आशुतोष चतुर्वेदी

  • समाज में बुजुर्गों की अनदेखी

    देश की बड़ी आबादी तेजी से बुजुर्ग हो रही है. बेहतर खान पान और स्वास्थ्य सेवाओं ने लोगों की उम्र बढ़ा दी है, लेकिन हालात बदल रहे हैं और पुराना सामाजिक तानाबाना टूटता जा रहा है. संयुक्त परिवारों का दौर चला गया. एकल परिवारों में मां-बाप के लिए स्थान नहीं है.

  • जल संकट को लेकर चेत जाएं

    पूरे देश में जल संकट गहराता जा रहा है. हम सब लोग बेसब्री से मॉनसून का इंतजार कर रहे हैं. केरल से थोड़ी राहत की खबर आयी है कि देर से ही सही, वहां मॉनसून पहुंच गया है. दूसरी ओर जल संकट को लेकर देश के विभिन्न हिस्सों से विचलित कर देने वाली खबरें सामने आ रही हैं.

  • प्रचंड गर्मी और बढ़ता जल संकट, देश के 10 राज्यों में तापमान 44 डिग्री से पार

    इन दिनों आसमान से जैसे आग बरस रही है. एक ओर तो प्रचंड गर्मी का प्रकोप है, तो दूसरी ओर हमारे गांव, कस्बे और शहर पानी की कमी से जूझ रहे हैं. चापाकल सूखने लगे हैं. कूपों का जल स्तर गिर गया है. गर्मी के साथ-साथ पेय जल का भारी संकट भी उत्पन्न हो गया है. इन दिनों लगभग आधा देश प्रचंड गर्मी की चपेट में है. देश के 10 राज्यों में तापमान 44 डिग्री सेल्सियस को पार कर गया है.

  • चिंताजनक है कांग्रेस का पराभव

    संपादकीय प्रभात आशुतोष चतुर्वेदी प्रधान संपादक, प्रभात खबर ashutosh.chaturvedi सोशल मीडिया पर एक मैसेज वायरल है कि अगर आप मुंबई के चर्च गेट से उत्तर भारत की ओर जा रहे हैं, तो आपको पंजाब से पहले कांग्रेस का कोई सांसद नहीं मिल पायेगा. मैसेज भले ही एक तंज हो, लेकिन इसमें कोई शक नहीं है कि लोकसभा चुनाव के नतीजे कांग्रेस के लिए बेहद निराशाजनक हैं. कई राज्यों में तो कांग्रेस का सूपड़ा साफ है. ऐसे राज्यों की सूची खासी लंबी है. कांग्रेस दिल्ली, गुजरात, आंध्र प्रदेश, राजस्थान, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, अरुणाचल प्रदेश, जम्मू कश्मीर, ओड़िशा, त्रिपुरा, मणिपुर, मिजोरम, नागालैंड, सिक्किम, दमन दीव, दादर नगर हवेली, लक्षद्वीप और चंडीगढ़ में अपना खाता तक नहीं खोल पायी. और तो और, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अपनी अमेठी सीट को भी नहीं बचा पाये. इसके पहले राहुल गांधी अमेठी से लगातार तीन बार सांसद चुने गये थे. अमेठी से पहले भी गांधी परिवार लड़ता रहा हैं. इमरजेंसी के बाद हुए चुनाव में संजय गांधी के हारने के बाद यह दूसरा मौका है, जब अमेठी से गांधी परिवार का कोई सदस्य हारा है. एक और रोचक तथ्य है कि इमरजेंसी के बाद 1977 में हुए लोकसभा चुनावों में राज नारायण ने इंदिरा गांधी को रायबरेली से हरा दिया था. इसके बाद से इस परिवार का कोई सदस्य चुनाव नहीं हारा था. इस बार कांग्रेस को पूरे देश में मात्र 52 सीटें मिलीं. 80 सीटों वाले उप्र से मात्र रायबरेली से सोनिया गांधी जीत पायीं. कांग्रेस की इन सीटों में 19 केरल और तमिलनाडु की 10 सीटें हटा दें, तो वह बाकी 34 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से मात्र 23 सीटें जीत पायी हैं. कांग्रेस को इस बार भी लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष बनाने का मौका नहीं मिलेगा. इसके लिए कम-से-कम 55 सीटें जरूरी हैं. यह दूसरा मौका होगा, जब लोकसभा में विपक्ष का नेता नहीं होगा. 2014 में भी कांग्रेस को 44 सीटें ही मिली थीं. लोकतंत्र में मजबूत विपक्ष जरूरी होता है. लिहाजा कांग्रेस का सूपड़ा साफ होना चिंताजनक है. 1885 में स्थापित यह पार्टी आज अपनी प्रासंगिकता के लिए संघर्ष कर रही है. चुनाव में इस बार बहुत दिलचस्प बातें देखीं. कांग्रेस ने अल्पसंख्यकों से दूरी बनाते हुए नरम हिंदुत्व की राह पकड़ी थी. राहुल गांधी हर छोटे-बड़े मंदिर में मत्था टेकते नजर आ रहे थे, जबकि कांग्रेस पर अल्पसंख्यकों की तरफदारी के आरोप लगते रहे हैं. कांग्रेस ने इस बार उनसे दूरी बनाये रखी. राहुल गांधी ने चुनाव में पार्टी की हार स्वीकार करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी को बधाई दी. कहा, इस पराजय की 100 फीसदी जिम्मेदारी उनकी है. लड़ाई विचारधारा की है और पार्टी की विचाराधारा जीतेगी. इन सबके बावजूद कांग्रेस के लिए ये नतीजे खतरे की घंटी हैं. वह अपने गढ़ों- कर्नाटक, राजस्थान, मप्र और छत्तीसगढ़ में भी बुरी तरह हारी है. उप्र में कांग्रेस का हश्र तो हम सबके सामने है. इस लोकसभा चुनाव में पार्टी के प्रचार की कमान खुद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने संभाली थी और उन्होंने आक्रामक प्रचार भी किया था. उन्होंने कर्ज माफी, ''न्याय'' और राफेल को चुनावी मुद्दा बनाने की कोशिश की. सैकड़ों रैलियां और रोड शो किये. इनमें भीड़ भी जुट रही थी. इससे आभास हुआ था कि राहुल गांधी कांग्रेस को पुनर्जीवित करने में सफल हो जायेंगे, पर ऐसा नहीं हुआ. भीड़ वोट में तब्दील नहीं हो पायी. राहुल ने सबसे ज्यादा प्रचार उप्र में किया, जहां कांग्रेस केवल एक सीट रायबरेली से जीत पायी. प्रियंका गांधी को पूर्वी उप्र और ज्योतिरादित्य सिंधिया को पश्चिमी उप्र की कमान सौंपे जाने की रणनीति भी कामयाब नहीं हो पायी. राहुल गांधी की नेतृत्व क्षमता पर सवाल उठ रहे हैं. कुछ समय पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के सामने एक ऐतिहासिक अवसर आया था, जब वह मप्र और राजस्थान में सत्ता की कमान युवाओं को सौंप सकते थे, लेकिन राहुल गांधी ने यह ऐतिहासिक मौका गंवा दिया. उन्होंने मप्र की कमान 72 वर्षीय कमलनाथ को सौंपी और जस्थान में 67 वर्षीय अशोक गहलौत को मुख्यमंत्री बना दिया, जबकि राहुल गांधी युवा नेतृत्व को मौका देकर राजनीतिक जोखिम उठा सकते थे. इन नतीजों का एक और संदेश भी है कि वंशवाद की राजनीति का दौर उतार पर है. इसे जितनी जल्दी कांग्रेस स्वीकार कर लेगी, उसके लिए उतना बेहतर होगा. एक बात और स्पष्ट हो गयी है कि लगातार प्रयासों के बावजूद राहुल गांधी को देश की जनता कांग्रेस के नेता के बतौर स्वीकार करने को तैयार नहीं हैं. प्रियंका गांधी भी कुछ कमाल नहीं दिखा पायीं. परिवारवाद की राजनीति से आने वाले सभी बड़े नेता इन चुनावों में हार गये. इनमें ज्योतिरादित्य सिंधिया, महबूबा मुफ्ती, डिंपल यादव, मीसा भारती, जयंत चौधरी, वैभव गहलौत, अशोक चव्हाण, मिलिंद देवड़ा और राहुल गांधी आदि शामिल हैं. सपा-बसपा-रालोद के महागठबंधन के बावजूद एनडीए उप्र में 64 सीटों जीतने में कामयाब रहा. आंकड़ों के अनुसार भाजपा को यूपी में 49.5% वोट मिले हैं, जबकि महागठबंधन को 38.97% हासिल हुए हैं. कांग्रेस का वोट प्रतिशत मात्र 6.26% रहा. माना जा रहा था कि गठबंधन उप्र में भाजपा का विजयी रथ रोकने में कामयाब हो जायेगा, लेकिन सपा-बसपा का वोट आपस में ट्रांसफर नहीं हुआ और इसका सीधा फायदा भाजपा को मिला. नतीजों से स्पष्ट है कि कांग्रेस के अलग चुनाव लड़ने का नुकसान भी गठबंधन को हुआ. आकलन के अनुसार यदि कांग्रेस गठबंधन में शामिल होती, तो भाजपा की आठ सीटें कम हो जातीं. कांग्रेस बार-बार यह कह रही थी कि वह गठबंधन के वोट नहीं काटेगी, लेकिन भाजपा प्रत्याशियों को मिली जीत के अंतर से पता चलता है कि कांग्रेस ने गठबंधन के वोट ज्यादा काटे हैं. एक बात और, कांग्रेस ने कई राज्यों में गठबंधन किये. इनमें महाराष्ट्र, कर्नाटक, बिहार, झारखंड, केरल और तमिलनाडु शामिल हैं, लेकिन इन प्रदेशों में आखिरी वक्त तक सीट को लेकर सहयोगियों से सामंजस्य का अभाव रहा. कुछ महीने पहले राजस्थान, मप्र और छत्तीसगढ़ में कांग्रेस ने जीत दर्ज की थी, उन राज्यों में भी पार्टी का प्रदर्शन 2014 से भी खराब रहा. मौजूदा लोकसभा चुनाव कांग्रेसी नेताओं के सामने बड़ा अवसर था, लेकिन खींचतान की खबरें खूब सामने आयीं थीं. जैसा कि कांग्रेसी भी कहते हैं, उन्हें विपक्ष की जरूरत नहीं होती, उनकी अपनी पार्टी के लोग इस कमी को पूरा कर देते हैं. इन चुनावों में मतदाताओं ने कांग्रेस को स्पष्ट संदेश दिया है कि उसे राहुल गांधी की नेतृत्व क्षमता पर भरोसा नहीं है, लेकिन कांग्रेस का ऐसे लोगों की कमी नहीं है, जो यह मानते हैं कि नेहरू-गांधी परिवार के बिना कांग्रेस का वजूद नहीं रहेगा. कांग्रेस को यदि प्रासंगिक रहना है, तो उसे नेतृत्व, संगठन, रणनीति और कार्य संस्कृति में तत्काल बदलाव करने होंगे, अन्यथा उसके अप्रासंगिक होने का खतरा है.

  • सीमित चरणों में हों आम चुनाव

    चुनाव किसी भी लोकतंत्र के आधार स्तंभ होते हैं. हर आम चुनाव लोकतंत्र को समृद्ध कर जाता है. सदियों तक सत्ता परिवर्तन हमेशा रक्तरंजित रहा है, लेकिन लोकतांत्रिक व्यवस्था ने सत्ता परिवर्तन को सहज कर दिया है. लोकसभा चुनाव वास्तव में लोकतंत्र का महाकुंभ है. इतनी व्यापकता, इतनी विविधता की मिसाल दुनियाभर में कहीं नहीं है.

  • परीक्षा के अंक नहीं हैं जिंदगी का पैमाना

    हाल में बिहार, झारखंड, सीबीएसइ और आइसीएससी बोर्ड के नतीजे आये हैं. साथ ही कई बच्चों के आत्महत्या करने की दुखद खबरें भी आयीं. ऐसी खबरें इसी साल आयीं हों, ऐसा नहीं हैं. ये खबरें साल-दर-साल आ रही हैं.

  • फेक न्यूज के दौर में विश्वसनीय हैं अखबार

    इन दिनों सोशल मीडिया पर फेक न्यूज की भरमार है. यह भेद कर पाना बेहद कठिन है कि कौन-सी खबर सच है, कौन-सी खबर फर्जी है. व्हाट्सएप के दौर में सुबह से शाम तक खबरों का आदान प्रदान होता है और पता ही नहीं चलता कि कितनी तेजी से फेक न्यूज के आप शिकार हो गये और आपने उसे आगे बढ़ा कर कितने और लोगों को प्रभावित कर दिया. एक और मुश्किल है कि इसके स्रोत का पता ही नहीं चलता है. यह फॉरवर्ड होती हुई आप तक पहुंचती है.

  • प्रभात खबर से विशेष बातचीत : पीएम मोदी ने कहा, मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करना भारत की बड़ी जीत

    गुरुवार को प्रधानमंत्री ने 7, लोक कल्याण मार्ग, नयी दिल्ली स्थित अपने आवास पर प्रभात खबर से विशेष बातचीत की. राष्ट्रीय सुरक्षा पर उन्होंने कहा कि इस विषय को राजनीतिक तराजू पर नहीं तौला जा सकता है. इसे वोट बैंक पॉलिटिक्स से बाहर लाना पड़ेगा. मसूद अजहर को यूनाइटेड नेशंस द्वारा अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित किये जाने पर प्रधानमंत्री ने इसे भारत की बड़ी जीत बतायी है. बिहार, झारखंड और पश्चिम बंगाल पर भी उन्होंने बातें कीं. उन्होंने कहा कि देश का भला तब होगा, जब पूर्वी भारत का विकास होगा. पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल, ओड़िशा और उत्तर-पूर्व के राज्य, इन्हें देश का ग्रोथ इंजन बनना चाहिए.

  • प्रभात खबर से विशेष बातचीत : पीएम मोदी ने कहा- जमीन पर न करंट, न अंडरकरंट, बल्कि एनडीए के पक्ष में है सुपर करंट

    गुरुवार को प्रधानमंत्री ने 7, लोक कल्याण मार्ग, नयी दिल्ली स्थित अपने आवास पर प्रभात खबर से विशेष बातचीत की. राष्ट्रीय सुरक्षा पर उन्होंने कहा कि इस विषय को राजनीतिक तराजू पर नहीं तौला जा सकता है. बिहार, झारखंड और पश्चिम बंगाल पर भी उन्होंने बातें कीं. उन्होंने कहा कि देश का भला तब होगा, जब पूर्वी भारत का विकास होगा. पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल, ओड़िशा और उत्तर-पूर्व के राज्य, इन्हें देश का ग्रोथ इंजन बनना चाहिए. पढ़ें पीएम मोदी से प्रभात खबर के प्रधान संपादक आशुतोष चतुर्वेदी का पूरा साक्षत्‍कार.......

  • जल संकट के प्रति गंभीर प्रयास हों

    हालत यह है कि गर्मी ने अभी दस्तक भर दी है और हमारे गांव, कस्बे और शहर पानी की कमी से जूझने शुरू हो गये हैं. अभी मई और जून की गर्मी बाकी है और कुएं और सामान्य चापाकल सूखने लग गये हैं.

  • क्रिकेट विश्व कप की खराब ओपनिंग

    हम जानते हैं कि पूरा ही देश क्रिकेट का दीवाना है. ज्यों ही 30 मई से क्रिकेट विश्व कप शुरू होगा, फिर देखिए, कैसे पूरे देश पर इसका बुखार चढ़ता है. चुनावी बुखार उतरेगा और क्रिकेट का बुखार चढ़ जायेगा.

  • यूपी, बिहार में जनसंख्या की चुनौती

    संयुक्त राष्ट्र ने जनसंख्या को लेकर एक रिपोर्ट जारी की है, जिसमें बताया गया है कि 2019 में दुनिया की आबादी बढ़ कर 7.7 अरब हो गयी है, जबकि 2018 में यह आबादी 7.6 अरब थी. रिपोर्ट में कहा गया है कि 2010 से 2019 के बीच भारत की जनसंख्या चीन की तुलना में दोगुनी रफ्तार से बढ़ी है. भारत की जनसंख्या 1.2 फीसदी औसत वार्षिक दर से बढ़ कर 136 करोड़ हो गयी है.

  • ऑनलाइन गेम की गिरफ्त में बच्चे

    हम लोगों को इस बात का एहसास नहीं है कि टेक्नोलॉजी युवा पीढ़ी को कितनी तेजी से अपनी गिरफ्त में लेती जा रही है. पिछले दिनों एक बेहद चिंताजनक खबर आयी कि हैदराबाद के मलकाजगिरी में एक 16 वर्षीय लड़के को ऑनलाइन गेम पबजी (प्लेयर अननोन्स बैटलग्राउंड्स) खेलने को लेकर मां ने डांटा, तो उसने आत्महत्या कर ली. मां-बाप ने पुलिस को दिये बयान में कहा है कि बच्चे का अगले दिन अंग्रेजी का इम्तिहान था और वह पबजी खेल रहा था. इस पर मां ने उसे डांटा.

  • आइए, वोट करें और देश गढ़ें

    चुनाव किसी भी लोकतंत्र का आधार स्तंभ होता हैं. इसलिए इसे लोकतंत्र का महापर्व कहा जाता है. इसकी खूबसूरती यह है कि हर खासोआम के वोटों से सरकार का चयन होता है. इसलिए मतदाता लोकतंत्र की रीढ़ माने जाते हैं. हर शख्स को यह समझना चाहिए कि उसके वोट का कितना महत्व है.

  • राजनीति में युवाओं को मौका मिले

    जीवन के हर क्षेत्र में पीढ़ियों का परिवर्तन हमेशा मुश्किल होता है. इसके लिए साहसिक पहल की जरूरत होती है. भारत आज विश्व में सब से अधिक युवा आबादी वाला देश है. इतनी युवा आबादी किसी देश के पास नहीं हैं, लेकिन हर क्षेत्र में युवाओं की अनदेखी की जा रही है. दलील दी जाती है कि उनके पास अनुभव की कमी है.

  • और अब श्वेत आतंकवाद का उभार

    न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च में दो मस्जिदों पर अंधाधुंध गोलीबारी कर 50 लोगों की जान लेने की घटना ने पूरी दुनिया को स्तब्ध कर दिया है. मौत का खेल खेलने वाले श्वेत आतंकवादी ब्रेंटन टैरेंट को जब कोर्ट में पेश किया गया और हत्या के आरोप तय किये गये, तो वह कोर्ट में खड़ा मुस्कुरा रहा था. उसे किसी तरह का पछतावा नहीं था. 28 वर्षीय आतंकी ब्रेंटन टैरेंट ऑस्ट्रेलिया का रहने वाला है और उसने न्यूजीलैंड में इस घटना को अंजाम दिया.

  • आखिर हम चिंतित क्यों नहीं होते

    प्रदूषण को लेकर एक के बाद एक रिपोर्टें आ रही हैं, जिनमें भारत के शहरों की चिंताजनक स्थिति की ओर इशारा किया जा रहा है. बावजूद इसके, हम इस ओर आंख मूंदे हैं. कोई चिंता नहीं जतायी जा रही है. समाज में भी इसको लेकर कोई विमर्श नहीं हो रहा है.

  • सैन्य कार्रवाई की नयी लक्ष्मण रेखा

    विंग कमांडर अभिनंदन की सकुशल वापसी से पूरा देश प्रसन्न है. होना भी चाहिए. अभिनंदन ने अदम्य साहस का परिचय देते हुए भारतीय सीमा में घुसे पाकिस्तान के एफ-16 विमान को मार गिराया था, लेकिन इस संघर्ष में उनका मिग-21 विमान भी गिर गया और वह पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में जा पहुंचे.

  • सबक सिखाना है, पर धैर्य न खोएं

    पुलवामा हमले के बाद पूरा देश उद्वेलित हैं. देश के लोगों में आतंकवादियों और पाकिस्तान के खिलाफ भारी गुस्सा है. इतनी बड़ी संख्या में हमारे सुरक्षा बल के भाइयों के शहीद होने से हम आप सभी का उद्वेलित होना स्वाभाविक है, लेकिन इस उत्तेजना में हम आप आपा न खोएं. इससे हमें बचना है. पिछले दिनों कुछ स्थानों से ऐसी खबरें आयीं कि देश में कश्मीरियों को निशाना बनाया गया. यह चिंताजनक स्थिति है. ऐसी घटनाओं को तत्काल रोकना होगा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कश्मीरियों पर हुए हमले की सही वक्त पर निंदा की है.

  • वोट करें, देश गढ़ें : लोकतंत्र के महाकुंभ में भागीदार बनें

    चु नाव किसी भी लोकतंत्र का आधारस्तंभ होता है. विसंगतियों के बावजूद हर आम चुनाव हमारे लोकतंत्र को समृद्ध कर जाता है. यह सही है कि हरेक आम चुनाव राजनीति का एक नया संदेश देकर भी जाता है और पार्टियों के लिए तो आम चुनाव प्रतिष्ठा का प्रश्न होते हैं. हर दल पूरी ताकत झोंक कर उसे जीतने की कोशिश करता है.