पाठक का पत्र

बाढ़ से बचाव की पहल करे केंद्र व राज्य की सरकार

Prabhat Khabar

एक और जहां हम चंद्रयान दो के सफल प्रक्षेपण का जश्न मना रहे हैं, वहीं कुछ पूर्वोत्तर भारत में बाढ़ की विभीषिका से भी रूबरू हो रहे हैं. खासकर बिहार में जहां नेपाल द्वारा छोड़े गये पानी के कारण हर साल करोड़ों रुपये की क्षति व जान-माल का नुकसान हो रहा है. पुराने समय में कोसी परियोजना गंडक परियोजना के जरिये नहर बनाकर बाढ़ के पानी को खेतों की ओर मोड़ दिया जाता था, जिससे पटवन के समय इसका उपयोग किया जाता था.

Columns

सौ दिनों में गढ़े गये कई इतिहास

अर्जुन मुंडा

मोदी सरकार पुन: निर्वाचित होने के बाद अपने सौ दिन पूरे कर चुकी है. इन सौ दिनों के लिए नयी सरकार ने ...

Columns

सीमा पर समझदारी जरूरी

शशांक

बीते दिनों लद्दाख में भारत-चीन सीमा पर भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच कुछ कहासुनी और धक्का-मुक्की की ...

Columns

जयललिता के बाद का तमिलनाडु

आर राजगोपालन

दक्षिण भारत की सियासत में हाल में एक अनोखा मोड़ आया है, जब तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक ...

Columns

कैसे सुधरेगा पाकिस्तान

अजय साहनी

पाकिस्तान पिछले कुछ दिनों से पाक-अधिकृत कश्मीर (पीओके) में वहां की आम जनता को परेशान कर रहा है. ...

Columnists

हिंदी का विरोध दुर्भाग्यपूर्ण है

इस वर्ष हिंदी दिवस पर गृह मंत्री अमित शाह के द्वारा अपने ट्वीट में राष्ट्रीय एकता की डोर को मजबूत करने तथा विश्व में भारत की पहचान को स्थापित करने में राजभाषा हिंदी के महत्व को रेखांकित करने पर जिस प्रकार कुछ क्षेत्रीय नेताओं और लोगों ने विवाद खड़ा करने की कोशिश की, वह अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है.

इसके दूरगामी परिणाम होंगे

रेलवे मंत्रालय ने निर्णय लिया हैं कि वह 400 ऐसी मशीनें लगायेगा, जिनमें प्लास्टिक बोतलें क्रश या रिसाइकल के लिए डालने वाले काे कैशबैक दिया जायेगा या मोबाइल उनका रिचार्ज किया जायेगा. इस फैसले की जितनी तारीफ की जाए, कम हैं.

प्लास्टिक प्रतिबंध, सराहनीय कदम

केंद्र सरकार ने घोषणा की है कि वह दो अक्तूबर से सिंगल यूज प्लास्टिक को बैन करने जा रही है. सरकार का संकल्प है, 2022 तक भारत को प्लास्टिक मुक्त बनाना. सिंगल-यूज प्लास्टिक एक ऐसा प्लास्टिक है, जिसका उपयोग हम केवल एक बार करते हैं आैर उसकी रीसाइक्लिंग मात्र 7.5 प्रतिशत ही हो पाती है, बाकी प्लास्टिक मिट्टी में नहीं घुलता है. यह पानी की सहायता से समुद्र में पहुंच जाता है और वहां के जीवों को काफी नुकसान पहुंचाता है. प्रत्येक साल कई लाख टन प्लास्टिक उत्पादन हो रहा है.

नये वाहन कानून का खौफ

नये वाहन कानून के लागू होते ही इसके उल्लंघन पर जुर्माने की राशि कई गुना बढ़ गयी है. इस बढ़ी हुई राशि से जहां आम वाहन चालकों में खौफ की स्थिति बनी हुई है, वहीं कानून का पालन करवाने वाले तथा इसके अनेक रक्षक सड़कों पर इसको धता बता रहे हैं तथा इसके नियमों को न मान कर, न केवल इस अधिनियम का अपितु आम वाहन चालकों का भी उपहास उड़ाते दिखाई दे रहे हैं.

बोया पेड़ बबूल का तो....

एक कहावत है ''बोया पेड़ बबूल का तो आम कहां से होए''. यह मुहावरा आज अमेरिका जैसे देश पर बिल्कुल सटीक बैठता है. आज से ठीक 40 वर्ष पूर्व 24 दिसंबर 1979 को जब तत्कालीन सोवियत संघ ने अफगानिस्तान में साम्यवादी शासन पर मुजाहिद्दीन आतंकियों की बर्बर कार्रवाई को रोकने हेतु आक्रमण किया था, उस समय अमेरिका ने पाकिस्तान के कुछ भटके और दिशाहीन युवकों को भड़काकर ''तालिबान'' रूपी आतंकवादी जिन्न को आर्थिक और सैन्य मदद देते हुए सोवियत सेना के सामने खड़ा किया था.

पाकिस्तान में हिंदुओं की दशा

पृथ्वी पर नारकीय जीवन जीने का अनुभव पाकिस्तान में रहने वाले हिंदुओं को है. दिनदहाड़े घर से बेटियों का अपहरण हो जाता है, अगले दिन कोई मौलवी उन्हें किसी लड़के के साथ निकाह के बाद बनाये गये वीडियो बताकर कहता है कि तुम्हारी बेटी ने इस्लाम कबूल कर लिया है. क्या गुजरती होगी उस परिवार पर, हम सब सोच भी नहीं सकते?

स्कूलों में छात्र व शिक्षक का अनुपात ठीक नहीं

मानव संसाधन विकास मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया है कि बिहार में छात्र और शिक्षक अनुपात बेहद खराब है. उच्च प्राथमिक विद्यालयों में बिहार में छात्र शिक्षक अनुपात 39 है, जो सबसे खराब है. वहीं, सिक्किम में यह अनुपात सबसे बेहतर है. यहां चार छात्रों पर एक शिक्षक है. झारखंड में भी शिक्षा की स्थिति बहुत बेहतरीन नहीं है, जहां 50 फीसदी से अधिक प्राथमिक स्कूल एवं 64 प्रतिशत से अधिक उच्च प्राथमिक स्कूल है.

मधुर होना चाहिए पुलिस व जनता के बीच का संवाद

सड़क हादसे में कई लोगों की अकाल मौत हो जाती है. सरकार ने मोटर वाहन संशोधन अधिनियम-2019 के तहत इस समस्या को रोकने के लिए कुछ कठोर फैसले लिये हैं, जिससे आम लोगों को थोड़ी परेशानी हो रही है़ लेकिन, इसका लाभ भी अपने को ही होना है़

वैवाहिक जीवन में रिश्तों की अहमियत को समझें

वैवाहिक जीवन लंबी यात्रा की तरह है़ इस के दौरान खुशियां और कठिनाइयां आती हैं. हालांकि, यदि कोई आपको यात्रा करते समय मार्गदर्शन कर रहा है, तो आप आसानी से गंतव्य तक पहुंच सकते हैं. साथ ही वैवाहिक जीवन की यात्रा में मार्गदर्शन की आवश्यकता है.

चालकों पर सख्ती के साथ सड़कें भी दुरुस्त हों

इसमें संदेह नहीं कि सड़क हादसों का एक बड़ा कारण वाहनचालकों की लापरवाही होती है. लेकिन, सड़कों की डिजाइन में खामी, गड्ढे, अतिक्रमण, आवारा पशु, रोशनी की कमी के कारण भी हादसे होते हैं.

राज्य में मॉब लिंचिंग पर अंकुश को कड़ा कानून बने

भारत जैसे लोकतांत्रिक देश में बच्चाचोर के अफवाह में मॉब लिंचिंग की घटना शर्मसार करने वाली है. अब तक इस अफवाह के कई लोग शिकार हो चुके हैं.

वाणिज्य अभ्यर्थियों को भी एसटीइटी में मिले मौका

बिहार में होने जा रहे एसटीइटी में वाणिज्य छात्रों को शामिल नहीं किया जाना उनके भविष्य के साथ खिलवाड़ है. स्नातक, स्नातकोत्तर, बीएड व एमएड की डिग्री रहने के बावजूद भी वाणिज्य के अभ्यर्थियों को एसटीइटी देने से वंचित कर दिया गया है. इससे शिक्षक बनने का सपना देख रहे राज्य के हजारों वाणिज्य अभ्यर्थियों का भविष्य खतरे में पड़ गया है.