पुष्पेश पंत

नयी रणनीति तलाशे भारत

पुष्पेश पंत

ईरान के लोकप्रिय और रणकुशल सेनानायक कासिम सुलेमानी की अमेरिकी राष्ट्रपति के आदेशानुसार हत्या ने अनेक विकट सवाल खड़े कर दिये हैं. सामरिक विशेषज्ञों का ध्यान इस पर ही केंद्रित रहा है कि ईरान की प्रतिक्रिया और प्रतिशोध का दुष्चक्र कहीं हमें सर्वनाशक तृतीय महायुद्ध की कगार तक तो नहीं पहुंचा देगा! हमारी समझ में इससे कम महत्वपूर्ण वह बदलाव नहीं, जिसके कारण अंतरराष्ट्रीय कानून की वह तमाम मान्यताएं ध्वस्त होती नजर आ रही हैं, जिन पर अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था टिकी है.

Columns

संविधान को जानेंगे, तभी तो मानेंगे

सुभाष कश्‍यप

यह बड़ी विडंबना वाली बात है कि भारत में संविधान को लेकर भयंकर निरक्षरता व्याप्त है. ज्यादातर लोग तो ...

Columns

मध्यम वर्ग की निगाहें बजट पर

डॉ जयंतीलाल भंडारी

देश के मध्यम वर्ग के लोगों की निगाहें एक फरवरी, 2020 को प्रस्तुत किये जानेवाले वर्ष 2020-21 के बजट ...

Columns

संविधान संशोधन का अर्थ

रामबहादुर राय

आजकल संविधान को लेकर जो बहस चल रही है, उसके गुण-दोष को छोड़ दें, तो एक अच्छी बात यह है कि संविधान ...

Columns

कॉलेजियम व्यवस्था पर सवाल

विजय कुमार चौधरी

पिछले दिनों कोच्चि (केरल) में आयोजित एक कार्यक्रम में उच्चतम न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश कुरियन ...

Columnists