• देवघर : बाबाधाम में दो लाख कांवरियों ने किया जलाभिषेक, कृष्णा बम ने कहा, अगली सोमवारी से आना संभव नहीं

    देवघर : श्रावणी मेले की पहली सोमवारी को देवघर में आस्था का जनसैलाब उमड़ पड़ा. पट बंद होने तक दो लाख से अधिक श्रद्धालुओं ने बाबा बैद्यनाथ पर जलाभिषेक किया. इसमें बाह्य अरघा से 60 हजार ने जलार्पण किया़ सोमवार की अहले सुबह बाबा मंदिर का पट खुलने के साथ ही कांचा जल पूजा के बाद सरदार पंडा गुलाब नंद ओझा ने सरदारी पूजा की.

  • मुजफ्फरपुर के बाबा गरीबनाथ मंदिर में 50 हजार भक्तों ने की पूजा-अर्चना

    मुजफ्फरपुर : सावन की पहली सोमवारी पर बाबा गरीबनाथ मंदिर में करीब 50 हजार शिवभक्तों ने जलाभिषेक किया. मंदिर में रविवार की शाम से ही जलाभिषेक शुरू हो गया था. हालांकि, पहली सोमवारी होने के कारण कांवरियों की संख्या कम रही. सुबह चार बजे से यहां स्थानीय भक्तों का तांता लगा रहा. यह सिलसिला दोपहर दो बजे तक चला. यहां आने वाले भक्तों ने भी अरघा से बाबा को जल चढ़ाया़

  • पहली सोमवारी. तेज धूप में कांवरियों को खूब बहाने पड़े पसीने

    श्रावणी मेला की पहली सोमवारी को ही देवघर व बासुकिनाथ में आस्था का जनसैलाब उमड़ पड़ा. बाबानगरी केसरियामय हो गयी. पट बंद होने तक दो लाख 14 हजार से अधिक श्रद्धालुओं ने बाबा बैद्यनाथ पर जलाभिषेक किया. इसमें बाह्य अरघा से 84 हजार जलार्पण शामिल है. वहीं बासुकिनाथ में भी एक लाख से अधिक श्रद्धालु बाबा दरबार पहुंचे. देवघर में अहले सुबह बाबा मंदिर का पट खुलने के साथ ही कांचा जल पूजा के बाद सरदार पंडा गुलाब नंद ओझा ने सरदारी पूजा की.

  • कृष्णा बम को नहीं मिली सुविधा, निकास द्वार पर डाला जल

    सावन की पहली सोमवारी को कृष्णा बम भी डाक कांवरिया के रूप में दिन के तकरीबन 11.30 बजे बाबा मंदिर पहुंची. बाबा मंदिर पहुंच कर कृष्णा बम ने निकास द्वार से अंदर जाने की कोशिश की. उन्हें जाता देख मौजूद दूसरे कई कांवरिये भी प्रवेश कर गये. समस्या होते देख निकास द्वार पर तैनात रैफ व जैप के जवानों ने कांवरियों

  • 42 वर्षों से डाक बम के रूप में हर सोमवारी बाबानगरी पहुंचते हैं दरभंगा के गिरीशचंद्र

    श्रावणी मेला में दरभंगा के 65 वर्षीय गिरीशचंद्र मंडल पिछले 42 वर्षों से कांवर लेकर डाक बम के रूप में सुल्तानगंज से बाबाधाम तक यात्रा करते आ रहे हैं. गिरीशचंद्र सावन के प्रत्येक सोमवारी को पैदल यात्रा कर बाबा बैद्यनाथ पर जलार्पण करते हैं. गिरीशचंद्र ने रविवार शाम पांच बजे सुल्तानगंज से कांवर में जल लेकर चले तथा 17 घंटे में दुम्मा पहुंच गये.

  • हरेक मिनट 150 कांवरिये दुम्मा में कर रहे थे प्रवेश

    पहली सोमवारी को जलाभिषेक करने के लिए कांवरिया पथ में रविवार रात 12 बजे के बाद से सोमवार सुबह 10 बजे तक कांवरियों के रैला का एक जैसा नजारा रहा. झारखंड प्रवेश द्वारा दुम्मा से प्रति मिनट 150 कांवरिये प्रवेश कर रहे थे. रात्रि 12 से बजे से सुबह छह बजे तक कुल 40 हजार कांवरियों काे दुम्मा टोल गेट में प्रवेश कार्ड दिया जा चुका था.

  • पहली सोमवारी को ट्रेनों में रही भारी भीड़

    श्रावणी मेला की पहले सोमवारी को जलार्पण कर लौटने वाले कांवरियों की भीड़ से पूरा जसीडीह स्टेशन पटा रहा. हर आने जाने वाली ट्रेन में कांवरियों की ठंसाठस भीड़ देखने को मिली. नियमित व स्पेशल ट्रेनों की लगभग सभी बोगी में कांवरिये अंदर तक भरे पड़े थे. बोगी में लोगों के पैर रखने की भी जगह नहीं थी.

  • अबतक 20,000 कांवरियों का शििवर में हुआ इलाज

    श्रावणी मेला के दौरान स्वास्थ्य विभाग की ओर से कांवरियों की सेवा के लिए सदर अस्पताल समेत 29 स्वास्थ्य उप केंद्र बनाये गये हैं. श्रावणी मेला को लेकर स्वास्थ्य विभाग की ओर से पांच दिनों में बाहर से आने वाले कांवरियों व श्रद्धालुओं की सुविधा में स्वास्थ्य कर्मी लगे रहे. मेला के 29 स्वास्थ्य केंद्रों पर दवा, सुई, स्लाइन, बेड, एंबुलेंस समेत अन्य की व्यवस्था की गयी है.

  • पहली सोमवारी को शिवालय में उमड़े भक्त

    अनुमंडल क्षेत्र के शिवालयों में सावन की पहली सोमवारी को भक्तों की भीड़ बाबा भोलेनाथ की पूजा अर्चना व जलाभिषेक के लिए उमड़ पड़े. शहर के पंचमंदिर, राम मंदिर, खलासी मोहल्ला, आदर्श कॉलोनी, शेखपुरा, कालीपुरटाउन, डंगालपाड़ा, वाहे गुरु शिव मंदिर, पिपरासोल स्थित दुबे मंदिर में महिला श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ पड़ी.

  • 100 साल से भी पुराना गुमला का बुढ़वा महादेव मंदिर, पीपल पेड़ की खोह में है शिवलिंग

    गुमला : झारखंड राज्य के गुमला शहर के करमटोली मुहल्ला में 100 साल से ज्यादा पुराना बुढ़वा महादेव मंदिर है. यह मंदिर जितना पुराना है, इसका इतिहास भी उतना ही अनोखा है. पीपल के पेड़ की खोह में एक शिवलिंग निकला था. यह शिवलिंग अब बड़ा हो गया है. जब पेड़ की खोह में शिवलिंग प्रकट हुआ, तो श्रद्धालुओं से श्रमदान कर खपड़ा का छोटा-सा मंदिर बना दिया.

  • हर-हर महादेव से गूंजा कांवरिया पथ, सात हजार से अधिक कांवरियों ने उठाया जल

    भागलपुर : सावन की पहली सोमवारी के लिए रविवार को शहर के विभिन्न घाटों हनुमान घाट, एसएम कॉलेज सीढ़ी घाट, बरारी सीढ़ी घाट, बरारी पुल घाट पर प्रात: से ही डाक बम व बोल बम आने लगे थे. दिनभर डाकबम के लिए जल भरने वालों का सिलसिला जारी रहा. पहली सोमवारी के लिए डाकबमों का कम रुझान रहा. फिर भी सात हजार से अधिक कांवरियों ने जल भरा और डाक बम व बोल बम के लिए निकले.

  • लेट चल रहीं स्पेशल ट्रेन, कांवरियों की टाइमिंग फेल

    भागलपुर : विश्व प्रसिद्ध श्रावणी मेला में कांवरियों की सुविधा के लिए रेलवे ने स्पेशल ट्रेन जैसा विकल्प दिया तो है, लेकिन सभी ट्रेनें तय समय से घंटों विलंब से चल रही हैं. गोरखपुर हो या मुजफ्फरपुर या फिर सहरसा और रांची से आने वाली सभी स्पेशल ट्रेनें तय समय पर नहीं पहुंच पा रही हैं. इतना ही नहीं, समर स्पेशल के नाम से चलायी जा रही गांधीधाम-भागलपुर एक्सप्रेस भी समय से घंटों विलंब से पहुंच रही है.

  • श्रावणी मेला : केसरियामय हुई बाबा अजगैवी की नगरी, रविवार को एक लाख से अधिक भक्तों ने किया जलार्पण

    देवघर : रविवार को कांवरियों के उमड़े जनसैलाब ने जिला प्रशासन को पहली सोमवारी को होने वाली भीड़ का एहसास करा दिया है. रविवार को मंदिर का पट खुलने के पहले ही कांवरियों की कतार बीएड कॉलेज के पार तक पहुंच गयी. बाह्य अरघा की कतार भी सनबेल बाजार तक पहुंच गयी. रविवार को अहले सुबह पट खुलने के साथ ही बाबा भोलेनाथ को सबसे पहले सरदार पंडा गुलाब नंद ओझा ने कांचा जल अर्पित किया.

  • देवघर : सावन की पहली सोमवारी , कांवरिया पथ पर उमड़ा कांवरियों का सैलाब

    देवघर : सावन की पहली सोमवारी को उमड़ने वाली भीड़ की झलक रविवार को ही कांवरिया पथ पर देखने लगी थी.

  • पहली सोमवारी आज : कड़ी धूप में भी डिग नहीं रही भक्तों की आस्था, बाबाधाम में 15 KM लंबी कतार

    देवघर : रविवार को कांवरियों के उमड़े जनसैलाब ने जिला प्रशासन को पहली सोमवारी को होने वाली भीड़ का अहसास करा दिया है. रात दो बजे तक कांवरियों की कतार कुमैठा तक पहुंच गयी थी. इसके बाद डीआइजी, डीसी-एसपी समेत कई वरीय पदाधिकारी रूट लाइन में तैनात हो गये.

  • श्रेष्ठ है सोमवारी पर शिवलिंग-पूजन, जानें पूजा की विधि

    आज श्रावण मास की प्रथम सोमवारी है. सावन के प्रत्येक सोमवार को भगवान शिव की पूजा और शिवलिंग पर जलार्पण का विशेष महत्व है. समुद्र मंथन से प्राप्त विष को जगत के कल्याण के लिए पी लेने वाले शिव जी के कंठ को शीतलता प्रदान करने के लिए इस दिन जल का विशेष अर्पण किया जाता है. सोमवार चंद्रमा का दिन है.

  • देवघर : श्रावणी मेले का अर्थशास्त्र : "275 करोड़ के कारोबार का हैं अनुमान

    देवघर : बाबा नगरी की अर्थव्यवस्था को विश्व प्रसिद्ध श्रावणी मेले से गति मिलती है. पिछले कुछ वर्षों के आंकड़ों को देखें, तो श्रावणी मेले के दौरान 45 से 50 लाख श्रद्धालु बैद्यनाथ धाम आते हैं. हजारों लोगों को रोजगार देनेवाले इस एक माह के मेले में इस बार करीब 275 करोड़ रुपये के कारोबार का अनुमान है. पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष कई सामग्रियों की दरों में बढ़ोतरी होने से 10 फीसदी अधिक कारोबार होने की उम्मीद जतायी जा रही है.

  • शिव के अर्द्धनारीश्वर रूप और भृंगी का रहस्य

    बाबा भोले नाथ की इस आरती से हम सभी परिचित हैं. आरती में प्रयुक्त ‘नंदी’ को तो हम सभी जानते हैं. यह बाबा के वाहन ‘बसहा’ का नाम है, पर ‘भृंगी’ कौन है?

  • प्रशासन का दावा : शनिवार को 1.28 लाख जलार्पण

    मनोकामना लिंग बाबा बैद्यनाथ के दरबार में हर दिन कांवरियों का रेला पहुंच रहा है. इससे बाबा नगरी केसरियामय हो गयी है. हर तरफ शिव भक्त दिख रहे हैं. बाबा मंदिर में लगातार भीड़ में बढ़ाेतरी हो रही है. बाबा का दर्शन कर भक्त गदगद होकर बाहर निकल रहे हैं. श्रावणी मेले के चौथे दिन शनिवार को मंदिर का कपाट खुलने से पहले कांवरियों की कतार बीएड कॉलेज के पार पहुंच गयी थी. शिवगंगा में संकल्प कराने के पश्चात कांवरियों को मानसरोवर होते हुए बसंती मंडप के पीछे के रास्ते से कतार में भेजने की व्यवस्था सुबह से ही जारी रही.

  • छत्तीसगढ़ के पूर्व स्पीकर 19 वर्षों से पैदल कर रहे कांवर यात्रा

    छत्तीसगढ़ में भाजपा की सरकार में मंत्री व स्पीकर रह चुके प्रेमप्रकाश पांडेय का बाबा बैद्यनाथ पर अटूट आस्था है. छत्तीसगढ़ राज्य गठन के बाद 19वां वर्ष प्रेम प्रकाश पांडेय अपने 90 साथियों के साथ पैदल कांवर लेकर बाबाधाम पहुंचे हैं. श्री पांडेय कहते हैं कि बाबा बैद्यनाथ के प्रति जो आस्था है वह शब्दों में बयां नहीं करका है, इस यात्रा में एक श्रद्धा, भाव व सुखद आनंद की जो अनुभूति होती है. वह संसार के हर कार्य से कई गुणा अधिक है.

  • पाकिस्तान में भी डाउनलोड किये जा रहे बाबा बैद्यनाथधाम एप

    श्रावणी मेला में श्रद्धालुओं व कांवरियों के लिए लांच किये गये बाबा बैद्यनाथधाम एप की डिमांड न सिर्फ पूरे भारतवर्ष में है, बल्कि पाकिस्तान सहित नेपाल, यूएसए, थाईलैंड, मलेशिया, ओमान में भी इस एप को तेजी से डाउनलोड किया जा रहा है. कई देशों के नागरिक तो इससे जुड़ी सुविधाओं का लाभ भी उठा रहे हैं.

  • सेल्फी से बाबा मंदिर की यादें सहेज रहे हैं बैद्यनाथ के भक्त

    श्रावणी मेला के दौरान बाबा के भक्तों में सेल्फी खिंचवाने का भी क्रेज बढ़ा है. तकनीक के साथ बदलते संसार में आज हर हाथ में एंड्रॉयड फोन भी आ गये हैं. लोग घूमने जायें या फिर तीर्थ यात्रा में, अपने साथ कैमरे की जगह अब मोबाइल में ही तस्वीरें खींचकर अपने साथ यादों को समेटकर ले जाने लगे हैं.

  • कांवरियों की कतार ने पकड़ी रफ्तार

    शनिवार से कांवरियों की भीड़ से कांंवरिया पथ में रौनक आने लगी है. गेरुआ वस्त्र से कांवरिया पथ गेरुआमय हो गया है. श्रावणी मेला के पहले दिन 17 जुलाई कोे जो कांवरिये सुल्तानगंज से गंगा जल लेकर चले वे कांवरिये शनिवार शाम तक बाबा नगरी में प्रवेश कर रहे थे. झारखंड गेट दुम्मा प्रवेश करने के बाद धूप में भी कांवरिये पूरे उत्साह के साथ बाबा नगरी की ओर बढ़ रहे थे.

  • अजगैवीनाथ मंदिर में पानी की समस्या, सुरक्षा के लिए लगाये गये मेटल डिटेक्टर बनी शोभा की वस्तु

    सुलतानगंज : श्रावणी मेला में पीएचईडी विभाग भले ही पेयजल की सुविधा मुकम्मल होने का दावा कर रही है, लेकिन हकीकत यह है कि लाखों श्रद्धालुओं को नयी सीढ़ी घाट पर पेयजल की समस्या झेलनी पड़ रही है. शनिवार को अजगैवीनाथ मंदिर में भी पेयजल का संकट उत्पन्न हो गया. मंदिर में ठहरने वाले श्रद्धालु व मेला ड्यूटी में तैनात पुलिस कर्मी को भी पानी का संकट से रू-ब-रू होना पड़ रहा है. मंदिर के स्थानापति महंत प्रेमानंद गिरि ने मंदिर में पानी की मुकम्मल व्यवस्था करने को लेकर पीएचईडी विभाग को जानकारी दिया.

  • श्रावणी मेला 2019 : पहाड़िया बटालियन दुमका में कार्यरत एसआइ की देवघर में मौत

    देवघर : श्रावणी मेला में ड्यूटी पर दुमका से देवघर आये पहाड़िया बटालियन (आइआरबी) के एसआइ रुदल सिंह की शनिवार सुबह अचानक मृत्यु हो गयी. रुदल सिंह 10 जुलाई को महिला बटालियन लेकर श्रावणी मेला में ड्यूटी करने देवघर आये थे. अचानक सुबह में उनकी तबीयत बिगड़ी और आवासन स्थल डढ़वा नदी के समीप बेलाबगान में गिरकर बेहोश हो गये.

  • श्रावणी मेला : सवा लाख कांवरिया गये बाबाधाम, गंगा घाट से कांवरिया पथ तक गूंज रहा बोलबम

    सुलतानगंज : श्रावणी मेले के दूसरे दिन गुरुवार को गंगा से जल भर कर सवा लाख कांवरिये बाबाधाम रवाना हुए. सुबह से गंगा घाट से कांवरिया पथ पर बोलबम के नारों के गूंज से पूरा माहौल शिवमय हो गया. 11 बजे के बाद कड़ी धूप में कांवरियों को काफी परेशानी हुई.

  • मेला में अब गिधनी मोड़ तक चलेंगे ऑटो

    देवघर स्टेशन ओवरब्रिज के समीप गुरुवार को ऑटो चालकों व मालिकों ने सुबह सड़क जाम कर दिया. उनकी मांग थी कि ऑटो को कोठिया स्टैंड तक चलने दिया जाये. सुबह करीब आठ बजे से ही उक्त मार्ग पर ऑटो मालिकों व चालकों ने मिलकर करीब दो घंटे तक आवागमन बाधित कर दिया. इस रास्ते होकर आने-जाने वाली गाड़ियों को रोककर चालक व मालिक सहयोग का आग्रह कर रहे थे. काफी देर तक बातचीत के बाद भी जाम नहीं हटा, तो सीसीआर डीएसपी ने एसपी से बातचीत की.

  • कांवरियों की बढ़ रही कतार, 82 हजार जलार्पण

    सावन के दूसरे दिन भी कांवरियों की संख्या में पहले की अपेक्षा अधिक तादाद देखी गयी. गुरुवार को पट बंद होने तक 82,425 कांवरियों ने जलार्पण किया. 1425 कांवरियों ने शीघ्रदर्शनम कूपन के माध्यम से जल चढ़ाया. बाबा मंदिर का पट निर्धारित समय पर खुलने के बाद पुरोहित समाज की ओर से कांचा जल पूजा की गयी.

  • डम-डम डमरू बजावेला, हमार जोगिया... पर झूमे कांवरिया

    जिला प्रशासन की ओर से श्रावणी मेला में कांवरियों के मनोरंजन के लिए जगह-जगह भक्ति संगीत का आयोजन किया जाता है. गुरुवार की शाम मदरसा मैदान स्थित शिवलोक परिसर में रिदम ग्रुप की ओर से भक्ति गीतों की प्रस्तुति की गयी. ग्रुप के निदेशक अमरेश राज की अगुवाई में गायिका ज्योति, गायक धीरज पांडेय ने

  • बाबा मंदिर इलाके में दुकानों से जांच टीम ने लिया फूड सैंपल

    श्रावणी मेला के दौरान शिवभक्त कांवरियों व श्रद्धालुओं को शुद्ध व स्वच्छ भोजन मिले. इसके लिए राज्य सरकार के निर्देश पर चार सदस्यीय खाद्य सुरक्षा टीम गठित कर मेला क्षेत्र में पूरे माहभर खाद्य पदार्थों की जांच में जुट गयी है. इसी क्रम में टीम ने गुरुवार को बाबा मंदिर व आसपास के इलाके खासकर पूर्वी व पश्चिमी द्वार

  • कांवर यात्रा में आस्था के अलग-अलग रूप

    एक समय था जब शिव भक्त प्रसिद्ध कांवर गीत ''हाथी न घोड़ा न कउनो सवारी, पैदल ही अयबै तोहर दुआरी...'' को गुनगुनाते हुए सुल्तानगंज से जल उठा कर पैदल बाबाधाम पहुंचते थे. समय बदलने के साथ भक्तों की आस्था के अलग-अलग रूप भी श्रावणी मेले में दिख रहे हैं.

  • दो दिनों में 3,000 से अधिक बाइकर्स बम पहुंचे बाबाधाम

    श्रावणी मेला में बाबाधाम में भक्तों के आने का सिलसिला जारी है. बाबा दरबार में हाजिरी लगाने के लिए रेलगाड़ियों से प्रतिदिन हजारों की संख्या में कांवरिये भक्त देवघर पहुंचते हैं. यहां से सुल्तानगंज जाकर वहां से जलभर वापस आते हैं व जलार्पण के बाद खुद का धन्य महसूस करते हैं. श्रावणी मेला के दौरान कई बाइकर्स कांवरिये (दोपहिया वाहन वाले) बम आने लगे हैं.

  • भागलपुर : हर कदम बाबाधाम की ओर, सुलतानगंज से 1.50 लाख कांवरियों ने उठाया जल, 50,000 भक्तों ने किया जलार्पण

    सुलतानगंज (भागलपुर) : सावन के पहले दिन बुधवार को गंगा से जल उठाकर लगभग एक लाख 50 हजार कांवरिया बाबाधाम रवाना हुए. बिहार के अलावा असम, बंगाल, दिल्ली, उत्तराखंड, छत्तीसगढ़, पंजाब, महाराष्ट्र, हरियाणा, झारखंड से आये कांवरियों ने गंगाजल उठाया. कच्चे घाटों पर फिसलन और बांस बैरिकेडिंग अस्त-व्यस्त हो जाने कांवरियों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा था. प्रशासनिक स्तर पर व्यवस्था की जा रही है.

  • सावन के पहले दिन 60,000 शिव भक्तों ने किया जलार्पण

    सावन के पहले दिन चंद्रग्रहण की वजह से बाबा मंदिर का पट अपने निर्धारित समय से दो घंटे विलंब से खुला. मंदिर का पट सुबह पांच बजे खुलने के साथ ही चली आ रही परंपरा के अनुसार पुरोहित समाज की ओर से कांचा जल पूजा की गयी. उसके बाद अरघा लगाने के पश्चात बाबा मंदिर महंत सरदार पंडा गुलाब नंद ओझा ने सावन

  • कुंभ की तरह देवघर श्रावणी मेला को मिलेगी प्रसिद्धि, स्वच्छता व विनम्रता बने हमारी पहचान

    बोलबम की जयघोष तथा स्वच्छता व विनम्रता के मूलमंत्र के साथ श्रावणी मेला 2019 की शुरुआत हुई. झारखंड-बिहार का प्रवेश-द्वार दुम्मा में मुख्यमंत्री रघुवर दास ने वैदिक मंत्रोच्चार के बीच पूूजा-अर्चना, दीप प्रज्वलन तथा फीता काट कर उद्घाटन किया. इसके बाद प्रवेश-द्वार को कांवरियों के आवागमन के लिए खोल दिया.

  • श्रावण के पहले दिन लगी आकर्षक विल्वपत्र प्रदर्शनी

    बुधवार को सावन के पहले दिन संक्राति को लेकर बाबा मंदिर में विल्व पत्र प्रदर्शनी लगायी गयी. इसी के साथ अब श्रावण मास के सभी सोमवारी के अलावा अंतिम संक्रांति पर प्रदर्शनी लगाने के बाद संपन्न होगा.

  • श्रावणी मेले से श्रेष्ठ भारत की कल्पना होगी साकार

    बासुकीनाथ में श्रावणी मेला का उद्घाटन करने के बाद मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि श्रावणी मेला के जरिये श्रेष्ठ भारत की कल्पना साकार हो सकती है. राष्ट्र विरोधी शक्तियों से निबटना होगा. कृषि आशीर्वाद योजना को लेकर किसानों के बीच गलत प्रचार करनेवाले को जेल भेजना होगा.

  • चारों धाम और 12 ज्योतिर्लिंगों के दर्शन की अनुभूति करा रहा शिवलोक : सीएम

    दुम्मा में श्रावणी मेला का उद्घाटन करने के बाद मुख्यमंत्री रघुवर दास शिवलोक परिसर पहुंचे. यहां आदिवासी संस्कृति के साथ उनका स्वागत किया गया. मुख्यमंत्री ने शिवलोक का उद्घाटन किया. मुख्यमंत्री ने परिसर में बने विभिन्न स्टॉल व चार धाम व 12 ज्योतिर्लिंग की प्रतिकृति का अवलोकन किया.

  • सावन की पहली फुहार के बीच डेढ़ लाख कांवरिये गये बाबाधाम

    सुल्तानगंज (भागलपुर) : सावन के पहले दिन बुधवार को जमकर बारिश हुई, जिससे तल्ख मौसम में नरमी आयी. सावन की पहली फुहार के बीच पवित्र उत्तरवाहिनी गंगा से जल उठाकर लगभग एक लाख 50 हजार कांवरिया बाबाधाम रवाना हुए. बिहार के अलावा असम, बंगाल, दिल्ली, उत्तराखंड, छत्तीसगढ़, पंजाब, महाराष्ट्र, हरियाणा, झारखंड से आये कांवरियों ने पहले सावन को गंगाजल उठाया.

  • दुम्मा में मुख्यमंत्री ने किया कांवरियों का स्वागत, बोले : टूरिज्म के क्षेत्र में दुनिया में पहचान बनायेगा देवघर

    देवघर : मुख्यमंत्री रघुवर दास ने झारखंड-बिहार के प्रवेश द्वार दुम्मा में बुधवार को राजकीय श्रावणी मेला 2019 का उद्घाटन किया. वैदिक मंत्रोच्चार के बीच पूूजा-अर्चना की और फिर दीप प्रज्ज्वलित कर फीता काटा. इसके साथ ही प्रवेश द्वार को कांवरियों के आवागमन के लिए खोल दिया. उद्घाटन समारोह के दौरान ही मंच पर आग लग गयी. अतिथियों ने सूझ-बूझ का परिचय देते हुए आग को बुझा दिया, वरना कोई बड़ा हादसा हो सकता था.

  • IN PICS : श्रावण माह शुरू, शिव नगरी गुमला में आज से बम बम भोले

    गुमला : झारखंड राज्य के गुमला जिला में चारों ओर शिव मंदिर व शिवलिंग स्थापित हैं. इसलिए गुमला को शिव नगरी भी कहते हैं. यहां कई धरोहर हैं, जहां भगवान शिव का वास है. हर प्रखंड व पंचायत में शिवलिंग या शिव मंदिर तो है ही, कई प्राचीन मंदिर भी हैं. कहते हैं कि रामायण और महाभारत तक से इन मंदिरों का नाता है. जिला में सातवीं व आठवीं शताब्दी के भी मंदिर व शिवलिंग हैं.

  • #ShravaniMela2019 : रघुवर दास ने देवघर में मेला का किया उद्घाटन, सावन के पहले दिन बाबाधाम में उमड़ा भक्तों का सैलाब

    देवघर/दुम्मा : झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने बुधवार को दुम्मा में श्रावणी मेला का उद्घाटन किया. उन्होंने देश-दुनिया के शिवभक्तों से देवघर आने का आग्रह किया. कहा कि श्रद्धालुओं को यहां विश्वस्तरीय सुविधाएं मिलेंगी. मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वच्छता और विनम्रता मेला का मूल-मंत्र होगा. उन्होंने कहा कि सांस्कृतिक राजधानी की कल्पना महादेव के बिना निरर्थक है.

  • कांवरियाें का ठहराव शुरू, सुविधा नगण्य परेशानी बढ़ी

    चकाई : आषाढ़ माह के पूर्णिमा के दिन से ही कांवरिया यात्रियों का पड़ाव एवं ठहराव चकाई में प्रारंभ हो गया. मंगलवार को सैकड़ों की संख्या में कांवरिया यात्रियों ने देवघर में बाबा भोलेनाथ को जलाभिषेक कर चकाई में रात्रि विश्राम हेतु प्रखंड मुख्यालय में पड़ाव डाला, मगर यात्रियों के लिए सुविधा की कोई व्यवस्था नहीं थी.

  • श्रावणी मेला का हुआ उद‍्घाटन, बोलबम से गूंजा कांवरिया पथ

    असरगंज : सुल्तानगंज-देवघर कच्चे कावंरिया पथ के मुंगेर जिला सीमा कमरांय में मंगलवार को मुंगेर जिला प्रशासन द्वारा विधिवत श्रावणी मेला का उद‍्घाटन किया गया. जिलाधिकारी राजेश मीणा ने फीता काटकर जहां मेला का उद‍्घाटन किया. वहीं इस मौके पर राज्य के भूमि सुधार एवं राजस्व मंत्री राम नारायण मंडल मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद थे.

  • श्रावणी मेला : सज गया बाबा भोले का दरबार, स्पर्श पूजा बंद, पूरे सावन अरघा के माध्यम से होगा जलार्पण

    बाबाधाम में श्रावणी मेले की तैयारी पूरी कर ली गयी है. बुधवार से श्रावणी मेला शुरू हो जायेगा. इसके साथ ही बाबानगरी में हर तरफ बोल बम के गुंज सुनाई देंगे. सावन माह में भक्त बाबा बैद्यनाथ पर अरघा के माध्यम से जलार्पण करेंगे तथा एक माह तक बाबा मंदिर में आम भक्तों के लिए स्पर्श पूजा बंद रहेगी.

  • बाबा बैद्यनाथ से श्रावणी मेले के सफल आयोजन की कामना

    श्रावणी मेला के सफल आयोजन के लिए गुरु पूर्णिमा के अवसर पर डीसी राहुल कुमार सिन्हा व एसपी नरेंद्र कुमार सिंह की अगुवाई में बाबा मंदिर में विधिवत पूजा-अर्चना की गयी. पूजा में शामिल हुए सभी अधिकारियों को प्रशासनिक भवन में इस्टेट पुरोहित श्रीनाथ पंडित की अगुवाई में पांच वैदिक पंडितों ने विधिवत संकल्प कराया.

  • श्रावणी मेला : इंटीग्रेटेड कंट्रोल रूम से मिलेगी मेला क्षेत्र की पल-पल की जानकारी

    श्रावणी मेले में लाखों श्रद्धालुओं की सुविधा व सुरक्षा व्यवस्था की ओवरऑल मॉनिटरिंग इंट्रीग्रेटेड मेला कंट्रोल रूम (आइएमसीआर) से जिला प्रशासन करेगा. मानसरोवर तट पर इंट्रीग्रेटेड मेला कंट्रोल रूम श्रावणी मेला की मॉनिटरिंग के लिए पूरी तरह से तैयार हो चुका है.

  • श्रावणी मेला : आज से शिवलोक में लोग करेंगे देवघर दर्शन

    श्रावणी मेले में देवघर आने वाले कांवरिये बाबा मंदिर में जलाभिषेक के बाद देवघर दर्शन के माध्यम से देवघर की ऐतिहासिक व पौराणिक महत्ता से भी अवगत होंगे. शिवलोक परिसर में देवघर दर्शन प्रोजेक्ट को पूरा कर लिया गया है.

  • श्रावणी मेला : आज से सिर्फ बोलबम, जानें सीएम का मिनट-टू-मिनट कार्यक्रम

    सावन शुरू होते ही बाबानगरी में कांवरियों का जनसैलाब उमड़ पड़ा. मुख्यमंत्री रघुवर दास बुधवार को कांवरिया पथ स्थित दुम्मा में सुबह 10.10 बजे राजकीय श्रावणी मेला-2019 का उदघाटन करेंगे. कार्यक्रम स्थल पर वैदिक रीति से पूजा-पाठ की जायेगी. इसके बाद मुख्यमंत्री सड़क मार्ग से बासुकिनाथ के लिए रवाना होंगे.

  • राजकीय श्रावणी मेला 2019 का आगाज, मंत्री बोले- बिहार को विकसित राज्य बनाने के लिए बाबा से करें प्रार्थना

    भागलपुर : राजकीय श्रावणी मेले को सभी के सहयोग से बेहतर बनाना है. सरकार के भरोसे नहीं, जनभागीदारी जरूरी है. उक्त बातें सूबे के भूमि सुधार व राजस्व मंत्री रामनारायण मंडल ने कही. मंगलवार को सुलतानगंज के नयी सीढ़ी घाट पर राजकीय श्रावणी मेला उद‍्घाटन के मौके पर उन्होंने कहा कि समय रहते सारी कमियों को दूर कर दिया जायेगा. मेले में कांवरियों को बेहतर सुविधा देने के लिए तत्पर है. राशि का अभाव नहीं है. भादो माह में भी कांवरिया की संख्या अधिक होती है, इसके लिए भी सरकार के द्वारा राशि का अभाव नहीं होने दिया जायेगा. हर हाल में श्रद्धालुओं को सभी सुविधा मिलेगी.

  • कल से आरंभ होगा सावन का महीना, शिव की आराधना में लीन होंगे श्रद्धालु

    मुंगेर : भगवान भोलेनाथ शिव का महीना अर्थात श्रावण 17 जुलाई से आरंभ हो रहा है. इस बार इस माह में कई विशेष शुभ संयोग बनेंगे. जो हमारे जीवन में काफी महत्वपूर्ण साबित हो सकता है. इस बार चंद्र प्रधान नक्षत्र के कारण स्वतंत्रता दिवस और रक्षाबंधन का त्योहार एक ही दिन होने का संयोग बना है. वहीं इस बार 125 सालों बाद हरियाली अमावस्या पर पंच महायोग का संयोग है.

  • खुले 27 अस्थायी थाने, पुलिस अभिरक्षा में गंगटा जंगल से पार होंगे कांवरिया वाहन

    मुंगेर : विश्व प्रसिद्ध श्रावणी मेला को लेकर मुंगेर जिले में 26 किलोमीटर कच्ची कांवरिया पथ एवं कांवरिया मार्गों में विधि व्यवस्था संधारण को लेकर जिलाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक ने संयुक्त आदेश जारी किया है. आदेश में एक ओर जहां तारापुर अनुमंडल के कांवरियों के पैदल अथवा वाहन से गुजरने वाले मार्ग को अतिसंवेदनशील घोषित कर दिया गया है.

  • आधी-अधूरी तैयारी के बीच श्रावणी मेला का उद्घाटन आज

    असरगंज/संग्रामपुर : यूं तो विश्व प्रसिद्ध श्रावणी मेले का अाधिकारिक तौर पर मंगलवार को ही उद्घाटन कर दिया जायेगा. किंतु प्रशासनिक स्तर पर मेले को लेकर जो तैयारियां पूरी की गयी है, वह पिछले वर्ष की तुलना में काफी पीछे दिख रही है. कच्ची कांवरिया पथ पर प्रतिवर्ष प्रशासनिक तौर पर उपलब्ध कराये जाने वाले पेयजल, शौचालय, स्नानागार, बिजली, स्वास्थ्य, सुरक्षा सहित अन्य सुविधाओं में इस वर्ष अभी से ही कमी देखी जा रही है.

  • कांवरिया पथ पर गूंजने लगा बोल बम का नारा, सुविधाओं का हो रहा विस्तार

    तारापुर : विश्व प्रसिद्ध श्रावणी मेला को लेकर कांवरिया पथ में बोल बम का नारा गुंजने लगा है. सोमवार को बड़ी संख्या में कांवरियों का झुंड कांवर लेकर देवघर के लिए रवाना हुए. कांवरियों का झुंड सावन के पहले दिन बाबा बैद्यनाथ पर जलाभिषेक करने को लेकर सुलतानगंज स्थित उत्तरवाहिनी गंगा से जल भरकर कांधे पर लिए कांवर के रूनझुन के साथ देवघर की ओर बोल बम का नारा लगाते निरंतर आगे बढ़ते जा रहे हैं.

  • देवघर : कल से स्पर्श पूजा बंद अरघा से होगा जलार्पण, शीघ्र दर्शनम के लिए 500 रुपये देने होंगे

    देवघर : 17 जुलाई से शुरू होनेवाले श्रावणी मेला के लिए मंदिर प्रशासन की तैयारी लगभग पूरी हो चुकी है. श्रावणी मेला के दौरान पूरे एक महीने तक भक्त अरघा से जलार्पण कर सकेंगे. मंगलवार तक ही भक्तों को स्पर्श पूजा की सुविधा मिलेगी.

  • देवघर : 17 को श्रावणी मेला का उदघाटन करेंगे सीएम, चंद्रग्रहण के कारण तिथि बदली

    रांची/देवघर : देवघर के प्रसिद्ध श्रावणी मेला का उदघाटन 17 जुलाई को मुख्यमंत्री रघुवर दास करेंगे. समारोह झारखंड-बिहार के प्रवेश द्वार दुम्मा में सुबह 10 बजे होगा.

  • सज-धज कर बाबानगरी तैयार, आज तक ही स्पर्श पूजा

    राजकीय मेला की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ब्रांडिंग के लिए प्रशासन भी पूरे जोर-शोर से लगा हुआ है. सुरक्षा के लिए जगह-जगह पुलिसकर्मियों व दंडाधिकारियों की प्रतिनियुक्ति कर दी गयी है.

  • श्रावणी मेला में चलेगी पांच स्पेशल ट्रेनें

    08611/08612 द्वि‍साप्ताहि‍क रांची-भागलपुर श्रावणी मेला स्पेशल : यह ट्रेन 15 जुलाई से 07 अगस्त तक (आठ फेरे) सोमवार व बुधवार को रांची से 22:00 बजे खुलेगी और अगले दि‍न 13:40 बजे भागलपुर पहुंचेगी. वहीं वापसी में 16 जुलाई से 08 अगस्त तक (आठ फेरे) मंगलवार और गुरुवार को 14:20 बजे भागलपुर से खुलेगी और अगले दि‍न 04:00 बजे रांची पहुंचेगी.

  • कांवरियों को 92 इंद्र वर्षा और विश्राम कुर्सी से मिलेगी राहत

    श्रावणी मेला में कांवरिया पथ पर झारखंड प्रवेश द्वार दुम्मा से खिजुरिया तक इस वर्ष विश्राम की कई व्यवस्था की गयी है. कांवरिया पथ के किनारे पहली बार सीमेंट कुर्सियां जगह-जगह लगायी गयी है. अधिकांश कुर्सियां पेड़ों के नीचे छायादार जगह पर लगायी गयी है. कांवरियों को यह कुर्सियां राहत दिलायेगी.

  • बाबाधाम-बासुकिनाथधाम तक कांवरियों को नि:शुल्क सेवा,रांची से पहुंची सात बसें

    श्रावणी मेला के दौरान कांवरियों को बाबाधाम से बासुकिनाथ धाम तक नि:शुल्क बस सेवा की सुविधा दी जायेगी. इसके लिए रांची नगर निगम से सात बसें देवघर भेजी गयी है. डीसी के निर्देश पर डीटीओ फिलबीयूस बारला ने आदेश निकाल दिया है. ये बसें सरकारी बस स्टैंड डीटीओ कार्यालय परिसर से खुलेंगी.

  • श्रावणी मेले को लेकर जसीडीह-सुल्तानगंज में ट्रेनों का ठहराव बढ़ा, शुरू हुईं स्पेशल ट्रेनें, ...पढ़ें पूरी जानकारी

    पटना : श्रावणी मेले को लेकर पूर्व मध्य रेलवे ने यात्रियों की सुविधा को लेकर कई पहल की है. जसीडीह और सुल्तानगंज स्टेशन पर कई महत्वपूर्ण ट्रेनों के ठहराव में बढ़ोतरी करने के साथ स्पेशल ट्रेनों का परिचालन भी शुरू किया है. मालूम हो कि श्रावणी मेले का उदघाटन मंगलवार को उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी करेंगे. यह मेला 15 अगस्त तक चलेगा.

  • हर साल कांवड़ ले जाती हैं 100 साल की माता बम

    रांची : नाम- उमा सरावगी उम्र- 100 के पार, जोश इतना कि 25 साल के युवा शरमा जाएं, रेलवे स्टेशन पर जैसे ही चुनरी प्रिंट साड़ी में पहुंची , जोर- जोर से बोल बम का नारा लगाने लगी. आसपास खड़े यात्री भी माता का उत्साह देखकर हैरान थे. उनके साथ आया कावड़ियों का जत्था भी माता को बोल बम के नारे में साथ देने लगा.

  • बोल बम : फिर आया बाबा का बुलावा, जानें देवघर, बासुकिनाथ और अजगैबीनाथ का महत्‍व

    इस बार विश्व प्रसिद्ध श्रावणी मेले व बांग्ला सावन की शुरुआत 17 जुलाई से हो रही है. एक महीना तक बाबा बैद्यनाथ की नगरी देवघर व सुलतानगंज के बीच केसरिया वस्त्रधारी कांवरियों की मानव शृंखला बनी रहेगी. सुलतानगंज (भागलपुर) की उत्तरवाहिनी गंगा से जल भर कर ज्योतिर्लिंग बैद्यनाथ के मंदिर तक की यह कांवर-यात्रा अपने आप में अनूठी है.

  • श्रद्धालुओं के सवालों पर उखड़ें नहीं, उन्हें धैर्यपूर्वक जानकारी दें और मदद भी करें

    भागलपुर : श्रावणी मेला का उद्घाटन मंगलवार को उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी करेंगे. इससे एक दिन पहले सोमवार को सभी चयनित पदाधिकारियों व कर्मचारियों की तैनाती एक माह के लिए हो जायेगी. मेला का आयोजन 15 अगस्त तक होगा.

  • श्रावणी मेला: मधुपुर स्टेशन में लगाये जा रहे सीसीटीवी

    मधुपुर : देवघर में सावन महीने में होने वाला विश्व प्रसिद्ध श्रावणी मेले की तैयारी को लेकर मधुपुर रेलवे स्टेशन परिसर में भी सीसीटीवी कैमरा लगाने का काम शुरू हो गया है. कैमरा के माध्यम से दूर दराज से आने जाने वाले श्रद्धालुओं व यात्रियों की सुरक्षा पर आरपीएफ नजर रख सकेगी. बताया जाता है कि यह कैमरा अस्थायी रूप से लगाया गया है और सिर्फ पूरे सावन मास तक ही लगा रहेगा.

  • कोयलांचल के मंदिरों में सावन की तैयारी, शक्ति मंदिर में हर सोमवार को होगा बाबा का विशेष शृंगार

    धनबाद : कोयलांचल के मंदिरों में श्रावणी माह को लेकर जोरदार तैयारी चल रही है. 17 जुलाई से सावन प्रारंभ हो रहा है. सावन की शुरुआत बुधवार से हो रही है. इस सावन में चार सोमवार पड़ेंगे. सावन को लेकर कोयलांचल के मंदिरों के पट खुलने और बंद होने के समय में बढ़ोतरी की गयी है.

  • देवघर : सीएम करेंगे श्रावणी मेला का उद्घाटन

    देवघर : इस बार का श्रावणी मेला कई मायनों में खास है. इस बार श्रावणी मेला के साथ बांग्ला सावन भी 17 जुलाई को ही शुरू होने जा रहा है. मुख्यमंत्री रघुवर दास 16 जुलाई को बिहार-झारखंड बॉर्डर पर स्थित दुम्मा में मेला का विधिवत उद्घाटन करेंगे. मेला के उद्घाटन के साथ-साथ ऑनलाइन प्रसाद योजना का शिलान्यास करेंगे.

  • रांची : माता बम के नाम से मशहूर हैं 100 वर्षीय उमा सरावगी, हर साल कांवर ले जाती हैं माता बम

    रांची : नाम-उमा सरावगी. उम्र-100 के पार. जोश इतना कि 25 साल के युवा भी शरमा जायें. माता रेलवे स्टेशन पर जैसे ही चुनरी प्रिंट साड़ी में पहुंचीं कि जोर-जोर से बोल बम का नारा लगाने लगीं. सभी माता का उत्साह देखकर हैरान थे. उनके साथ आया कांवरियों का जत्था भी बोल बम के नारे में साथ देने लगा. स्टेशन 100 से ज्यादा कांवरियों के नारों से गूंज उठा.

  • बस का ब्रेक हुआ फेल, 23 जवान घायल, श्रावणी मेला में ड्यूटी जा रहे थे वायलेस डिपार्टमेंट झारखंड पुलिस के जवान

    रांची/सिकिदिरी/चितरपुर : श्रावणी मेला (देवघर) में ड्यूटी के लिए ले जाये जा रहे वायलेस डिपार्टमेंट (झारखंड पुलिस) के प्रशिक्षु जवानों से भरी पुलिस बस शनिवार को दुर्घटनाग्रस्त हो गयी. यह घटना ओरमांझी सिकिदिरी-गोला रोड के सिकिदिरी जोबला केझिया घाटी में सुबह 10 बजे घटी. इसमें जैप-तीन के चालक ज्यौल लुगूम और वायरलेस के 22 जवान घायल हो गये.

  • रांची :18 साल बीत गये पर रांची नहीं बना रेलवे जोन, इन कारणों से लेट होती हैं ट्रेनें

    संयुक्त बिहार के कई नेता रेलमंत्री रहे लेकिन नहीं दिया गया ध्यान, पूर्व मुख्यमंत्रियों से लेकर कई सांसदों ने उठायी है आवाज रांची : झारखंड राज्य बने हुए 18 साल बीत चुके हैं, तब से या यूं कहें कि उसके पहले से रांची को रेलवे जोन बनाने की मांग की जा रही है, लेकिन आज तक अधूरी है. एक अप्रैल 2003 को हाजीपुर में रेलवे का नया जोन बना था.

  • देवघर : बाबा बैद्यनाथधाम एप लांच, जानें क्या है नये एप में

    नये एप में सुल्तानगंज से बाबाधाम तक कांवरिया पैदल पथ की जानकारी मैप के जरिये मिलेगी. जीपीएस सिस्टम के माध्यम से कांवरिया यात्रा के वर्तमान लोकेशन व स्थिति से अवगत हो पायेंगे.

  • 11 ट्रैफिक ओपी बने, ऑटो से नहीं जा सकेंगे बासुकिनाथ

    देवघर शहर हर दिन जाम की समस्या से जूझ रहा है. जाम और सड़कों पर बेतरतीब खड़ी गाड़ियों ने शहर की रफ्तार रोक दी है. श्रावणी मेले में इस समस्या से निबटने के लिए ट्रैफिक पुलिस ने 11 यातायात ओपी बनाये हैं. शहर से बाहर चार जगहों पर अस्थायी स्टैंड का निर्माण भी किया गया है

  • आज से कांवरिया पथ पर बिछेगा बालू, शिव भक्तों को देगा राहत

    श्रावणी मेले में कांवरियों की यात्रा को सुखमय बनाने के लिए कांवरिया पथ में रविवार से बालू की बिछायी का काम शुरू किया जायेगा. दुम्मा से लेकर खिजुरिया तक पूरे मार्ग में महीन बालू बिछाया जायेगा. नदी से बालू उठाव के बाद उसे चालने का काम पूरा कर लिया गया है.

  • प्रशासन ने लांच किया बाबा बैद्यनाथधाम एप

    श्रावणी मेले में देवघर आने वाले श्रद्धालुओं की सुविधा को देखते हुए सूचना तकनीक का फायदा देने के उद्देश्य से प्रशासनिक स्तर पर बाबा बैद्यनाथधाम एप का लांच किया गया है. इस एप को प्ले स्टोर में जाकर डाउनलोड किया जा सकता है. नये एप में सुल्तानगंज से बाबाधाम तक कांवरिया पैदल पथ की जानकारी मैप के जरिये मिलेगी.

  • दुधिया रोशनी से सराबोर रहेगी शिवगंगा

    श्रावणी मेले में शिवगंगा स्ट्रीट लाइट की दुधिया रोशनी से जगमगायेगा. शिवगंगा के चारों ओर 60 स्ट्रीट लाइट लगाने का निर्देश दिया गया है. मेले की तैयारी की मद्देनजर डीसी राहुल कुमार सिन्हा ने शुक्रवार को शिवगंगा तट का निरीक्षण किया. तालाब के घाटों पर महिलाओं को कपड़ा बदलने के लिए बनाये गये चेंजिंग रूम में

  • आज लांच होगा बाबाधाम एप

    श्रावणी मेले में कांवरियों को सूचना तकनीक का पूरा-पूरा लाभ दिया जा रहा है. कांवरियों की सुविधा के लिए प्रशासनिक स्तर पर बाबाधाम एप तैयार किया गया है. जानकारी के अनुसार इस एप को शनिवार को लांच किया जायेगा. यह एप कांवरियों को सुल्तानगंज से देवघर यात्रा के बारे में जानकारी देगा.

  • जग में सुंदर बाबाधाम... का अॉडियो रिलीज

    टीम फिल्म प्रालि की ओर से कांवर गीत का ऑडियो रिलीज किया गया. इसके गायक विक्रम कुमार सिपाही हैं, जोकि पहले देवघर जिला पुलिस बल में सिपाही के पद पर नियुक्त थे तथा वर्तमान में गिरिडीह जिला में पदस्थापित हैं.

  • एकादशी पर बाबा मंदिर में लगा भक्तों का तांता

    आषाढ़ शुक्ल पक्ष एकादशी तिथि पर बाबा मंदिर में भक्तों का तांता लगा रहा. इस अवसर पर पूरा मंदिर परिसर भक्तों से पट रहा. भक्तों की कतार मंदिर परिसर से बाहर निकल कर मानसरोवर फुट ओवरब्रिज तक पहुंच गयी. सभी भक्तों को मानसरोवर फुट ओवरब्रिज से मंदिर गर्भ-गृह में प्रवेश कराया गया.

  • व्रतों का खास महीना चतुर्मास

    श्रावण शब्द श्रवण से बना है, जिसका अर्थ है सुनना, अर्थात सुन कर धर्म को समझना. वेदों को श्रुति कहा जाता है, अर्थात उस ज्ञान को ईश्वर से सुन कर ऋषियों ने लोगों को सुनाया था. यह महीना भक्तिभाव और सत्संग के लिए होता है. जिस भी भगवान को आप मानते हैं, आप उसकी पूरे मन से आराधना कर सकते हैं, लेकिन सावन के माह में, विशेषकर भगवान शिव, मां पार्वती और श्रीकृष्णजी की पूजा का काफी महत्व है.

  • क्या आप जानते हैं सुल्तानगंज से जल भरकर ‘बाबा धाम’ जाने की परंपरा किसने शुरू की थी?

    देश भर में कुल द्वादश यानी की 12 ज्योतिर्लिंग हैं, इनका हिंदू धर्म में खास महत्व है. ऐसी मान्यता है कि स्वयं भगवान शिव जहां-जहां प्रकट हुए वहां-वहां शिवलिंगों को ज्योतिर्लिंगों के रूप में पूजा जाता है. इन्हीं 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है वैद्यनाथ धाम, जो झारखंड के देवघर जिले में स्थित है, इसे बाबा धाम के नाम से भी जाना जाता है. इस ज्योतिर्लिंग का खास महत्व इसलिए भी है क्योंकि यहां शक्तिपीठ भी है.

  • देवघर श्रावणी मेला : रैफ ने संभाली मेला व्यवस्था की कमान, आने लगे कांवरिये, 50 हजार भक्तों ने की पूजा

    गुरुवार को कांवरियों को कतारबद्ध कराया जलार्पण देवघर : श्रावणी मेला में अभी चार दिन शेष हैं, लेकिन अभी से गेरुआधारी कांवरियों के आने का सिलसिला शुरू हो गया है. बाबा मंदिर परिसर के साथ-साथ पूरा मेला क्षेत्र श्रावणी मेले के रंग में रंगने लगा है.

  • देवघर श्रावणी मेला : आने लगे कांवरिये, 50 हजार ने चढ़ाया जल, श्रद्धालुओं की सुरक्षा के लिए चप्पे-चप्पे पर तैनात रहेगी पुलिस

    देवघर : श्रावणी मेले में चार दिन शेष हैं, लेकिन अभी से गेरुआधारी कांवरियों के आने का सिलसिला शुरू हो गया है. बाबा मंदिर परिसर के साथ साथ पूरा मेला क्षेत्र श्रावणी मेले के रंग में रंगने लगा है.

  • बाबा मंदिर के गर्भगृह में कील ठोकना व मंदिर को पेंट करना नुकसानदेह

    बाबा मंदिर की पौराणिकता को बरकरार रखने व इसे संरक्षित के उद्देश्य से पुरातत्व विभाग की टीम पूर्वी व दक्षिणी जोन की निदेशक नंदनी भट्टाचार्य साहू के नेतृत्व में गुरुवार को बाबा मंदिर पहुंची. इस टीम में रांची के पुरातत्व क्षेत्रीय प्रभारी हरिओम शरण, नयी दिल्ली के राम कुमार वर्मा, अभियंता चितरंजन कुमार व तपन कुमार भट्टाचार्य शामिल थे

  • श्रावणी मेला : देवघर में ‘कामना लिंग’ के दर्शन से पूरी होती हैं मनोकामनाएं, यहां ऐसे पहुंचे थे भगवान भोलेनाथ

    द्वादश ज्योतिर्लिंगों में नवम ज्योतिर्लिंग हैं बाबा बैद्यनाथ. बाबा बैद्यनाथ का विश्वविख्यात मंदिर झारखंड के देवघर जिला में स्थित है. कहते हैं कि यहां आने वाले भक्त की सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती है. इसलिए इस शिवलिंग को ‘कामना लिंग’ कहा जाता है. कहते हैं कि बाबा भोलेनाथ अनाथों के नाथ हैं. वह औढ़र दानी कहे जाते हैं. श्रद्धापूर्वक जो भी इनके द्वार पहुंचता है, उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं. कुछ लोग यहां अपनी मनोकामना मांगने आते हैं, तो कुछ अपनी मनोकामनापूर्ण होने पर शिव का आभार प्रकट करने.

  • देवघर : कांवरियों के लिए सुविधा केंद्र में अस्थायी टेंट बनेंगे

    देवघर : बाबा मंदिर प्रशासन की ओर से श्रावणी मेला के मद्देनजर मंदिर के सुविधा केंद्र (पाठक धर्मशाला) के खुले बरामदे पर अस्थायी टेंट बनाया जायेगा. इस टेंट में जलार्पण कर बाहर निकलने वाले कांवरिये आराम कर सकेंगे. जानकारी के अनुसार, टेंट में एक बार में करीब 400 कांवरियों के विश्राम की सुविधा मिल सकती है.

  • श्रावणी मेला 2019 : तैयारी अधूरी, कठिन होगी कांवरियों की डगर, पथ पर नहीं बिछा बालू, नहीं लगी लाइटें, पांच दिन शेष

    भागलपुर : श्रावणी मेला 17 जुलाई से शुरू होगा, लेकिन कांवरियों के लिए इस बार डगर काफी कठिन होगी. मेले के उद्घाटन में पांच दिन शेष हैं. तैयारियों की डेट लाइन खत्म हो गयी है. 10 जुलाई तक हर विभाग को काम पूरा करने को कहा गया था, लेकिन बुधवार को काम अधूरा पड़ा हुआ है. तय तिथि पर काम पूरा नहीं हो सका है

  • रांगा मोड़ पर बनेगा आरओबी

    जिला प्रशासन इस साल श्रावणी मेला में कांवरियों को बेहतर सुविधाएं देने के साथ अगले साल श्रावणी मेला की तैयारी में भी जुट गया है. जिला प्रशासन द्वारा श्रावणी मेले में सुलभ आवागमन के मद्देनजर भेजे गये प्रस्ताव के बाद पहले चरण में रांगा मोड़ पर आरओबी (रोड ओवर ब्रिज) निर्माण की स्वीकृति मिल गयी है.

  • जेसीबी से भरे जा रहे गड्ढे, सौंदर्यीकरण का चल रहा काम

    श्रावणी मेला प्रारंभ होने में अब केवल पांच दिन शेष रह गये हैं. पिछले कुछ दिनों से लगातार हो रही बारिश के बीच काम करने में परेशानी के बावजूद प्रशासन मेला की तैयारी में युद्धस्तर पर लगा हुआ है. बुधवार को कांवरिया पथ में झमाझम बारिश में भी मजदूर कच्ची पथ को दुरुस्त करने में जुटे रहे.

  • कुंभ मेले में सफाई व्यवस्था देखने वाली एजेंसी को मिली श्रावणी मेले की बागडोर

    कुंभ मेले में सफाई व्यवस्था की जिम्मेदारी निभाने वाली इलाहाबाद की लल्लूजी एंड संस को श्रावणी मेला में सफाई व्यवस्था का बागडोर सौंपा गया है. श्रावणी मेला क्षेत्र में सफाई कार्य के लिए एजेंसी के 400 कर्मी लगाये जायेंगे. दो दिनों में अधिकारी सफाई कर्मियों को लेकर देवघर पहुंच जायेंगे.

  • मंदिर कर्मचारियों व पुलिस कर्मियों ने सीखे आपदा से निबटने के गुर

    बाबा मंदिर प्रशासनिक भवन में एनडीआरएफ की टीम ने आपदा से निबटने व आपदा में फंसे लोगों को बचाने का प्रशिक्षण दिया. इस दौरान मंदिर कर्मचारियों व मेला ड्यूटी में लगे पुलिस कर्मियों को प्रशिक्षण दिया.

  • देवघर-बासुकिनाथ में मुकम्मल सुरक्षा इंतजाम होगा : आइजी

    दुमका पहुंचे संताल परगना प्रक्षेत्र के आइजी रंजीत कुमार प्रसाद ने बुधवार को मीडिया से बातचीत में कहा कि इस बार के श्रावणी मेला को लेकर पुलिस की व्यवस्था बेहतर रहेगी. सुरक्षा की व्यवस्था को लेकर कल भी समीक्षा हुई है. चाहे व सशस्त्र बल हों या लाठी पार्टी पिछले साल के मुकाबले इस बार सभी तरीके के फोर्स अधिक उपलब्ध कराये जा रहे हैं.

  • श्रावणी मेला में डाकघर बेचेगा गंगोत्री से हरिद्वार तक का गंगाजल

    श्रावणी मेले की तैयारी में प्रधान डाकघर भी जुट गया है. इस साल प्रधान डाकघर की ओर से स्टॉल लगाकर गंगाजल बेचा जायेगा. स्टॉल में गंगोत्री, ऋषिकेश, हरिद्वार आदि जगहों के गंगाजल बोतल में उपलब्ध होंगे.

  • देवघर : श्रावणी मेला की सुरक्षा व्यवस्था पर बोले डीजीपी, स्वच्छता व विनम्रता के मूल मंत्र के साथ होगी ड्यूटी

    पिछले श्रावणी मेले की अपेक्षा इस वर्ष अधिक पुलिस-फोर्स की व्यवस्था की गयी : डीजीपी देवघर : कैबिनेट की बैठक में हिस्सा लेने देवघर पहुंचे डीजीपी कमल नयन चौबे ने सर्किट हाउस में पत्रकारों से कहा कि पिछले श्रावणी मेले की अपेक्षा इस वर्ष अधिक पुलिस-फोर्स की व्यवस्था की गयी है.

  • बाबानगरी में रघुवर सरकार, सरयू नहीं पहुंचे, श्रावणी मेला को राष्ट्रीय दर्जा दिलाने की पहल करेगा झारखंड, केंद्र को भेजेगा प्रस्ताव

    देवघर : पहली बार देवघर में आयोजित कैबिनेट की बैठक में रघुवर सरकार ने संताल परगना को कई तोहफे दिये. कैबिनेट की बैठक में फैसला लिया गया कि झारखंड सरकार देवघर-बासुकिनाथ श्रावणी मेले को राष्ट्रीय मेले का दर्जा देने का प्रस्ताव केंद्र को भेजेगी. कैसे विश्व पर्यटन के मानचित्र पर देवघर को लाया जाये, देवघर के श्रावणी मेला कैसे अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त करे, इसके लिए सरकार प्रतिबद्ध है. कैबिनेट की बैठक में कुल 17 प्रस्तावों पर मुहर लगी. इनमें पांच प्रस्ताव संताल परगना से संबंधित हैं.

  • देवघर :मॉब लिंचिंग पर बोले सीएम, सांप्रदायिक सौहार्द्र नहीं बिगाड़ने देंगे, राष्ट्र व विकास विरोधियों को बख्शा नहीं जायेगा

    देवघर : देवघर को अंतरराष्ट्रीय आध्यात्मिक स्थल के रूप में विकसित करेंगे. इसके लिए सरकार हर क्षेत्र में काम कर रही है. देवघर आने वाले तमाम श्रद्धालु अच्छी अनुभूति लेकर जायें, इसके लिए इस बार श्रावणी मेला का नारा है स्वच्छता और विनम्रता. उक्त बातें मुख्यमंत्री रघुवर दास ने प्रेस वार्ता में कही. मुख्यमंत्री ने कहा : देवघर को स्वच्छ बनाने में देवघर के लोग आगे आयें. खास कर बाजारों में दुकानदार गंदगी फैलाने के बजाये, डस्टबीन रखें. यदि ऐसा नहीं करते हैं तो निगम एक्ट के तहत कार्रवाई होगी.

  • देवघर : अस्पताल की लचर व्यवस्था देख बिफरे मुख्यमंत्री, डीएस को लगायी फटकार

    देवघर : मुख्यमंत्री रघुवर दास बाबा मंदिर में पूजा-अर्चना के बाद अचानक सदर अस्पताल पहुंच गये. यहां उन्होंने श्रावणी मेला की तैयारी का जायजा लिया. साथ ही इलाज के लिए आये मरीजों व भर्ती मरीजों से मिल कर उनकी समस्या से अवगत हुए. इस दौरान उन्होंने सभी ओपीडी, आइसीयू, ओटी, दवा काउंटर समेत कई जगहों का जायजा लिया तथा मरीजों से मिले.

  • श्रावणी मेला को राष्ट्रीय दर्जा दिलाने की पहल करेगा झारखंड, केंद्र को भेजा जायेगा प्रस्ताव

    पहली बार देवघर में आयोजित कैबिनेट की बैठक में रघुवर सरकार ने संताल परगना को कई तोहफे दिये. कैबिनेट की बैठक में फैसला लिया गया कि झारखंड सरकार देवघर-बासुकिनाथ श्रावणी मेले को राष्ट्रीय मेले का दर्जा देने का प्रस्ताव केंद्र को भेजेगी. कैसे विश्व पर्यटन के मानचित्र पर देवघर को

  • "कांवरिया हमारे अतिथि, कुंभ की तर्ज पर मिलेगी उन्हें सुविधाएं"

    बाबा बैद्यनाथधाम-बासुकीनाथ तीर्थ क्षेत्र विकास प्राधिकार की कार्यकारी परिषद (श्राइन बोर्ड) की बैठक मुख्यमंत्री रघुवर दास की अध्यक्षता में सर्किट हाउस में हुई. बैठक में मुख्यमंत्री ने कहा कि कुंभ की तर्ज पर श्रावणी मेले में देवघर पहुंचने वाले सभी श्रद्धालुओं को बेहतर सुविधा प्रदान की जायेगी. स्वच्छता और विनम्रता श्रावणी मेला की मूल संवेदना रहनी चाहिए. देश-दुनिया से जो भी आये, वह एक अच्छा संदेश लेकर जाये.

  • 'स्वच्छता व विनम्रता हमारा ध्येय"

    बाबा बैद्यनाथधाम-बासुकीनाथ तीर्थ क्षेत्र विकास प्राधिकार की कार्यकारी परिषद (श्राइन बोर्ड) की बैठक मुख्यमंत्री रघुवर दास की अध्यक्षता में सर्किट हाउस में हुई. बैठक में मुख्यमंत्री ने कहा कि कुंभ की तर्ज पर श्रावणी मेले में देवघर पहुंचने वाले सभी श्रद्धालुओं को बेहतर सुविधा प्रदान की जायेगी. स्व

  • श्रावणी मेला 2019 की तैयारी : बाबा मंदिर परिसर के सुविधा केंद्र में बनेगा अस्थायी ट्रॉमा सेंटर

    देवघर : श्रावणी मेले में देवघर आने वाले श्रद्धालुओं, तीर्थयात्रियों व पर्यटकों को उत्कृष्ट स्वास्थ्य सेवा देने के लिए बाबा मंदिर के समीप सुविधा भवन (पाठक धर्मशाला) में 10 बेड का अस्थायी ट्राॅमा सेंटर खोला जायेगा. बाबा मंदिर व आसपास के क्षेत्र में अगर कोई बड़ा हादसा या दुर्घटना होती है, तो ट्राॅमा सेंटर में मरीजों का बेहतर इलाज किया जायेगा.

  • झारखंड का विश्वप्रसिद्ध श्रावणी मेला 17 से, सवा सौ साल बाद बन रहे कई संयोग...

    देवघर : विश्वप्रसिद्ध श्रावणी मेला इस बार कई संयोग लेकर आ रहा है. लगभग सवा सौ साल बाद सावन माह में इस बार 17 जुलाई को पूर्णिमा व संक्रांति तिथि के अनुसार सावन प्रारंभ हो रहा है. इस दिन सूर्य प्रधान उत्तराषाढ़ नक्षत्र से सावन माह की शुरुआत होगी. इस दिन वज्र और विष कुंभ योग का संयाेग है. सावन में चार सोमवार पड़ेंगे. इसके अलावा रक्षा बंधन व स्वतंत्रता दिवस भी एक ही दिन होगा. एक अगस्त को हरियाली अमावस्या पर पंच महायोग का संयोग माना जा रहा है.

  • देवघर : बाबाधाम पहुंचने लगे भक्त, साठ हजार ने किया जलार्पण

    रविवार की अहले सुबह बाबा मंदिर का पट खुलते ही गूंजने लगे बोलबम के जयकारे, उपनयन संस्कार की रही धूम देवघर : असाढ़ मास पंचमी तिथि पर रविवार को अहले सुबह बाबा मंदिर का पट खुलते ही बोलबम के जयकारे गुंजने लगे. बाबा मंदिर में सावन की झलक दिखने लगी है. गेरुआ वस्त्रधारी बाबाधाम पहुंचने लगे हैं. अत्यधिक भीड़ होने की वजह से आम भक्तों की कतार भी सुबह से ही लंबी लगी रही. आये भक्तों को मानसरोवर ब्रिज से प्रवेश कराने की व्यवस्था को सुबह से ही जारी रखा गया. रविवार को पट बंद होने तक करीब साठ हजार भक्तों ने जलार्पण कर मंगलकामना की.