कुमार प्रशांत

समाज को हिंसक होने से रोकिए

कुमार प्रशांत

मुझे यह जानने में कोई दिलचस्पी नहीं है कि अलीगढ़ में अखिल भारत हिंदू महासभा के जिन लोगों ने 30 जनवरी, 2019 को महात्मा गांधी को ‘सामने खड़ा करके░’ फिर से गोली मारने का कुत्सित खेल खेला, वे कौन थे, उनकी गिरफ्तारी हुई या नहीं अौर गिरफ्तारी नहीं हुई, तो क्यों नहीं हुई? कोई मुझसे पूछे, तो मैं बार-बार यह कहने को तैयार हूं कि न तो उनकी गिरफ्तारी होनी चाहिए अौर न उनके पीछे पुलिस छोड़ी जानी चाहिए.

Columns

सोलहवीं लोकसभा का कामकाज

अंकिता नंदा

साल 2019 के बजट सत्र के समापन के साथ 16वीं लोकसभा का अवसान हो गया. पिछले पांच वर्षों के दौरान 133 ...

Columns

तेरह प्वॉइंट रोस्टर का मुद्दा

अनुज लुगुन

बातचीत के दौरान 13 प्वॉइंट रोस्टर पर कुछ विद्यार्थी यह चिंता जाहिर कर रहे थे कि यदि नियुक्तियों में ...

Columns

ट्विटर बाबा की बादशाहत

तरुण विजय

हमारी एक खासियत है. कोई भी बाहर का हो, अंग्रेजी बोलता हो और अगर वह सोशल मीडिया के एक हिस्से का ...

Columns

प्यार का उत्कृष्ट संस्करण

श्रीप्रकाश शर्मा

चीन की एक बहुत पुरानी लोक गाथा है. कहते हैं कि किसी समय वहां संयोग से तीन नेत्रहीन दोस्तों की ...

Columnists