आर राजगोपालन

दक्षिण भारत मोदी के असर से अछूता

आर राजगोपालन

द क्षिण भारत में तेलुगु देशम, तेलंगाना राष्ट्र समिति, द्रमुक, अन्ना द्रमुक, जनता दल (सेकुलर), वायएसआर कांग्रेस दक्षिण भारत के प्रमुख क्षेत्रीय दल हैं. चंद्रबाबू नायडू और एमके स्टालिन ने उत्तर भारतीय मतदाताओं के मन-मस्तिष्क को नहीं समझा. द्रमुक और टीडीपी ने मोदी को कमतर आंका. यही वह सीख है, जिसे 2019 में नरेंद्र मोदी की जीत से सीखा जा सकता है.

Columns

कूटनीतिक दृढ़ता पर कायम रहें

पवन के वर्मा

क्या भारत को पाकिस्तान से वार्ता करनी चाहिए? पारंपरिक मत तो यह रहा है कि जब तक वह दहशतगर्दी को ...

Columns

पानी बचायें या मिट जायें

संजय बारू

अभी जहां एक ओर भारत के पश्चिमी तट पर माॅनसून की तेज बौछारें पड़ रही हैं, वहीं दूसरी ओर ऐसी रिपोर्टें ...

Columns

सामाजिक मूल्य और राष्ट्रवाद

मणींद्र नाथ ठाकुर

पिछले कुछ वर्षों में भारत में राष्ट्रवाद पर बहुत बहस हुई है. यहां तक कि बिना ठोस आधार के भी हम किसी ...

Columns

सरकार की कोशिशों पर करें भरोसा

डॉ सय्यद मुबीन जेहरा

दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र ने हाल ही में नयी सरकार के रूप में पुरानी ही मोदी सरकार को चुन लिया है. ...

Columnists