21 को

    फाल्गुन शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि से होलिका दहन तक के आठ दिनों की अवधि को होलाष्टक कहा जाता है. वाराणसी पंचांग के मुताबिक यह 13 मार्च की रात्रि 11:49 बजे से 20 मार्च यानी होलिका दहन तक रहेगा. 21 मार्च को होली मनायी जायेगी. हालांकि झारखंड, बिहार, बंगाल में इसकी खास मान्यता नहीं है. जबकि उत्तर व पश्चिम भारत खासकर राजस्थान, पंजाब, दिल्ली आदि प्रांतों में इसे खास महत्व दिया जाता है. इस अवधि में विवाह आदि शुभ कार्य वर्जित रहते हैं.

  • महाशिवरात्रि : हर हर महादेव से गूंजा देवघर, आज निकलेगी भव्य बारात, शामिल होंगे लाखों श्रद्धालु

    देवघर : महाशिवरात्रि पर सोमवार को बाबा भोलेनाथ की भव्य बारात निकलेगी. इसमें लाखों श्रद्धालु शामिल होंगे. शहर में करीब सात किलोमीटर की दूरी तय कर शिव बारात बाबा मंदिर पहुंचेगी. यहां देर रात तक बाबा बैद्यनाथ की चतुष्प्रहर पूजा की जायेगी तथा बाबा का विवाह संपन्न कराया जायेगा. इसकी तैयारी पूरी कर ली गयी है.

  • कुंभ मेला : आखिरी शाही स्नान आज, 80 लाख श्रद्धालु लगायेंगे डुबकी

    प्रयागराज : महाशिवरात्रि पर सोमवार को कुंभ मेले में 70-80 लाख श्रद्धालुओं के गंगा और संगम में स्नान करने के संभावना है. महाशिवरात्रि का स्नान कुंभ मेले का आखिरी शाही स्नान है. इसके साथ ही मेला संपन्न हो जायेगा. अब तक कुंभ मेले में 22 करोड़ लोग स्नान कर चुके हैं. अयोध्या में रामलला के दर्शन के बाद रविवार को श्रद्धालुओं की भीड़ कुंभ स्नान के लिए लौटने लगी. करीब सभी ट्रेनों में काफी भीड़ रही.

  • 18 वर्ष बाद आज सोमवार को पड़ रही महाशिवरात्रि, जानें इस अद्भुत संयोग के बारे में

    18 वर्षों के बाद इस बार सोमवार को शिवरात्रि आयी है. इस बार शिवयोग, कल्पयोग, आनंद योग और अर्धचंद्र योग का दुर्लभ संयोग बन रहा है. महाशिवरात्रि व्रत अमृतसिद्धि योग एवं श्रवण नक्षत्र में मनायी जायेगी. महाशिवरात्रि को लेकर शिवालयों को आकर्षण ढंग से सजाया गया है. महावीर मंदिर में रुद्राभिषेक करवाने की व्यवस्था की गयी है.

  • महाशिवरात्रि पर बन रहा है विशेष योग, सोमवार होने के कारण बढ़ गयी है महत्ता

    रांची : महाशिवरात्रि चार मार्च को है. सोमवार के कारण इस वर्ष महाशिवरात्रि का महत्व बढ़ गया है. साथ ही कुंभ, सर्वार्थसिद्धि योग, त्रिपुष्कर योग और यायीजय योग मिलने के कारण इसकी महत्ता और बढ़ गयी है. डॉ सुनील बर्म्मन के अनुसार रविवार को दिन के 02.11 बजे त्रयोदशी तिथि लग जायेगी, जो कि सोमवार शाम 04.10 बजे तक रहेगी. इसके बाद से चतुर्दशी लग जायेगी, जो मंगलवार शाम तक रहेगी. महाशिवरात्रि के दिन कुंभ मेला का समापन हो जायेगा. इस दिन अंतिम स्नान है.

  • आज सिद्धि योग में होगी मां सरस्वती की पूजा, ऐसे करें आराधना

    आज सिद्धि योग में विद्या की देवी मां सरस्वती की पूजा होगी. ज्योतिषियों के अनुसार जिस दिन पंचमी तिथि सूर्योदय और दोपहर के बीच में व्याप्त रहती है उस दिन को सरस्वती पूजा के लिये उपयुक्त माना जाता है. दस फरवरी को पंचमी सुबह 9 बजकर 46 मिनट तक है. वसंत पंचमी के दिन किसी भी समय सरस्वती पूजा की जा सकती है

  • शिशिर की शांति छीन आया मधुमास वसंत

    वसंत-पंचमी आ गयी. वसंत का पंचम दिन. शास्त्रकार भले मीन-मेष में पड़े हों-‘मीन-मेषे गते सूर्ये वसन्तः परिकीर्तितः’ या चैत-वैशाख मानते हों. वसंत धीर-प्रशांत नहीं, धीरोद्धत व धीरललित ऋतुनायक है. इसलिए इसने पंद्रह दिनों में ही शिशिर की शांति छीन ली, वसंत-राज्य की घोषणा करवा ली. सरसों फूल ही गयी, रबी की फसलें गदरा ही गयीं... पेड़ों में नयी कोपलें फूटने ही लगीं, तो यह क्यों दम साधे? सूरज ठंड को गरमाने ही लगे, तो यह क्यों घुड़की मारे रहे? ऋतुराज का दूत रसाल मंजरियां लेकर आ ही गया.

  • दरगाह में वसंत पंचमी

    सूफीवाद का सिर्फ एक ही सिद्धांत है - इंसान चाहे किसी भी मजहब, जाति या रंग का हो, सभी की सेवा करना. सूफी संत की शांति और एकता का 13वीं सदी का संदेश आज भी मायने रखता है. समाज में बहुत अधिक ध्रुवीकरण होने के बावजूद दरगाह ने हमेशा सभी धर्मों के लोगों और उनके विचारों को स्थान दिया है.

  • विवाह पूर्व क्यों जरूरी है वर-वधू का कुंडली मिलान

    डॉ एनके बेरा, ज्योतिषाचार्य विवाह और दांपत्य जीवन प्रत्येक व्यक्ति के जीवन में अत्यंत महत्वपूर्ण स्थान होता है.

  • कुंभ का दूसरा शाही स्नान आज

    इलाहाबाद : कुंभ मेले का शाही स्नान सोमवार को होगा. इस दिन मौनी अमावस्या भी है. माघ मास में आने वाली इस अमावस्या को माघी अमवास्या के नाम से भी जाना जाता है. इस दिन मौन व्रत धारण कर संगम में या फिर किसी पवित्र नदी में डुबकी लगाने का विशेष महत्व है.

  • Kumbh Mela 2019 : दूसरे स्नान पर्व पर प्रयागराज में उमड़ी श्रद्धालुओं की भीड़, पौष पूर्णिमा के साथ शुरू हुआ कल्पवास

    प्रयागराज (उत्तर प्रदेश) : कुंभ मेले के दूसरे स्नान पर्व पर त्रिवेणी में डुबकी लगाने के लिए लाखों श्रद्धालु संगम के तट पर पहुंच चुके हैं. सुबह से ही श्रद्धालु गंगा, यमुना और सरस्वती के संगम स्थल पर श्रद्धा की डुबकियां लगा रहे हैं. पवित्र स्नान कर रहे हैं. संगम के तट पर प्रयागराज में सोमवार (21 जनवरी) को पौष पूर्णिमा के दिन पवित्र स्नान करने के साथ ही एक महीने का कल्पवास भी शुरू हो गया. हर बार कुंभ में 10 से 12 लाख श्रद्धालु लगातार एक महीना तक यहां रुककर नियम व परंपराओं के मुताबिक संगम में स्नान करते हैं.

  • चंद्रग्रहण आज, भारत में नहीं दिखाई पड़ेगा

    नयी दिल्ली : इस साल का पहला चंद्रग्रहण सोमवार, 21 जनवरी को लगेगा. भारत में यह ग्रहण नहीं दिखेगा. यह केवल अफ्रीका, यूरोप, उत्तरी-दक्षिणी अमेरिका और मध्य प्रशांत में ही दिखायी देगा. मालूम हो कि यह साल का पहला पूर्ण चंद्रग्रहण होगा, जिसे ब्लड मून नाम दिया जा रहा है. इस ग्रहण का भारतीय मौसम और वातावरण पर खासा असर पड़ेगा.

  • आदर्श मनुष्य वह है, जो सत्कर्मों का फल ईश्वर को करे समर्पित

    आज का आलोच्य विषय है- आदर्श मनुष्य की जीवनचर्या कैसी होनी चाहिए? मनुष्य पृथ्वी में बहुत दिनों तक रहने के लिए नहीं आता है. वह आता है, कुछ दिन रहता है, काम-काज करता है, खाता-पीता है, दूसरों का उपकार करता है, राग-अभिमान करता है, अभाव अभियोग करता है, उसके बाद सबकुछ समाप्त हो जाता है, हमेशा के लिए वह सो जाता है.

  • पौष पूर्णिमा पर स्नान और दान का है विशेष महत्व

    साल 2019 की पहली पूर्णिमा की तिथि 21 जनवरी से शुरू हो रही है. शास्त्रों के अनुसार, मोक्ष की कामना रखने वालों के लिए पौष माह की पूर्णिमा बहुत ही शुभ होती है. अमावस्या को कृष्ण पक्ष और पूर्णिमा को शुक्ल पक्ष का अंतिम दिन होता है. पौष माह की पूर्णिमा होने के कारण इसे पूषी पूर्णिमा भी कहते हैं.

  • किन बातों पर निर्भर करता है भाग्य-दुर्भाग्य

    अर्थात् समुद्र-मंथन में विष्णु को लक्ष्मी मिलीं और शिव को विष. मायने यह कि भाग्य का ही फल सभी जगह मिलता है, विद्या और उद्योग का नहीं. यह कथन अपने उदाहरण से भले ही भाग्यवादी सोच को बल देता हो, पर ज्ञान और उद्यम का सदा महत्व रहा है. ऐसा नहीं होता तो शिक्षा केंद्रों की जरूरत नहीं होती.

  • शुक्र को नाराज करने से बनता है दुख का कारक

    ज्योतिषशास्त्र में शुक्र ग्रह को प्रेम का प्रतीक माना गया है. अगर जातक की कुंडली में शुक्र मजबूत है, तो जीवन में रोमांस के साथ भोग-विलासिता में कमी नहीं रहती.

  • मकर संक्रांति के फूड सीक्रेट्स , जानें कुछ खास बातें

    मकर संक्रांति मूलतः नहाने और खाने का त्योहार है, और उसमें भी इस रोज तिल खाना सबसे जरूरी होता है. यही वजह है कि मकर संक्रांति का एक और नाम तिल संक्रांति भी है. तिल, तिलकुट और तिल की बनी दूसरी मिठाइयों के साथ हम मकर संक्रांति के दिन खास कर खिचड़ी और चूड़ा दही भी खाते हैं.

  • 45 किलोमीटर में फैला है कुंभ मेला, शुरू हुआ शाही स्नान, 15 करोड़ लोगों के जुटने की उम्मी

    नयी दिल्ली/इलाहाबाद : सबसे बड़ा आयोजन कहे जाने वाले कुंभ मेले का पहला शाही स्नान मंगलवार सुबह से शुरू हो चुका है और आधिकारिक रूप से मेले की शुरुआत हो गयी है. 49 दिन तक चलने वाले इस मेले का समापन चार मार्च को होगा और इस बीच आठ मुख्य पर्वों पर शाही स्नान होगा. माना जा रहा है कि श