• सीवान : साढ़े तीन दशक में बंद हो गयी तीन चीनी मिलें

    सीवान : जिले की तीन चीनी मिलें साढ़े तीन दशक से बंद हैं. पचरूखी की एक और सीवान की इन दो मिलों के चालू होने की उम्मीद यहां के किसानों को अब भी है. यह बात दीगार है कि हर बार चुनाव के वक्त नेताओं को किसानों की इस उम्मीद का ख्याल आता है और चुनाव के बाद इसे भुला दिया जाता है. इस बार भी ये मिलें यहां का चुनावी मुद्दा हैं. हालांकि किसान नेताओं पर कितना भरोसा कर पाते हैं, यह तो वोट के दिन ही पता चलेगा.

  • ए भाई, टक्कर बड़ा जबरदस्त बा

    नपुर जंकशन पर सोमवार की सुबह 10.10 बजे 15027 अप मौर्य एक्सप्रेस प्लेटफार्म नंबर तीन पर आकर रुकती है. यात्रियों की भीड़ ट्रेन की तरफ दौड़ती है. पिछली बोगी से गार्ड का बक्सा उतर रहा है, गार्ड बदल गये हैं.

  • सबकी दावेदारी, सब के तर्क

    सीवान सीट पर अभी भाजपा का कब्जा है. इसके व्यास देव प्रसाद ने पिछले विधानसभा चुनाव में राजद के अवध बिहारी चौधरी को भारी मतों के अंतर से पराजित किया था. प्रसाद यहां से लगातार दूसरी बार विधायक चुने गये थे, जबकि अवध बिहारी सिंह उनसे पहले पांच बार यहां से विधायक निर्वाचित हुए थे. चौधरी के समर्थक इस बार