रवि भूषण

ज्येष्ठ पूर्णिमा : नागार्जुन का जन्मदिन

रवि भूषण

आज ज्येष्ठ पूर्णिमा है. बाबा नागार्जुन का जन्मदिन. उनकी याद बार-बार आती है. आज के दिन कुछ और अधिक. उन पर बहुत कुछ लिखा और कहा गाय है, पर मुझे बार-बार ऐसा लगता रहा है कि कुछ छूट गया है या जिस पर हमारा ध्यान अधिक होना चाहिए, उधर नहीं गया है. उनका रचना-समय 68 वर्ष का है- 1929 से 1997 तक. वे सदैव उनके कवि रहे हैं, जिन्होंने ''एक-एक दाने की खातिर सौ-सौ पापड़ बेले.''

Columns

सामाजिक मूल्य और राष्ट्रवाद

मणींद्र नाथ ठाकुर

पिछले कुछ वर्षों में भारत में राष्ट्रवाद पर बहुत बहस हुई है. यहां तक कि बिना ठोस आधार के भी हम किसी ...

Columns

सरकार की कोशिशों पर करें भरोसा

डॉ सय्यद मुबीन जेहरा

दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र ने हाल ही में नयी सरकार के रूप में पुरानी ही मोदी सरकार को चुन लिया है. ...

Columns

चुनाव नतीजे और नीतीश कुमार फैक्टर

केसी त्यागी

लोकसभा चुनावों में बिहार के नतीजों ने सबको आश्चर्यचकित किया है. कई धारणाएं, पूर्वानुमान तथा ...

Columns

संस्कृति के एक सिपाही का जाना

कुमार प्रशांत

मुझे अच्छा लगा कि गिरीश रघुनाथ कर्नाड को संसार से वैसे ही विदा किया गया, जैसे वे चाहते थे- नि:शब्द! ...

Columnists