तरुण विजय

ट्विटर बाबा की बादशाहत

तरुण विजय

हमारी एक खासियत है. कोई भी बाहर का हो, अंग्रेजी बोलता हो और अगर वह सोशल मीडिया के एक हिस्से का मालिक है, तो फिर बात ही क्या? हमारे देश में आ जाये, तो हम इस तरह से उसकी आवभगत करते हैं, मानो वह किसी सर्वप्रभुता संपन्न देश का मालिक हो. तनिक हमारी हल्की-फुल्की तारीफ कर दी, तो बस हम यूं खुश होते हैं, मानो उस सर्टिफिकेट के लिए बरसों से हम तरस रहे थे. ट्विटर, फेसबुक, जीमेल का ऐसा ही मामला है. इन दिनों ट्विटर से झगड़ा चल रहा है. ट्विटर के भारतीय समन्वयक भारतीय बाबू ही हैं.

Columns

सोलहवीं लोकसभा का कामकाज

अंकिता नंदा

साल 2019 के बजट सत्र के समापन के साथ 16वीं लोकसभा का अवसान हो गया. पिछले पांच वर्षों के दौरान 133 ...

Columns

तेरह प्वॉइंट रोस्टर का मुद्दा

अनुज लुगुन

बातचीत के दौरान 13 प्वॉइंट रोस्टर पर कुछ विद्यार्थी यह चिंता जाहिर कर रहे थे कि यदि नियुक्तियों में ...

Columns

ट्विटर बाबा की बादशाहत

तरुण विजय

हमारी एक खासियत है. कोई भी बाहर का हो, अंग्रेजी बोलता हो और अगर वह सोशल मीडिया के एक हिस्से का ...

Columns

प्यार का उत्कृष्ट संस्करण

श्रीप्रकाश शर्मा

चीन की एक बहुत पुरानी लोक गाथा है. कहते हैं कि किसी समय वहां संयोग से तीन नेत्रहीन दोस्तों की ...

Columnists