प्रभात खबर ओपिनियन पेज

इस जीत का संदेश

अनुज कुमार सिन्‍हा

अनुज कुमार सिन्हा : भारतीय जनता पार्टी ने प्रचंड बहुमत से सत्ता में वापसी की है. माेदी लहर या माेदी की सुनामी से भी आगे बढ़ कर. तीन साै पार का लक्ष्य लिया ताे उसे पूरा भी किया. जिस रणनीति से माेदी आैर शाह मैदान में उतरे, यह उसी का नतीजा है कि कई राज्याें में कांग्रेस खाता भी नहीं खाेल सकी.

Columns

यह जीत है विपक्ष के लिए सबक

प्रो योगेंद्र यादव

ए क असाधारण चुनाव का असाधारण नतीजा हमारे सामने है. यह परिणाम असाधारण सिर्फ इसलिए नहीं है कि बीजेपी ...

Columns

परिवारवाद की राजनीति को जनता ने नकारा

मोहन गुरुस्वामी

न रेंद्र मोदी और शाह की यह निश्चित ही बहुत बड़ी रणनीतिक जीत हुई है. पिछली लोकसभा के लिए जब नरेंद्र ...

Columns

मोदी के विकास को जनादेश

रामबहादुर राय

भारतीय जनता पार्टी भारी बहुमत से सरकार बनाने जा रही है. कांग्रेस ने दो साल पहले कैंब्रिज एनालिटिका ...

Columns

बिहार की राजनीति का अगला पड़ाव

मणींद्र नाथ ठाकुर

लोकसभा का चुनाव परिणाम एक बार फिर से एनडीए के पक्ष में गया है. कांग्रेस फिर कोई कमाल नहीं दिखा पायी ...

Columnists

ट्रेड वार और दुनिया

अमेरिका-चीन व्यापार युद्ध के थमने के आसार नहीं है और यह स्थिति शीत युद्ध में बदलती जा रही है. कुछ महीने पहले तक आपसी सुलह की उम्मीद बन रही थी. साल 2018 में अमेरिका भेजे गये चीनी सामान का मूल्य 539 अरब डॉलर था. इसमें से करीब आधे पर ट्रंप प्रशासन ने शुल्क लगाया है. उसने संकेत दिया है कि बाकी बची चीजों के साथ भी ऐसा किया जा सकता है.

जरूरी है पर्यावरणीय संतुलन

हम इंसानों ने अपने सुख-सुविधाओं के लिए जिस तरह दूसरे जीव-जंतुओं और वनस्पतियों का दोहन कर रहे हैं, वह हमारी जैव विविधता को भारी नुकसान पहुंचा रहा है. उदाहरण के लिए गिद्ध को ही लें. कुछ साल पहले ज्यादा दूध निकालने के लिए गायों और भैंसों को एस्प्रिन डाइक्लोफेनेक का इंजेक्शन लगाया जाने लगा, ताकि उनकी मांसपेशियां ढीली हो जायें और वे दूध छोड़ दें.

इवीएम पर सवाल

लोकसभा चुनाव समाप्त होते ही एक बार फिर से इवीएम को लेकर विपक्षी दलों ने हंगामा करना शुरू कर दिया है. यह कोई पहली बार नहीं हो रहा है. इसके पहले भी इवीएम को सवालों के घेरे में रखा गया है.

पानी का गहराता संकट

गोड्डा जिले के ललमटिया थाना के अंतर्गत आने वाले लगभग 25 गांवों में पानी का संकट दिनोंदिन गहराता जा रहा है. रोलडीह, बलिया, बभनिया, लोचिन्ता, बेल्डीहा, जैसे गांवों में पानी का भयावह संकट छाया हुआ है.

आयोग की आलोचना

पूर्व राष्ट्रपति भारतरत्न प्रणब मुखर्जी ने हाल में ही एक पुस्तक के विमोचन के अवसर में चुनाव आयोग की तारीफ की. उन्होंने 2019 का चुनाव संपन्न कराने के लिए आयोग की सराहना भी की. यह भी कहा कि प्रथम आयुक्त सुकुमार सेन से लेकर मौजूदा आयुक्त सुनील अरोड़ा तक ने अच्छे काम किये.

बढ़ती नारी भागीदारी

चुनाव जैसी महत्वपूर्ण लोकतांत्रिक प्रक्रिया के आकलन में हार-जीत और समीकरणों के अलावा कई अन्य आयाम होते हैं, जिनके आधार पर भारत की बदलती तस्वीर को देखा जा सकता है. ऐसा ही एक आयाम हैं महिला मतदाताओं की बढ़ती भागीदारी. मौजूदा आम चुनाव में 13 राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों में पुरुषों से अधिक संख्या में महिलाओं ने मतदान किया है.

पेड़ पर चढ़ने की कला

बेलपत्र के पेड़ों पर ढेरों बेल लगे हैं. जामुन के मौसम में आसपास लगे जामुन के पेड़ जामुनों से भर जाते हैं. आम के पेड़ भी असंख्य आमों से भरे झूमने लगते हैं. हालांकि, इस बार आम कम दिखायी दे रहे हैं. अभी ज्यादा वक्त नहीं हुआ, जब बच्चों की टोली फलदार पेड़ों पर नजर रखती थी. जिनके घर में या घर के बाहर या बगीचे में फलदार पेड़ होते थे, वे भी इन बच्चों रूपी बंदरों पर नजर रखते थे. हमेशा आंख-मिचौली चलती रहती थी. सबसे अच्छा मौका बच्चों को दोपहर में मिलता था, जब गर्मी के दिनों में लोग झपकी लेते थे, आंख लग जाती थी.

गोड्डा में बिजली को लेकर हाहाकार

गोड्डा में विद्युत संचरण व्यवस्था विगत कई वर्षों से चौपट है. एक तरफ जहां विद्यार्थियों की पढ़ाई पूरी तरह बाधित हो रही है, वहीं इस भीषण गर्मी में अस्वस्थ नवजातों का क्रंदन कलेजा चीर देता है. प्रत्येक अस्पताल व शिशु रोग विशेषज्ञ के क्लिनिक के बाहर रोते-बिलखते बच्चों को गोद में लिये माता-पिताओं की भीड़ स्थिति की विकरालता को उजागर करती है.

प बंगाल में चुनावी हिंसा

पूरी दुनिया में निष्पक्ष व स्वतंत्र चुनाव कराना हमारी पहचान रही है, लेकिन इस बार चुनाव के दौरान पश्चिम बंगाल में लोगों को मतदान करने से रोकने की कोशिश की गयी तथा डराया-धमकाया गया.

राष्ट्रवाद का मुद्दा जरूरी

लोकसभा चुनाव का सातवां और आखिरी चरण संपन्न हो गया. अब सभी को 23 मई को परिणाम का इंतजार है कि सरकार एनडीए की बनती है या यूपीए की? वैसे तो अधिकांश न्यूज एजेंसियां अपने एग्जिट पोल से एनडीए की सरकार बनने का दावा कर रही हैं. एक ओर जहां सत्ता पक्ष एग्जिट पोल के परिणाम से खुशियां मना रहा है, वहीं दूसरी ओर विपक्ष एग्जिट पोल पर भरोसा न करने की नसीहत दे रहा है.

एआइ पर जोर

कंप्यूटर और डिजिटल तकनीक का नया आयाम है- आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआइ). मनुष्य और मशीन की बढ़ती साझेदारी के साथ इस अत्याधुनिक तकनीक को प्रयोगशालाओं से निकालकर रोजमर्रा के कामों में इस्तेमाल करने की संभावनाएं भी बढ़ रही हैं.

जहां विस्मय तरबूज की तरह

जेठ की तपती दोपहर में जब हम लू की लहर से बचने के लिए तरबूज की ओर शीतलता की उम्मीद से देखते हैं, तब इसी धूप में नदी की रेत के खेत में तपते तरबूज किसानों का जलता हुआ खून-पसीना हमसे नजरअंदाज हो जाता है. जिस तरबूज को खरीदने में हमारी आंख निकलती है, उसके लिए किसानों को पैकारों से बहुत ही न्यूनतम मूल्य मिलता है.