कृष्‍ण प्रताप सिंह

सच्चे अर्थों में लोकनायक थे जेपी

कृष्‍ण प्रताप सिंह

ग्यारह अक्तूबर, 1902 को उत्तर प्रदेश व बिहार की सीमा पर स्थित, बलिया व सारण जिलों के बीच बंटे और अनूठी भौगोलिक स्थिति के स्वामी सिताबदियारा गांव में जन्म लेकर 1979 में 8 अक्तूबर को पटना में अपने 77वंे जन्मदिन से तीन रात पहले मधुमेह व हृदयरोग से हारकर अंतिम सांस लेनेवाले लोकनायक जयप्रकाश नारायण (जेपी) के लंबे सार्वजनिक जीवन के इतने आयाम हैं कि उनमें से किसी एक को छूने चलिये, तो दूसरे के छूट जाने का अंदेशा सताने लगता है.

Columns

भविष्य की एक दिलचस्प झलक

आकार पटेल

एक पुराना चुटकुला है कि भविष्य के विषय में भविष्यवाणी कठिन है. मगर एक ऐसा तरीका है, जिसके द्वारा हम ...

Columns

ब्रेक्जिट: उलझन सुलझे ना!

उपेंद्र सिंह

कमजोर नेतृत्व और अदूरदर्शी निर्णय का शिकार ब्रिटेन इस समय एक कठिन दौर से गुजर रहा है. आगामी 31 ...

Columns

गांधी के देश का होने का गर्व

विजय कुमार चौधरी

इस वर्ष महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर देशभर में कार्यक्रम आयोजित हो रहे हैं. गांधी एक ऐसे ...

Columns

सोशल मीडिया के दुरुपयोग से बचाव

कुमार आशीष

बहुधा हमारे थानों और तकनीकी शाखा के ऑफिस में ऐसी शिकायतें मिली हैं, जिसमें युवा लड़की के फेसबुक ...

Columnists