हरिवंश की कलम से

जीवन दर्शन और अध्यात्म से ही होता है चरित्र का निर्माण

हरिवंश

आज पांच नवंबर को कृष्णबिहारी मिश्र अपने जीवन के 85वें साल में प्रवेश कर रहे हैं. गुरु आचार्य हजारी प्रसाद के शिष्य कृष्णबिहारीजी ने हिंदी जगत को अपनी रचनाधर्मिता से ऐसी चीजें दी हैं, जो अद्वितीय हैं. निजी लोकप्रियता के लिए बने-बनाये या समय के साथ बनते-विकसित होते पॉपुलर फ्रेम को छोड़, उन्होंने उन विषयों को अपनी रचना का विषय बनाया, जिनमें चुनौतियां ज्यादा थीं, कहीं कोई पगडंडी जैसी भी न थी कि उस पर चल सकें. वे ख्यातिप्राप्त ललित निबंधकार तो हैं ही, साथ ही आध्यात्मिक चिंतक भी हैं. हिंदी पत्रकारिता पर आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी के मार्गदर्शन में उन्होंने जो शोध किया, वह अद्वितीय है.

Columns

5जी से रखें चीनी कंपनी को बाहर

अश्विनी महाजन

डिजिटल सेलुलर नेटवर्क के लिए 5वीं पीढ़ी की वायरलेस तकनीक है 5जी. जिस मोबाइल फोन का हम उपयोग करते ...

Columns

राजनीतिक विमर्श की भाषा सुधरे

अपर्णा

पिछले एक-डेढ़ दशक से राजनीतिक विमर्श की भाषा में जो बदलाव आया है, वह एक चिंतनीय प्रश्न है. चाहे वह ...

Columns

असली चुनौती तेज क्रियान्वयन की

अजीत रानाडे

पिछले साल के स्वतंत्रता दिवस भाषण में प्रधानमंत्री नरेंद्र नोदी ने अगले पांच वर्षों के दौरान ...

Columns

नयी रणनीति तलाशे भारत

पुष्पेश पंत

ईरान के लोकप्रिय और रणकुशल सेनानायक कासिम सुलेमानी की अमेरिकी राष्ट्रपति के आदेशानुसार हत्या ने ...

Columnists