हरिवंश की कलम से

जीवन दर्शन और अध्यात्म से ही होता है चरित्र का निर्माण

हरिवंश

आज पांच नवंबर को कृष्णबिहारी मिश्र अपने जीवन के 85वें साल में प्रवेश कर रहे हैं. गुरु आचार्य हजारी प्रसाद के शिष्य कृष्णबिहारीजी ने हिंदी जगत को अपनी रचनाधर्मिता से ऐसी चीजें दी हैं, जो अद्वितीय हैं. निजी लोकप्रियता के लिए बने-बनाये या समय के साथ बनते-विकसित होते पॉपुलर फ्रेम को छोड़, उन्होंने उन विषयों को अपनी रचना का विषय बनाया, जिनमें चुनौतियां ज्यादा थीं, कहीं कोई पगडंडी जैसी भी न थी कि उस पर चल सकें. वे ख्यातिप्राप्त ललित निबंधकार तो हैं ही, साथ ही आध्यात्मिक चिंतक भी हैं. हिंदी पत्रकारिता पर आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी के मार्गदर्शन में उन्होंने जो शोध किया, वह अद्वितीय है.

Columns

आइये, अपना आरक्षण ले जाइये

कुमार प्रशांत

राजस्थान में गुर्जरों ने अारक्षण की मांग का अपना पांचवां अांदोलन इस भाव के साथ वापस ले लिया है कि ...

Columns

आतंकी हमले से उद्वेलित देश

आशुतोष चतुर्वेदी

जम्मू कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हमले में 40 जवानों की शहादत के बाद पूरे देश में ...

Columns

भारत की मुख्य सुरक्षा चुनौती चीन

प्रो सतीश कुमार

पुलवामा में आतंकी हमले के बाद से देश के भीतर रोष है. अवाम अब बदला मांग रही है. भारत ने 1996 में ...

Columns

सोलहवीं लोकसभा का कामकाज

अंकिता नंदा

साल 2019 के बजट सत्र के समापन के साथ 16वीं लोकसभा का अवसान हो गया. पिछले पांच वर्षों के दौरान 133 ...

Columnists