कुमार प्रशांत

उन्माद नहीं, विवेक महत्वपूर्ण है

कुमार प्रशांत

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने अयोध्या मामले में सर्वोच्च न्यायालय के फैसले पर पुनर्विचार याचिका दाखिल करने का फैसला क्यों किया, यह तो पता नहीं, लेकिन मुझे यह पता है कि यह फैसला उन्हें भी शर्मशार करेगा अौर देश को भी! जीत का रहस्य यह है कि वह संयम में शोभा पाता है; हार का खोखलापन यह है कि वह बेवजह जख्म को हरा करता रहता है.

Columns

संविधान संशोधन का अर्थ

रामबहादुर राय

आजकल संविधान को लेकर जो बहस चल रही है, उसके गुण-दोष को छोड़ दें, तो एक अच्छी बात यह है कि संविधान ...

Columns

कॉलेजियम व्यवस्था पर सवाल

विजय कुमार चौधरी

पिछले दिनों कोच्चि (केरल) में आयोजित एक कार्यक्रम में उच्चतम न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश कुरियन ...

Columns

संन्यास का फैसला धौनी पर छोड़ें

आशुतोष चतुर्वेदी

महेंद्र सिंह धौनी एक बार फिर सुर्खियों में है. कुछ-कुछ दिनों बाद धौनी चर्चा में आ जाते हैं. भारतीय ...

Columns

संविधान का मूल विचार

अनुज लुगुन

पिछले वर्ष सुप्रीम कोर्ट का एक आदेश सुर्खियों में था, जिसमें उसने करीब दस लाख से ज्यादा आदिवासियों ...

Columnists